कोविड-19: देश में संक्रमित हुए 90 हजार के पार, प्रवासी मजूदरों के साथ गांवों में पहुंचा कोरोना

 

 

  • शनिवार को देश भर में आए मामलों के बाद कोरोना से संक्रमित मरीजों की संख्‍या बढ़कर 90,648 हो गई
  • देश भर के कोरोना संक्रमण के आधे से ज्‍यादा मामले- मुंबई, दिल्ली, अहमदाबाद, चेन्नई और पुणे में हैं
  • देश में कोरोना से होने वाली लगभग 28 हजार मौतों में से आधी इन पांच शहरों में दर्ज की गई हैं

नई दिल्ली
देश के तमाम राज्यों में कोरोना के नए मामले आने के साथ ही शनिवार को देश में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 90,000 के पार पहुंच गई। शनिवार को यह 90,648 हो गई है। नए मामलों में ज्यादातर उन लोगों से जुड़े हैं जो विदेश से लौट रहे हैं या देश के बड़े शहरों से अपने-अपने घर पहुंच रहे हैं और इस घातक कोरोना वायरस संक्रमण को अपने साथ गांवों तक लेकर जा रहे हैं।

देश के बड़े शहरों की स्थिति अभी भी सबसे खराब है। देश में कोरोना वायरस से संक्रमित हुए लोगों में से 50 प्रतिशत से ज्यादा लोग महज पांच शहरों मुंबई, दिल्ली, अहमदाबाद, चेन्नई और पुणे में रहते हैं। इन पांचों शहरों में करीब 46,000 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हैं। देश में अभी तक करीब 2,800 लोगों की मौत कोरोना वायरस संक्रमण से हुई है जिनमें से करीब आधे इन पांच शहरों से हैं।

कोरोना वायरस के बारे में जानें ये 10 बातें

  • कोरोना वायरस के बारे में जानें ये 10 बातें

  • ​कोविड क्या है?

    कोविड, कोरोना वायरस के कारण होने वाला एक संक्रामक रोग है। इसे कोविड-19 के नाम से भी जानते हैं।
  • ​क्या करता है?

    कोरोना वायरस श्वास नली को म्यूकस से ब्लॉक करने लगता है जिसके कारण व्यक्ति को सांस लेने में परेशानी होने लगती है।
  • कैसे फैलता है?

  • ​लक्षण

    कोरोना वायरस से संक्रमित होने वाले व्यक्ति में बुखार, गले में खराश, सूखी खांसी, सांस लेने में तकलीफ और सिर दर्द जैसे लक्षण दिखाई देते हैं।
  • ​किन्हें ज्यादा खतरा है?

    अंडरलाइंग डिसीज और कमजोर रोग प्रतिरोधक क्षमता वाले लोगों को कोरोना वायरस की चपेट में आने का सबसे ज्यादा खतरा है।
  • ​कब तक जिंदा रहता है ?

    कोरोना वायरस हवा में कुछ घंटों तक और किसी सतह पर 3 से 4 दिनों तक जीवित रहकर किसी को भी संक्रमित कर सकता है।
  • ​कैसे बचें

    सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। संक्रमित व्यक्ति से दूर रहें और मास्क पहनें। आंख, नाक और मुंह को छूने से पहले हाथों को सैनिटाइजर से साफ करें।
  • ​इलाज क्या है?

    कोरोना वायरस को रोकने के लिए अभी तक कोई वैक्सीन नहीं तैयार हुई है। डॉक्टर अलग-अलग तरह से इलाज करके कुछ मरीजों को ठीक कर रहे हैं।
  • ​कितना खतरनाक है?

    संक्रमण की चपेट में आने वाले व्यक्ति का अगर सही समय पर इलाज ना हो तो उसकी मौत भी हो जाती है। पूरी दुनिया में अब तक इससे लाखों लोगों की मौत हो चुकी है।

 

प्रवासी मजदूरों के लिए हालात और खराब
कोरोना और उसके कारण लॉकडाउन से परेशान प्रवासी श्रमिकों के लिए स्थिति और ज्यादा खराब और जानलेवा साबित हो रही है। शनिवार को अपने-अपने घर लौटने की चाह में निकले कम से कम 35 प्रवासी श्रमिक उत्तर प्रदेश और मध्यप्रदेश में सड़क दुर्घटनाओं में मारे गए हैं, जबकि कई अन्य घायल हुए हैं। इनमें से ज्यादातर ट्रकों से अपने घर लौटने की कोशिश कर रहे थे, जबकि कुछ अन्य ऑटोरिक्शा ले कर घर जा रहे थे।

पैदल ही निकल पड़े घरों की ओर
देश में 22 मार्च को जनता कर्फ्यू के बाद 24 मार्च आधी रात से लागू लॉकडाउन के बाद लाखों की संख्या में प्रवासी मजदूरों ने अपने-अपने घर जाने की ठानी और पैदल ही चल पड़े। जीविका और रहने की जगह गंवाने के बाद इन सभी को अपने गांव लौटने के अलावा और कोई रास्ता नहीं दिख रहा था। हालांकि, सरकारें (केन्द्र और राज्य) प्रवासी कामगारो के लिए ‘श्रमिक विशेष’ ट्रेनें चला रही है, कुछ राज्य सरकारों ने बसों का भी इंतजाम किया है, लेकिन अभी भी इन बसों और ट्रेनों का संपर्क देश के हर कोने से नहीं जुड़ सका है और मजदूर बड़ी संख्या में सड़कों पर हैं।

रविवार को लॉकडाउन 3.0 का आखिरी दिन
लॉकडाउन 3.0 रविवार की रात समाप्त होने वाला है और सोमवार से इसके चौथे चरण की शुरुआत होनी है। आशा है कि इस चरण में विभिन्न आर्थिक गतिविधियों को छूट दी जाएगी, लेकिन लॉकडाउन की पूर्ण समाप्ति अभी भी संभव नहीं लग रही है क्योंकि लोगों की आवाजाही बढ़ने के कारण कोविड-19 के मामलों मे भी तेजी से वृद्धि हो रही है।

कोरोना रोगियों की संख्‍या में भारत 11वें नंबर पर
दुनिया में कोरोना वायरस से संक्रमित हुए लोगों की संख्या के आधार पर भारत 11वें स्थान पर है। वहीं अमेरिका, रुस, ब्राजील,फ्रांस, इटली, स्पेन और पेरु के बाद भारत ऐसा देश है जहां सबसे ज्यादा संख्या में कोरोना वायरस संक्रमण के लिए लोगों का इलाज चल रहा है।

कुछ राज्‍यों में बढ़ा लॉकडाउन
भारत में भी कुछ राज्यों ने वायरस संक्रमण के फैलने की आशंका जताते हुए लॉकडाउन की अवधि में विस्तार करने की माग की है। वहीं पंजाब ने तो लॉकडाउन की अवधि बढ़ाकर 31 मई तक कर दी है, हालांकि उसने राज्य में लगा कर्फ्यू हटाने की बात भी कही है। दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण से मरने वालों की संख्या शनिवार को बढ़कर 129 हो गई जबकि इस महामारी से संक्रमित लोगों का आंकड़ा 9,333 तक पहुंच गया है।

अकेले मुंबई में 18,396 संक्रमित
मुंबई में कोरोना वायरस संक्रमण के 884 नए मामले सामने आए जिससे शहर में संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 18,396 हो गई जबकि 41 और लोगों की मौत के साथ ही मरने वालों की संख्या बढ़कर 696 पहुंच गई है। महाराष्ट्र में कोविड-19 के 1,606 नये मामले सामने आए जिसके साथ राज्य में कुल संक्रमितों की संख्या 30 हजार के पार हो गई है। वहीं महाराष्ट्र में शनिवार को कोरोना वायरस से मुंबई में 41 मौतों सहित 67 लोगों ने जान गंवाई जिससे राज्य में कुल मृतकों की संख्या 1,135 हो गई है।

गुजरात में 709 सुपर स्‍प्रेडकर की पहचान
गुजरात की औद्योगिक राजधानी अहमदाबाद में कोविड-19 के 973 नए मामले आए हैं। वहीं, 14 और लोगों की कोरोना वायरस संक्रमण से मौत हुई है। अहमदाबाद जिले में अभी तक 8,144 लोगों के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है। उन्होंने बताया कि जिले में शनिवार को आए 973 नए मामलों में से 709 ‘सुपर स्प्रेडर’ हैं। गुजरात में कोविड-19 के 1057 नए मामले आने के साथ ही कोरोना वायरस से संक्रमितों की संख्या बढ़कर 10,989 हो गई।

ओडिशा में 65 और लोगों को कोविड-19 से संक्रमित पाया गया है जिससे राज्य में संक्रमण के मामलों की कुल संख्या बढ़कर 737 हो गई। जाजपुर में कोरोना वायरस के 31 नए मामले सामने आए, जबकि गंजाम में 13 और कटक में छह मामले सामने आए। केंद्रपाड़ा और पुरी में चार-चार मामले सामने आए, वहीं तीन मामले खुर्दा और दो-दो मामले मयूरभंज और नयागढ़ में पाए गए।

केरल में 55 हजार निगरानी में
केरल में 11 लोगों के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि होने के साथ राज्य में कोविड-19 के उपचाराधीन मरीजों की संख्या बढ़कर 87 हो गई है। वहीं राज्य में करीब 55 हजार लोगों को निगरानी में रखा गया है। तमिलनाडु में कोविड-19 से शनिवार को तीन और लोगों की मौत हुई, जबकि 477 नये मामले सामने आए हैं। स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक इसके साथ राज्य में कोरोना वायरस से संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 10,585 हो गई है। वहीं राज्य सरकार ने प्रदेश के सभी नाईयों को राहत देते हुए उन्हें दो-दो हजार रुपये की सहायता राशि देने की बात कही है।

कोरोना को हराकर घर लौटीं 94 साल की दादीकहा जा रहा है कि कोरोना वायरस से बुजुर्गों को ज्यादा खतरा है, लेकिन महाराष्ट्र के सांगली में 94 साल की महिला की कहानी इस धारणा को झुठला रही है। देखिए ये वीडियो रिपोर्ट।

 

 
 

Related posts

Top