”आत्मनिर्भर यूपी रोजगार अभियान” मात्र जुमला और झूठ का पुलिंदा : विपक्ष का आरोप

 

लखनऊ, 26 जून (भाषा) उत्तर प्रदेश के प्रमुख विपक्षी दलों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा शुक्रवार को शुरू किए गए ‘आत्मनिर्भर यूपी रोजगार अभियान’ की विश्वसनीयता पर सवाल उठाते हुए इसे मात्र ‘जुमला और झूठ का पुलिंदा’ करार दिया है।
सपा अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने ट्वीट कर कहा “मनरेगा में जनता को नाममात्र के अस्थायी रोज़गार का झुनझुना देने की जगह मुख्यमंत्री ये बताएं कि तथाकथित ‘इंवेस्टर मीट्स’ और ‘डिफ़ेंस एक्सपो’ के बाद हुए कितने करार सच में बैंकों के सहयोग से ज़मीन पर उतरे हैं और उनसे कितनों को सच्चा रोज़गार मिला है।” इस बीच, कांग्रेस ने ‘आत्मनिर्भर यूपी रोजगार अभियान’ के तहत अन्य प्रदेशों से लौटे मजदूरों को रोजगार देने के ऐलान को ‘झूठ का पुलिंदा’ करार दिया। प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने पार्टी के राज्य मुख्यालय पर आयोजित श्रमिक महापंचायत में आरोप लगाया कि मौजूदा सरकार ने एक भी मजदूर को रोजगार नहीं दिया है बल्कि मजदूर, गरीब विरोधी योगी सरकार मजदूरों को धोखा दे रही है।
उन्होंने कहा कि ‘आत्मनिर्भर यूपी रोजगार अभियान’ के तहत अन्य प्रदेशों से लौटे मजदूरों को नया रोजगार देने की बात करना ‘झूठ और फरेब का पुलिंदा’ है।
लल्लू ने दावा किया कि एक भी मजदूर को उसकी योग्यता में इजाफा करते हुए कोई नया सम्मानित प्रतिष्ठित रोजगार नहीं दिलाया गया। उन्होंने कहा कि प्रदेश का मजदूर चाहता था कि उसके कौशल को किसी संगठित उद्योग धंधे में लगाया जाए।
इस बीच, आम आदमी पार्टी के उत्तर प्रदेश प्रभारी और राज्यसभा सदस्य संजय सिंह ने इस कार्यक्रम को जुमला मात्र करार देते हुए आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हर 15 दिन पर एक नया जुमला लेकर आते हैं।
उन्होंने कहा कि मोदी ने 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान वादा किया था कि हर साल दो करोड़ लोगों को रोजगार दिया जाएगा, उस हिसाब से अब तक 12 करोड़ को रोजगार मिल जाना चाहिए था। उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा की नीतियों की वजह से करोड़ों लोग बेरोजगार हो चुके हैं।
उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री इससे पहले स्टैंड अप इंडिया, स्टार्टअप इंडिया, डिजिटल इंडिया समेत कई जुमले जनता के सामने पेश कर चुके हैं लिहाजा आत्मनिर्भर यूपी रोजगार अभियान भी किसी जुमले से ज्यादा कुछ नहीं है।
गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को वीडियो काफ्रेंस के माध्यम से ‘आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार अभियान’ का शुभारंभ किया। इस अभियान के तहत प्रदेश में सवा करोड़ लोगों को रोजगार दिए जाने का लक्ष्य तय किया गया है।

 
 

Related posts

Top