जम्मू-कश्मीर: किश्तवाड़ में आतंकी घटनाओं में पूर्व मंत्री का कनेक्शन, आज एनआईए करेगी पूछताछ

 

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने किश्तवाड़ में आतंकी घटनाओं के संबंध में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री जी एम सरूरी को 11 फरवरी को पूछताछ के लिए तलब किया है। एनआईए जिले में आतंकी घटनाओं की जांच कर रही है। पिछले साल सितंबर में जिले में हिजबुल मुजाहिदीन से संपर्क रखने के आरोप में दर्ज दो मुकदमों में एक दर्जन व्यक्तियों के नाम थे, जिनमें सरूरी के भाई मोहम्मद शफी का नाम भी था।

शफी ने इस आरोप से इनकार करते हुए कहा था कि आरोप राजनीतिक रूप से प्रेरित हैं। ये आरोप उनका तथा उनके परिवार का नाम खराब करने के लिए लगाए गए हैं। उसने दावा किया था कि वह किसी भी जांच को तैयार हे।

67 वर्षीय सरूरी प्रदेश कांग्रेस के उपाध्यक्ष हैं और किश्तवाड़ की इंदरवाल विधानसभा सीट से तीन बार विधायक रहे हैं। सांप्रदायिक तौर पर संवेदनशील किश्तवाड़ नवंबर 2018 में आतंकी गतिविधियों से दहल गया था। इससे करीब एक दशक पहले पहाड़ी जिले को आतंकवाद से मुक्त घोषित कर दिया था।

आतंकवादियों ने एक नवंबर 2018 को भाजपा के वरिष्ठ नेता अनिल परिहार और उनके भाई अजित परिहार की गोली मारकर हत्या कर दी थी। इसके बाद नौ अप्रैल 2019 को आरएसएस नेता चंद्रकांत शर्मा और उनके निजी सुरक्षा अधिकारी की भी हत्या कर दी गई। इसके अलावा आतंकवादियों ने डीसी के पीएसओ दलीप कुमार से आठ मार्च तथा पीडीपी के जिलाध्यक्ष शेख नसीर हुसैन के के पीएसओ से 13 सितंबर को राइफल लूट ली थीं।

पिछले साल 28 सितंबर को रामबन जिले के बटोत में सुरक्षा बलों को किश्तवाड़ में सक्रिय हिजबुल आतंकी ओसामा बिन जावेद समेत तीन आतंकियों को मार गिराने में सफलता मिली थी। इसके साथ ही आपरेशन चलाकर दर्जनभर ओजीडब्ल्यू को भी गिरफ्तार किया गया था।

 

 
 

Related posts

Top