सरकार किसान नेताओं को उनके घरों पर नजर बंद उनकी आवाज को नहीं दबा सकती: भगत सिंह वर्मा।

सरकार किसान नेताओं को उनके घरों पर नजर बंद उनकी आवाज को नहीं दबा सकती: भगत सिंह वर्मा।
  • घर में नजरबंद किसान नेता भगत सिंह वर्मा

देवबंद [24CN]: गुरूवार को ग्राम गंगदासपुर जट्ट में पश्चिम प्रदेश मुक्ति मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष व किसान नेता भगत सिंह वर्मा को सरकार के निर्देश पर देवबंद पुलिस द्वारा घर पर ही नजरबंद किया। पश्चिम प्रदेश मुक्ति मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष भगत सिंह वर्मा चीनी मिलों से पिछले वर्ष का बकाया गन्ना भुगतान गन्ना किसानों को दिलाने पिछले वर्षों में देरी से की गई गन्ना भुगतान पर लगा ब्याज गन्ना किसानों को दिलाने और गन्ने का लाभकारी रेट 600 कुंटल दिलाने उत्तर प्रदेश में बिजली के बढ़े हुए रेट कम कराने महंगाई पर अंकुश लगाने डीजल पेट्रोल व गैस के दाम कम कराने जैसी अनेक समस्याओं को लेकर किसानों के साथ भारत के गृहमंत्री अमित शाह उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से आज पुवारका मिलकर किसान और गरीबों की समस्याओं को हाल कराने के लिए बात करना चाहते थे लेकिन भाजपा की केंद्र व प्रदेश सरकार ने पुलिस के बल पर अन्नदाता किसानों की आवाज को दबाने का काम किया है ऐसा तो शायद अंग्रेजी हकूमत में भी न हुआ हो।

भगत सिंह वर्मा ने इस दौरान कहा कि जितना भाजपा की सरकार किसानों मजदूरों व गरीबों का शोषण करेगी उतना ही भाजपा को 2022 के चुनाव में इसका नुकसान देखने को मिलेगा। भगत सिंह वर्मा ने कहा कि भाजपा की केंद्र व प्रदेश सरकार किसान व गरीब विरोधी है। चीनी मिलों से पिछले वर्ष का भी गन्ना भुगतान अभी तक जिले के गन्ना किसानों को नहीं मिला है अभी भी सहारनपुर जिले की 4 चीनी मिलों पर 269 करोड रुपए गन्ना भुगतान बकाया है और पिछले वर्षों में देरी से किए गए गन्ना भुगतान पर लगा ब्याज सहारनपुर जिले की 6 चीनी मिलों पर 500 करोड रुपए बकाया है जिसे दिलाने के लिए भाजपा की योगी सरकार कोई कार्यवाही नहीं कर रही है इसके सवाल तो मुख्यमंत्री योगी से पूछे ही जाएंगे अब नहीं तो 2022 के विधानसभा चुनाव में जरूर ये सवाल किये जायेंगे।


पत्रकार अप्लाई करे Apply