लापरवाही पड़ सकती है भारी, कोरोना नियमों का पालन करें- सत्येंद्र जैन

लापरवाही पड़ सकती है भारी, कोरोना नियमों का पालन करें- सत्येंद्र जैन
  • दिल्ली में कोरोना से मौत के अलावा अन्य वजह से मौतों का आंकड़े पर जवाब देते हुए सत्येंद्र जैन ने कहा कि दिल्ली में जितनी भी मौत होती हैं वो सब डेथ रजिस्टर में रजिस्टर होती हैं. हेल्थ बुलेटिन में कोरोना से होने वाली मौत का डेटा दिया जाता है.

नई दिल्ली: कोरोना की दूसरी लहर से दिल्ली पूरी तरह से बाहर आ चुकी है. दिल्ली में कल से यानी सोमवार से अनलॉक का चौथा चरण भी शुरू हो जाएगा. इस चरण में सरकार द्वारा कई तरह की ढील दिए जाने का ऐलान किया गया है. अनलॉक-4 में दिल्ली में दिल्ली सरकार  के फैसले के मुताबिक राजधानी में 50% कैपेसिटी के साथ बार खोले जा सकेंगे. हालांकि बार को खोलने का समय भी तय किया गया है. अब बार दोपहर 12 बजे से रात 10 बजे तक ही खुल सकेंगे. अनलॉक-4 लागू होने से पहले न्यूज नेशन के संवाददाता मोहित बख्शी ने तमाम मुद्दों पर दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन से बात की.

दिल्ली में पब्लिक स्थानों में लापरवाही पर दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि अभी लगता है कि कोरोना इस वक्त दिल्ली में कंट्रोल में है. सभी से अपील है कि कोविड एप्रोप्रियेट बेहवीयर का पालन करें, मास्क ज़रूर लगाएं, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें. कहीं ऐसा न हो कि पिछले बार दो ढाई महीने जब केस बिल्कुल कम थे तो लोग बिल्कुल लापरवाह हो गए थे. और उसके बाद फिर से बहुत ही भयंकर लहर आई थी. सबको कोविड एप्रोप्रियेट बेहवीयर का पालन करने की ज़रूरत है

कोविड थर्ड वेव को लेकर एम्स निदेशक रणदीप गुलेरिया के बयान पर सत्येंद्र जैन ने कहा कि अगर सभी लोग मास्क लगाने के नियम का पालन करेंगे तो इस लहर से बच सकते हैं. ये हमारे व्यवहार पर निर्भर करता है. अगर सभी लोग पब्लिक में जब जा रहे हैं तो मास्क लगाएं, बहुत बड़ी-बड़ी गैदरिंग न करें, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें तो इससे बचा जा सकता है. दूसरी लहर से कई चीजें हमने सीखी हैं. दूसरी लहर में पता लगा कि ऐसा नहीं है कि केस बिल्कुल कम हो गए तो दोबारा नहीं होंगे. दिल्ली में तीसरी लहर के बाद एकदम से केस कम हो गए थे, 100 से कम आ गए थे तो लोगों को लगने लगा कोरोना तो चला गया है. लेकिन जैसे ही बिल्कुल रिलैक्स होते हैं तो दोबारा बढ़ने के चांस होते हैं क्योंकि कोरोना खत्म नहीं हुआ है. 135 केस भी आ रहे हैं तो इसका मतलब है खत्म नहीं हुआ है.

दिल्ली के बाज़ारों में लापरवाही की तस्वीरों पर जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि इसे लेकर बिल्कुल सख्ती की जाएगी. जो भी मास्क नहीं लगाएगा उसके खिलाफ कारवाई की जाएगी. पुलिस और DMs को निर्देश दिए गए हैं कि सख्ती से इसका पालन कराया जाए. देशभर में 21 जून से 18+ के लिए केंद्र द्वारा फ्री वैक्सीनेशन शुरू करने पर उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार ने पूरा इंतज़ाम किया हुआ है. हमने दिल्ली में सैकड़ों स्थायी सेंटर बनाये हुए हैं. बूथ लेवल पर भी प्रोग्राम चल रहा है जिसके तहत बूथ लेवल पर लोगों को घर घर जाकर वैक्सीनशन के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है.

उन्होंने बताया कि केंद्र सरकार 21 जून से वैक्सीन 18-44 साल वाले लोगों के लिए दे रही है बाकी जैसा पहले था वैसे ही रहेगा. दिल्ली में कुल मिलाकर 300 से ज़्यादा सेंटर चल रहे हैं. मुझे लगता है कि ये वाक्य कहीं से दिया गया है कि वैक्सीनेशन केंद्र के हाथ मे आ गया है. केंद्र तो पहले भी वैक्सीन दे रहा था. पहले 45+ की वैक्सीन दे रहा था अब 18-44 साल के लोगों के लिए भी देगा. दिल्ली में पहले भी दिल्ली सरकार ही सबको वैक्सीन लगा रही थी, जितने सेंटर्स हैं सब दिल्ली सरकार के हैं और आगे भी दिल्ली सरकार के सेंटर्स में ही लगाई जाएगी.

पानी की किल्लत के चलते टैंकर पर उमड़ती भीड़ पर सत्येंद्र जैन ने कहा कि पानी की किल्लत गर्मियों में हर साल होती है थोड़ी सी, लेकिन बीच बीच मे अमोनिया या शैवाल पानी मे आ जाती है उसकी वजह से पानी का प्रोडक्शन थोड़ा कम है. लेकिन पिछले 10-15 दिन से हालात ठीक हैं और 1-2 दिन में ये ठीक हो जाएगा. पानी की आपूर्ति के लिए पूरा प्लान बनाया हुआ है. दिल्ली में पाइपलाइन के ज़रिए सबसे ज़्यादा सप्लाई होती है, 930 MGD से ज़्यादा पानी हम सप्लाई कर रहे हैं. देश के किसी भी शहर में जितना पानी सप्लाई किया जाता है उससे बहुत ज़्यादा दिल्ली में सप्लाई की जा रही है.

उन्होंने कहा कि कुछ इलाकों में जहां पाइपलाइन उपलब्ध नहीं है वहां टैंकर के माध्यम से पानी पहुँचाया जाता है. टैंकर के पहुंचने में समस्या आ रही है कई जगह भगदड़ भी मच रही है, इस सवाल के जवाब में जलमंत्री सत्येन्द्र जैन ने कहा कि 10-15 दिन पहले कुछ दिनों की दिक्कत थी अब कोई दिक्कत नहीं है. दिल्ली में रहने वाले शरणार्थियों के वैक्सीनेशन के लिए सरकार क्या कर रही है?

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि दिल्ली में सभी वार्डस में फिक्स सेंटर बनाए हैं उसके अलावा बूथ लेवल पर घर घर पर लोग जा रहे हैं जो लोगों को वैक्सीन लगवाने के लिए कह रहे हैं. हर व्यक्ति किसी न किसी बूथ पर आता है जिसमें सभी लोग कवर होंगे, उसमें ऐसा नहीं है कि किसी के लिए अलग से है. दिल्ली में सभी लोगों का वैक्सीनशन किया जाएगा. अभी तक हमारे पास रिफ्यूजी के लिए ऐसे कोई अलग से रिक्वेस्ट नहीं आई है.

दिल्ली में कोरोना से मौत के अलावा अन्य वजह से मौतों का आंकड़े पर जवाब देते हुए सत्येंद्र जैन ने कहा कि दिल्ली में जितनी भी मौत होती हैं वो सब डेथ रजिस्टर में रजिस्टर होती हैं. हेल्थ बुलेटिन में कोरोना से होने वाली मौत का डेटा दिया जाता है. दिल्ली में एक भी मौत होती है तो उसको कम या ज़्यादा नहीं किया जा सकता. दिल्ली के कोरोना से अब तक कुल 24,907 मौतें हुई हैं. दिल्ली में सामान्य दिनों में अलग अलग कारणों से भी अमूमन रोज़ाना 400 मौतें होती हैं.


पत्रकार अप्लाई करे Apply