लद्दाख में तनाव बढ़ा, चीन ने बढ़ाए सैनिक, भारत भी आक्रामक रुख पर अड़ा

 

 

  • लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर तनाव बढ़ता ही जा रहा है
  • चीन इलाके में अपनी सैन्य टुकड़ियां बढ़ा रहा है जिससे भारत चौकन्ना है
  • भारत ने भी चीन के बराबर सैन्य टुकड़ियां तैनात कर रहा है
  • 5 मई को दोनों तरफ से हुई हिंसक झड़प में भारत-चीन के 100 सैनिक जख्मी हो गए थे

नई दिल्ली
चीनी सेना लद्दाख के पैंगोंग त्सो लेक और गल्वान वैली के पास वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर अपनी टुकड़ियां तेजी से बढ़ा रही है। मतलब साफ है कि वह भारतीय सेना के साथ संघर्ष जल्द खत्म करने के मूड में नहीं है। इलाके की स्थिति से वाकिफ लोगों ने बताया कि चीनियों ने खासकर गल्वान वैली में पिछले दो हफ्तों में सैन्य टुकड़ियों के करीब-करीब 100 टेंट गाड़ दिए। चीनी सैनिक संभवतः बंकर बनाने के औजार भी ला रहे हैं। चीन की तरफ से ऐसा तब किया जा रहा है जब भारतीय सैनिक इसका जबर्दस्त विरोध कर रहे हैं।

भारत भी भेज रहा है बराबरी की सैन्य टुकड़ियां
इस बीच आर्मी चीफ जनरल मनोज मुकुंद नरावणे ने भी शुक्रवार को 14 कॉर्प्स के लेह स्थित मुख्यालय का दौरा किया और एलएसी पर विवादिस्त स्थल समेत पूरे इलाके की सुरक्षा हालात की समीक्षा की। सैन्य सूत्रों ने बताया कि भारतीय सेना भी त्सो लेक और ग्वालन वैली, दोनों जगहों पर चीनी टुकड़ियों की बराबरी में सैन्य टुकड़ियां भेज रही है। सूत्रों के मुताबिक, इलाके के कई अन्य संवेदनशील क्षेत्रों में भारत की स्थिति चीन से बेहतर है।

लद्दाख और सिक्किम में भीड़ चुके हैं दोनों तरफ के सैनिक
बीते 5 मई को पूर्वी लद्दाख में स्थिति तब बिगड़ गई जब करीब 250 चीनी और भारतीय सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हो गई और अगले दिन तक जारी रही। बाद में दोनों ओर के लोकल कमांडरों की मीटिंग हुई और दोनों तरफ के सैनिक पीछे हटे। दोनों तरफ के सैनिकों ने एक-दूसरे पर लाठी-डंडों से प्रहार के साथ-साथ पत्थरबाजी भी की। इस हिंसक झड़प में दोनों तरफ के करीब 100 सैनिक जख्मी हो गए थे। उसके बाद 9 मई को सिक्किम में यही घटना दुहराई गई। वहां नाकू ला दर्रा में करीब 150 भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हुई जिसमें दोनों तरफ के कम-से-कम 10 सैनिक घायल हो गए थे।

पांच बार हो चुकी हैं लोकल कमांडरों की मीटिंग
पिछले एक हफ्ते में ईस्टर्न लद्दाख में चीनी सौनिकों की तरफ से कई बार सीमा का उल्लंघन किए जाने की खबरें आईं। हालांकि, इस पर किसी तरह की आधिकारिक प्रतिक्रिया नहीं आई और न ही इसकी पुष्टि की गई। इस दौरान दोनों ओर के लोकल कमांडरों के बीच कम-से-कम पांच मीटिंग हुई। इन मीटिंग में भारतीय कमांडर ने गल्वान वैली में पीपल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) की तरफ से बड़ी संख्या में टेंट गाड़े जाने पर आपत्ति दर्ज कराई। सूत्रों के मुताबिक, पीएलए जिस इलाके में टेंट गाड़ रहा है, भारत उसे अपना इलाका मानता है।

भारत ने गुरुवार को कहा कि चीनी सैनिक भारतीय पेट्रोलिंग टीम की ड्यूटी में बाधा पहुंचा रहे हैं। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने चीन के दावे सिरे से खारिज कर दिया कि भारतीय सेना ने चीनी सीमा में प्रवेश किया जिसके बाद इलाके में तनाव बढ़ गया।

 
 

Related posts

Top