कोरोना वायरस की दवा बनाने वाली कंपनी को हुआ तगड़ा मुनाफा, जानिए कितना

 

 

  • ग्लेनमार्क फार्मास्युटिकल्स को 31 मार्च 2020 को समाप्त चौथी तिमाही में 220.3 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ हुआ
  • यह साल भर पहले की इसी तिमाही के 161.66 करोड़ रुपये की तुलना में 36.28 प्रतिशत अधिक है
  • ग्लेनमार्क फार्मास्युटिकल्स ने कोविड-19 के इलाज के लिए एंटीवायरल दवा फेविपिराविर को फैबिफ्लू ब्रांड नाम से पेश किया था
  • इसकी कीमत 103 रुपये प्रति टैबलेट रखी गई

नई दिल्ली
कोरोना वायरस की दवा (coronavirus medicine) बनाने वाली कंपनी ग्लेनमार्क फार्मास्युटिकल्स (glenmark pharma profit) को 31 मार्च 2020 को समाप्त चौथी तिमाही में 220.3 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ हुआ। यह साल भर पहले की इसी तिमाही के 161.66 करोड़ रुपये की तुलना में 36.28 प्रतिशत अधिक है। कंपनी ने शेयर बाजारों को बताया कि इस दौरान उसका एकीकृत राजस्व 7.96 प्रतिशत बढ़कर 2,767.48 करोड़ रुपये पर पहुंच गया। यह साल भर पहले की इसी तिमाही में 2,563.47 करोड़ रुपये था। पूरे वित्त वर्ष के आधार पर 2019-20 में कंपनी को 2018-19 के 924.99 करोड़ रुपये के मुकाबले 775.97 करोड़ रुपये का एकीकृत शुद्ध लाभ हुआ।

इस दौरान कंपनी का राजस्व भी 9,865.46 करोड़ रुपये के मुकाबले बढ़कर 10,640.96 करोड़ रुपये पर पहुंच गया। ग्लेनमार्क फार्मास्युटिकल्स के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक (एमडी) ग्लेन सल्दान्हा ने कहा, “कोविड-19 महामारी और वैश्विक बाजारों में जेनरिक दवा के चुनौतीपूर्ण कारोबारी माहौल के बावजूद चौथी तिमाही में हमारी वृद्धि की रफ्तार बरकरार रही।” कंपनी के निदेशक मंडल ने वित्त वर्ष 2019-20 के लिये अपने शेयरधारकों को एक रुपये अंकित मूल्य के प्रत्येक शेयर पर 2.50 रुपये यानी 250 प्रतिशत लाभांश देने की सिफारिश

103 रुपए की बनाई थी टैबलेट
ग्लेनमार्क फार्मास्युटिकल्स ने कोविड-19 से मामूली रूप से पीड़ित मरीजों के इलाज के लिए एंटीवायरल दवा फेविपिराविर को फैबिफ्लू ब्रांड नाम से पेश किया था। इसकी कीमत 103 रुपये प्रति टैबलेट रखी गई। ग्लेनमार्क फार्मास्युटिकल्स ने कहा कि यह दवा 200 एमजी में उपलब्ध होगी। इसके 34 टैबलेट के पत्ते की कीमत 3,500 रुपये है। कंपनी ने कहा कि फैबिफ्लू कोविड-19 के इलाज के लिए फेविपिराविर दवा है, जिसे मंजूरी मिली है। यह दवा चिकित्सक की सलाह पर 103 रुपये प्रति टैबलेट के दाम पर मिलेगी। पहले दिन इसकी 1800 एमजी की दो खुराक लेनी होगी। उसके बाद 14 दिन तक 800 एमजी की दो खुराक लेनी होगी।

 
 

Related posts

Top