CAA विरोध के नाम पर जाफराबाद में हिंसा: हेड कॉन्स्टेबल की गोली मारकर हत्या, डीसीपी घायल

 

नई दिल्ली: नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के विरोध के नाम पर देश की राजधानी दिल्ली में जगह-जगह हो रहे प्रदर्शनों के बीच भड़की हिंसा में आज दिल्ली पुलिस के एक हेड कॉन्स्टेबल की गोली मारकर हत्या कर दी गई। वहीं उपद्रवियों के हमले में एक डीसीपी भी घायल हो गए हैं। इसके अलावा प्रदर्शनकारियों की ओर की जा रही पत्थरबाजी में कई पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं। गोकुलपुरी इलाके में प्रदर्शनकारियों की तरफ से की गई फायरिंग में हेड कॉन्स्टेबल की जान चली गई। घायल हुए डीसीपी का नाम अमित शर्मा हैं, जिनकी पोस्टिंग शाहदरा में है।

बताया जा रहा है कि विरोधियों की ओर से की गई फायरिंग में रतन लाल नाम के हेड कॉन्स्टेबल की मौत हो गई। हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल सहायक पुलिस आयुक्त के कार्यालय से जुड़े हुए थे। जाफराबाद इलाके में भारी संख्या में प्रदर्शनकारी अब भी जमा हैं। प्रदर्शनकारियों ने मौजपुर में दो घरों को आग के हवाले कर दिया है। विरोध के नाम पर सरेआम गुंडागर्दी जारी है।

NBT

मारे गए रतन लाल का फाइल फोटो और हिंसा की तस्वीर।

केजरीवाल बोले, कृपया हिंसा त्याग दीजिए
हेड कॉन्स्टेबल की मौत पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा कि पुलिस हेड कॉन्स्टेबल की मौत बेहद दुखदायी है। वह भी हम सबमें से एक थे। कृपया हिंसा त्याग दीजिए। इससे किसी का फायदा नहीं। शांति से ही सभी समस्याओं का हल निकलेगा।

लोगों को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागे हैं। जाफराबाद में तनावपूर्ण हालात बने हुए हैं। यहां एक शख्स बीच रोड पर फायरिंग करते हुए देखा गया। उपद्रवियों ने यहां एक पेट्रोल पंप को भी आग के हवाले कर दिया। पिछले कुछ घंटों से इलाके का माहौल काफी खराब हो गया है।

दिल्ली में भारी बवाल, पुलिस के सामने 8 राउंड फायरिंगनॉर्थ ईस्ट दिल्ली में रविवार को शुरू हुए हिंसक प्रदर्शन आज भी रुकने का नाम नहीं ले रहे हैं। अब इसकी चिंगारी मानों आसपास के अन्य इलाकों में भी पहुंच गई। आज सीलमपुर में गोलियां चलीं। भजनपुरा में आगजनी की खबरें हैं। कई बाइक्स को फूंक दिया गया। हिंसा के दौरान का एक विडियो भी आया है। इसमें शख्स ने पुलिसवाले के सामने गोलियां चलाई हैं। विडियो में दिख रहा है कि शख्स पुलिसवाले के सामने बंदूक लेकर बढ़ता है। पुलिसवाले के रोकने के बावजूद वह वहां गोलियां चला देता है। खबरों के मुताबिक, उसने 8 गोलियां चलाई थीं। गोली चालने वाले शख्स को सीएए के खिलाफ धरने पर बैठा हुआ बताया जा रहा है। प्रदर्शन के चलते हिंसा अब आसपास के इलाकों में भी फैल चुकी है। भजनपुरा के पास चांदबाग में सीएए के खिलाफ धरनास्थल पर पत्थरबाजी हो रही है। ऐसी खबरें हैं कि यहां भी फायरिंग हुई है।

घटनास्थल पर पैरा मिलिट्री रवाना
बताया जा रहा है कि इलाके में अभी पर्याप्त संख्या में पुलिस बल नहीं हैं, लेकिन सूचना मिल रही है कि कुछ ही समय में यहां पैरा मिलिट्री फोर्स की कंपनी पहुंचने वाली है। उपद्रवी बेखौफ दिख रहे हैं। वे पुलिस पर शराब की बोतलों से हमला कर रहे हैं। इसके अलावा लगातार फायरिंग भी की जा रही है। पुलिस लगातार माइक के जरिए उनसे शांति बनाए रखने की अपील कर रही है, जिसका कोई असर होता नहीं दिख रहा है।

NBT

सीएम केजरीवाल ने केंद्र सरकार से मांगी मदद
दिल्ली में हालात बिगड़ता देख मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने केंद्र सरकार से मदद की गुहार लगाई है। सीएम केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा, ‘ दिल्ली के कुछ हिस्सों में शांति और सद्भाव में गड़बड़ी की सूचना परेशान करने वाली है। मैं उपराज्यपाल और केंद्रीय गृह मंत्री से कानून और व्यवस्था को बहाल करने का आग्रह करता हूं। साथ ही किसी को भी माहौल खराब करने की अनुमति नहीं दी जा सकती है।’

वहीं, उपराज्यपाल अनिल बैजल ने दिल्ली पुलिस आयुक्त को कानून व्यवस्था बनाए रखने का निर्देश दिया है।

दो मेट्रो स्टेशन किए गए बंद
इससे पहले उत्तर-पूर्वी दिल्ली के मौजपुर इलाके में सोमवार को प्रदर्शनकारियों ने एक-दूसरे पर पथराव किया, जिसके बाद पुलिस ने स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए फ्लैग मार्च किया। लोगों का कहना है कि प्रदर्शनकारियों द्वारा श्मशान की तरफ से पथराव किया गया है। इस बीच दिल्ली मेट्रो ने मौजपुर-बाबरपुर मेट्रो स्टेशन के प्रवेश और निकास द्वार को बंद करने की घोषणा की है।

आपको बता दें कि सीएए के समर्थक और विरोधी गुटों के बीच रविवार को भी पत्थरबाजी हुई थी। सीएए समर्थक समूहों ने मौजपुर-बाबरपुर मेट्रो स्टेशन और मौजपुर चौक पर रैली की थी, जबकि सीएए विरोधी प्रदर्शनकारियों ने कबीर नगर और जाफराबाद क्षेत्र में अपना विरोध जताया था।

हालात तनावपूर्ण: दिल्ली पुलिस
पूर्वी रेंज के दिल्ली पुलिस के जॉइंट कमिश्नर आलोक कुमार ने मीडियाकर्मियों से कहा कि आसपास के क्षेत्र में स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है और पुलिस स्थिति की निगरानी कर रही है। हिंसा के दौरान सुरक्षा बलों पर पथराव के बाद पर्याप्त पुलिस कर्मियों को तैनात किया गया है। इस बीच यह अफवाहें भी चलीं कि बीजेपी नेता कपिल मिश्रा और उनके समर्थक पथराव कर रहे हैं और कुछ रिपोर्टों में कहा गया कि गाड़ियों में भी तोड़फोड़ की गई है।

लोगों ने पुलिस की भूमिका पर सवाल उठाए हैं। आरोप है कि जब झड़पें हुईं तो पुलिसकर्मी मूकदर्शक बने रहे और हिंसा को रोकने के प्रयास नहीं किए गए। खबरों के मुताबिक हालात बिगड़ते देख सीआरपीएफ की टीम को आसपास के इलाकों में तैनात किया गया है। शनिवार रात से ही दिल्ली के पूर्वी हिस्से में तनाव पसरा है, जिसके बाद जाफराबाद में एक सड़क की नाकेबंदी भी की गई है।

 
 
Top