टिकट बुकिंग में 100 से ज्यादा ट्रेनें गायब, Railway की बड़ी लापरवाही

 

 

  • 200 ट्रेनों में से 100 से ज्यादा ट्रेन आईआरसीटीसी की वेबसाइट पर दिख ही नहीं रहे थे
  • सही समय पर सिस्टम में ट्रेनों की फायरिंग ही नहीं हो पाई थी
  • ट्रेन की फायरिंग समय पर नहीं होने से यात्रियों को नहीं दिखी बुकिंग के लिए ट्रेन
  • कई यात्री तो गफलत में पड़ गए कि उनके रूट पर ट्रेन है ही नहीं

नई दिल्ली
कहते हैं, रेलवे बिना पुख्ता तैयारी के कोई काम शुरू नहीं करता। लेकिन आज जो कुछ हुआ, वह रेल प्रशासन के मुंह पर तमाचा से कम नहीं है। हुआ यह कि रेलवे ने आगामी एक जून से देश भर में चलायी जाने वाली 200 ट्रेनों की आज सुबह 10 बजे से बुकिंग शुरू की। लेकिन जब बुकिंग शुरू हुई तो आईआरसीटीसी के सर्वर में करीब 50 ट्रेनों का ही डाटा फीड हुआ था। रेलवे की भाषा में इसे फायरिंग कहते हैं। इसलिए यात्री परेशान हुए कि उनके रूट की ट्रेन के बारे में आईआरसीटीसी की साइट कुछ बता ही नहीं रही है।

क्या होती है फायरिंग
रेलवे के अधिकारी बताते हैं कि किसी भी ट्रेन की बुकिंग शुरू करने से पहले सिस्टम में उस ट्रेन से संबंधित सभी तरह की जानकारी फीड करनी होती है। मसलन ट्रेन में किस किस श्रेणी के डिब्बे होंगे, कितने डिब्बे होंगे, उसका स्टॉपेज क्या होगा, किस स्टॉपेज के लिए कितनी सीटें का कोटा तय होगा, दिव्यांग कोटा या अन्य कोटा कितना होगा। साथ ही उसमें किराया के बारे में भी जानकारी देनी होती है। अधिकारियों का कहना है कि यह काफी श्रमसाध्य और टाइम टेकिंग काम है। इसमें इस बात का ख्याल रखना होता है कि कहीं गलत जानकारी फीड न हो जाए।

देर से मिली जानकारी
सिस्टम से जुड़े सूत्र बताते हैं कि ट्रेन की फायरिंग के लिए देर से रेलवे बोर्ड से जानकारी मिली। बताया जाता है कि 200 ट्रेन चलाने के बारे में कल रात करीब 11 बजे तो फैसला ही हुआ। उसके बाद आधी रात को कुछ देर के लिए सिस्टम बंद किया जाता है। सिस्टम खुलने के बाद सीमित कर्मचारियों के साथ सिस्टम की ट्रेन में फायरिंग शुरू हुई। तब भी सुबह 10 बजे बुकिंग खुलते वक्त करीब 50 ट्रेनों की ही फायरिंग हो पाई थी। कोलकाता पीआरएस के दफ्तर मे तो सुपर साइक्लोन की वजह से पानी घुस गया था। इसलिए वहां तो ट्रेन की फायरिंग में ज्यादा ही दिक्कत हुई।

धीरे धीरे बढ़ रही है संख्या
आधिकारिक सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार आज सुबह 11 बजे तक 69 ट्रेनों की फायरिंग हो पाई थी जबकि दोपहर 12 बजे तक 73 ट्रेनों की। तब तक देश भर में कुल 1,49,025 टिकट या पीएनआर जनरेट हो चुके थे। इनमें कुल मिला कर 2,90,510 पैसेंजरों की बुकिंग हुई थी।

सुबह 10 बजे दिल्ली लखनऊ के बीच महज दो ट्रेन दिखी
यूं तो इन 200 ट्रेनों में दिल्ली और लखनऊ के लिए कई ट्रेनों की घोषणा हुई है, लेकिन आज सुबह 10 बजे इस मार्ग पर महज दो ट्रेन, महामना एक्सप्रेस स्पेशल और सरयू यमुना एक्सप्रेस स्पेशल ही दिखाया जा रहा था। इन दोनों में कुछ ही मिनटों में सारी सीटें भर गईं और वेटिंग दिखने लगा था।

NBT

 

 
 

Related posts

Top