कोरोना: SAARC के बाद G20 ने भी मानी पीएम मोदी की बात, अगले हफ्ते वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से होगा विशेष सम्मेलन

 
हाइलाइट्स
  • दक्षेस नेताओं से बातचीत के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ग्रुप20 नेताओं से बातचीत की पेशकश की
  • कोरोना पर प्रधानमंत्री की यह पेशकश ग्रुप के मौजूदा अध्यक्ष सऊदी अरब को अच्छा लगा
  • सऊदी अरब ने आधिकारिक बयान जारी कर अगले हफ्ते वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से सम्मेलन बुला लिया

नई दिल्ली
दक्षेस (SAARC) की तरह ही G20 ने भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आइडिया स्वीकार करते हुए कोरोना वायरस के खिलाफ साझी रणनीति पर विचार के लिए संगठन में शामिल देशों के प्रतिनिधियों के बीच वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के आयोजन पर हामी भर दी है। जी20 का मौजूदा अध्यक्ष सऊदी अरब है। यही वजह है कि प्रधानमंत्री ने मंलवार को वहां के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान से फोन पर बात की और कोरोना से लड़ने के लिए आपसी साझेदारी पर चर्चा की जरूरत पर जोर दिया।

एक्स्ट्राऑर्डिनरी समिट का आह्वान
क्राउन प्रिंस ने भी प्रधानमंत्री के इस विचार पर आगे बढ़ने का फैसला किया और कहा कि इस संबंध में सऊदी अरब और भारत के अधिकारी करीबी संपर्क में रहेंगे। इस बातचीत के बाद G20 की तरफ से आधिकारिक बयान जारी किया गया जिसमें नेताओं का असाधारण सम्मेलन (एक्स्ट्राऑर्डिनरी लीडर्स समिट) बुलाए जाने का आह्वान किया गया है।

अगले हफ्ते होगा सम्मेलन
इस आधिकारिक बयान में कहा गया है, ‘अध्यक्ष सऊदी अरब G20 देशों से अगले हफ्ते एक्स्ट्राऑर्डिनरी वर्चुअल जी20 समिट बुलाने की सूचना दे रहा है। ताकि कोविड-19 महामारी, इसके मानवीय और आर्थिक प्रभावों को लेकर समन्वित जवाबदेही पर विचार किया जा सके।’ अर्जेंटिना, ऑस्ट्रेलिया, ब्राजील, कनाडा, चीन, जर्मनी, फ्रांस, भारत, इंडोनेशिया, इटली, जापान, मेक्सिको, रूस, सऊदी अरब, दक्षिण अफ्रीका, दक्षिण कोरिया, तुर्की, यूके और अमेरिका सहित 19 देशों के अलावा यूरोपियन यूनियन G20 का सदस्य है।

NBT

G20 का आधिकारिक बयान।

सार्क के नेताओं से भी हो चुकी बातचीत
गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीते शुक्रवार को दक्षिण एशियाई सहयोग संगठन (SAARC) देशों से कोरोना वायरस के संक्रमण से होने वाली महामारी कोविड- 19 से निपटने की साझी रणनीति पर चर्चा का आह्वान किया था। पीएम की इस अपील का संगठन में शामिल सभी देशों- अफगानिस्तान, बांग्लादेश, भूटान, मालदीव, श्रीलंका, नेपाल और पाकिस्तान ने समर्थन किया। इस आह्वान पर सभी आठ दशों के प्रतिनिधियों के बीच रविवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से बातचीत हुई। इस दौरान पीएम मोदी ने कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए सार्क को 1 करोड़ अमेरिकी डॉलर की सहायता राशि देने का ऐलान किया।

 
 

Related posts

Top