आखिर खत्म हुआ 28 सालों का इंतजार, टेंट से निकल अस्थायी मंदिर में शिफ्ट हुए रामलला

 

जन्मभूमि परिसर में रामलला बुधवार को नवरात्रि के पहले दिन अस्थाई फाइबर मंदिर में विराजमान हो गए। बीते 28 सालों से टेंट में विराजमान रामलला की शिफ्टिंग से पहले अस्थायी मंदिर का शुद्धिकरण किया गया। इस दौरान यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी मौजूद थे।

​ब्रह्म मूहूर्त में अस्थायी मंदिर में शिफ्ट हुए रामलला

NBT

बुधवार को सुबह ब्रह्म मूहूर्त में करीब 4 बजे श्रीरामजन्मभूमि परिसर में स्थित गर्भगृह में रामलला को स्नान और पूजा-अर्चना के बाद अस्थायी मंदिर में शिफ्ट कर दिया गया। फाइबर के नए मंदिर में रामलला को विराजमान करने के लिए अयोध्या के राजघराने की तरफ से चांदी का सिंहासन भेंट किया गया है। साढ़े नौ किलो का यह सिंहासन जयपुर से बनवाया गया है।

​अब चांदी के सिंहासन पर विराज रहे रामलला

NBT

जिस आकर्षक सिंहासन पर श्रीरामलला विराजमान हुए हैं, उसके पिछले हिस्से पर सूर्य देव की आकृति और दो मोर बने हैं। अब तक मूल गर्भगृह के अस्थायी मंडप में रामलला लकड़ी के सिंहासन पर विराजित थे। अयोध्या राजघराने के राजा विमलेंद्र मोहन मिश्र स्वयं यह सिंहासन लेकर अयोध्या से आए थे।

​​​नए आसन पर रामलला के साथ तीनों भाई भी

NBT

मंत्रोच्चार के साथ रामलला को उनके तीनों भाइयों और सालिकराम के विग्रह के साथ अस्थायी नए आसन पर शिफ्ट किया गया। नए मंदिर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रामलला की आरती की। इस दौरान सीएम योगी ने भव्य मंदिर के निर्माण हेतु ₹11 लाख का चेक भेंट किया।

​24 पंडितों ने किया नए मंदिर का शुद्धिकरण अनुष्ठान

NBT

इससे पहले नए मंदिर के शुद्धिकरण अनुष्ठान के लिए दिल्ली, काशी, मथुरा व प्रयागराज के 24 पंडित आए थे। प्रसिद्ध वैदिक आचार्य डॉक्टर कृति कांत शर्मा ने सोमवार से ही यह अनुष्ठान शुरू कर दिया था।

​कोरोना के खौफ ने रोकी भीड़

NBT

कोरोना वायरस के प्रकोप को देखते हुए इस दौरान भीड़ से बचने की कोशिश की गई थी। नए अस्थायी मंदिर में शिफ्टिंग के दौरान सीएम योग के अलावा रामजन्मभूमि के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास, ट्रस्ट के सदस्य राजा विमलेंद्र मोहन प्रताप मिश्र, सदस्य अनिल मिश्रा, ट्रस्ट के महासचिव चपंत राय, दिगंबर अखाड़े के महंत सुरेश दास और अवनीश अवस्थी मौजूद रहे।

​ऐसा है फाइबर मंदिर

NBT

फाइबर का नया मंदिर 24×17 वर्गफुट आकार के साढे तीन फुट ऊंचे चबूतरे पर स्थापित है। इसके शिखर की उंचाई 25 फुट है। इसके चारों तरफ सुरक्षा को लेकर एंगल व बॉर्डर का मजबूत जालीदार कवच बना है। श्रद्धालुओं को दर्शन के लिए तीन हिस्से से होकर गुजरना पड़ेगा, जिसकी लंबाई मात्र 48 मीटर की होगी। सुरक्षा को लेकर पूरे रास्ते में एलईडी बल्बों से रोशनी का इंतजाम किया गया है। फाइबर मंदिर की दीवारें मलेशिया की ओक लकड़ी की स्ट्रिप्स को जोड़ कर खड़ी की गई हैं।

​कोरोना से मुक्ति दिलाएं श्रीराम: योगी

NBT

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा हजारों साल के संतों व हिंदू समाज के संघर्ष के बाद आज यह अवसर मिला है। उन्होंने कहा, ‘भव्य राम मंदिर निर्माण का पहला चरण खत्म होने के साथ मंदिर निर्माण का दूसरा चरण शुरू हो गया है। राम लला नए आसन पर विराजमान हो गए हैं। हम सब उनसे प्रार्थना करते हैं कि कोरोना वायरस के वैश्विक संकट से मुक्त करवाएं। देश में इससे निपटने के लिए लॉकडाउन तीन हफ्ते के लिए किया गया है। प्रभु राम की मर्यादा के संदेश का हम सब पालन करते हुए सरकार व डॉक्टरों की गाइडलाइन का कड़ाई से पालन करें।’ उन्होंने कहा कि रामलला शुभमुहूर्त पर नए आसन पर पधारे हैं। इसके लिए ट्रस्ट के सदस्य, पदाधिकारी व सभी नागरिक बधाई के पात्र हैं।

 
 

Related posts

Top