ब्लड शुगर टेस्ट स्ट्रिप सस्ते में प्राप्त करे
Dr. Morepen BG-03 Blood Glucose Test Strips, 50 Strips (Black/White)

MP: ‘लव जिहाद’ पर विधानसभा के प्रोटेम स्पीकर की योगी आदित्यनाथ को चिट्ठी, मांगा प्रस्तावित कानून का मसौदा

 
mp_protem_

भोपाल : उत्तर प्रदेश की योगी सरकार की तर्ज पर एमपी में भी जल्द ही लव जिहाद कानून का मसौदा तैयार हो सकता है. सीएम शिवराज के बाद अब मध्यप्रदेश विधानसभा के प्रोटेम स्पीकर ने यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को चिट्ठी लिखकर लव जिहाद कानून का मसौदा मांगने की तैयारी कर ली है जिससे एमपी में लव जिहाद कानून को अमलीजामा पहनाया जा सके. हालांकि कांग्रेस ने इसे स्पीकर के पद की गरिमा के खिलाफ बताया है.

लव जिहाद के लिए अब मध्यप्रदेश में भी कानून को लेकर तेजी से सुगबुगाहट हो रही है. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के लव जिहाद पर कानून बनाए जाने के ऐलान के बाद अब मध्यप्रदेश विधानसभा के प्रोटेम स्पीकर ने इस दिशा में एक कदम आगे बढ़ाते हुए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर लव जिहाद कानून बनाने का मसौदा मांगने की तैयारी कर ली है.

रामेश्वर शर्मा का कहना है कि जिस तरह से नाम बदलकर लड़की को धोखा दिया जाता है और फिर उसके साथ जो कुछ भी होता है ऐसे में जरूरी है कि देश भर में इसके लिए एक सा कानून बने. रामेश्वर शर्मा ने कहा कि पिछले कई मामलों में ऐसा देखने में आया है कि एक राज्य में कानून के तहत अलग कार्रवाई होती है और दूसरे राज्य में अलग कार्रवाई होती है, इसीलिए मैंने योगी आदित्यनाथ को चिट्ठी लिखी है जिससे उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश में एक जैसा कानून बन पाएगा. हालांकि जब आज तक ने प्रोटेम स्पीकर से पूछा कि संवैधानिक पद पर होने के बावजूद वो इस तरह के फैसले कैसे ले सकते हैं तो उन्होंने कहा कि ‘बेटियों की रक्षा करना भी एक कर्तव्य है जो संविधान में दिया है’.

आपको बता दें कि मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी लव जिहाद के खिलाफ बड़ा बयान दे चुके हैं और साफ कर दिया है कि मध्यप्रदेश में ऐसे मामले सामने आने पर उससे सख्ती से निपटा जाएगा और जल्द ही मध्य प्रदेश में लव जिहाद के खिलाफ कानून को अमली जामा पहना दिया जाएगा. बुधवार को मंत्रालय में गृह विभाग के मंत्री और अफसरों की एक हाई लेवल मीटिंग में भी यह तय किया गया है.

इस मामले में अब कांग्रेस लव जिहाद कानून और संवैधानिक पद पर बैठे विधानसभा के प्रोटेम स्पीकर की कानूनी प्रक्रिया में दखलंदाजी पर सवाल कर रही है. पूर्व मंत्री पीसी शर्मा का कहना है कि इस कानून की आड़ में बीजेपी समाज में द्वेष फैलाने के साथ अपना एजेंडा फिक्स कर रही है, जबकि संविधान में महिलाओं की सुरक्षा के लिए पहले से ही सख्त कानून हैं. पीसी शर्मा ने मांग की है कि अब मध्य प्रदेश में चुनाव हो चुके हैं ऐसे में जल्द ही विधानसभा में स्थाई विधानसभा अध्यक्ष का चुनाव होना चाहिए और रामेश्वर शर्मा को तत्काल इस पद से हटा देना चाहिए.

 
 

Related posts

Top