US थिंक टैंक की सलाह- चीन के खिलाफ पेंटागन बनाए नई राष्ट्रीय रक्षा रणनीति, एशियाई महाशक्ति को दे प्राथमिकता

 

वॉशिंगटनः अमेरिका और चीन के बीच बढ़ रहे तनाव को देखते हुए अमेरिकी थिंक टैंक की टैंशन बढ़ भी गई है। एक अमेरिकी थिंक टैंक ने सुझाव दिया है कि पेंटागन को इस सर्दियों में चीन के खिलाफ नई राष्ट्रीय रक्षा रणनीति (NDS ) तैयार करने के लिए एशियाई महाशक्ति को स्पष्ट रूप से प्राथमिकता देनी चाहिए। अमेरिकी थिंक टैंक ने कहा कि चीन कोरोना वायरस महामारी के चलते पाकिस्तान और श्रीलंका की चरमराती आर्थिक स्थिति का फायदा उठाकर उनके साथ संबंध मजबूत कर हिंद महासागर में अपनी स्थिति मजबूत करने की कोशिश कर रहा है।

PunjabKesari

उन्होंने सुझाव दिया कि चीन को रोकने के लिए अमेरिका तथा भारत को कोई योजना बनानी चाहिए। सेंटर फॉर ए न्यू अमेरिकन सिक्योरिटी (CNAS) ने 27 जुलाई को प्रकाशित एक रिपोर्ट में कहा कि पिछले कई वर्षों के दौरान चीन की संदिग्ध कार्रवाइयों ने न सिर्फ अमेरिका बल्कि पूरी दुनिया को नुकसान पहुंचाया इसलिए नई राष्ट्रीय रक्षा रणनीति बनाई जाए जो केवल चीन पर ध्यान केंद्रित करे। रिपोर्ट के अनुसार, अमेरिकी रक्षा सचिव जेम्स एन मैटिस ने जनवरी 2018 में एनडीएस पर हस्ताक्षर किए थे जो कि ‘पहली बार संकेत ‘ था कि पेंटागन को चीन खिलाफ मजबूत रणनीति बनानी चाहिए” ।

PunjabKesari

CNAS की रिपोर्ट में दर्शाया गया है कि नया NDS 2021 में रक्षा सचिव के लिए मूल रूप से तीन उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए एक अवसर है। । गौरतलब है कि हिंद महासागर में चीन की बढ़ती मौजूदगी से अमेरिका के अलावा भारत, ब्रिटेन, आस्ट्रेलिया और जापान भी चिंता है। भारत मुख्यत: चीन की बढ़ती आक्रामकता को रोकने के उद्देश्य से श्रीलंका, मालदीव, इंडोनेशिया, थाईलैंड, वियतनाम, म्यामां और सिंगापुर सहित क्षेत्र के देशों के साथ समुद्री सहयोग बढ़ाने की कोशिश करता रहा है। थिंक टैंक के अनुसार अगर पेंटागन एशियाई देशों को विश्वास में लेकर चीन के खिलाफ नई रणनीति तैयार करता है तो ड्रैगन की आक्रामक व विस्तारवादी पर अंकुश लगाया जा सकता है।

PunjabKesari

 
 

Related posts

Top