ब्लड शुगर टेस्ट स्ट्रिप सस्ते में प्राप्त करे
Dr. Morepen BG-03 Blood Glucose Test Strips, 50 Strips (Black/White)

LIVE Kisan Andolan Rally: हरियाणा सरकार को झटका; निर्दलीय MLA ने लिया समर्थन वापस; केंद्रीय मंत्रियों के साथ बैठक पर किसान नेताओं की निगाहें

 
Delhi Chalo protest

नई दिल्ली । 3 केंद्रीय कृषि कानूनों के विरोध में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान और यूपी के किसानों का दिल्ली बॉर्डर पर प्रदर्शन जारी है। किसान टीकरी बॉर्डर, सिंघु बॉर्डर और यूपी पर गेट पर पिछले 6 दिन से प्रदर्शन कर रहे हैं। इस बीच भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर मंगलवार दोपहर दिल्ली- यूपी बॉर्डर पर किसानों के समर्थन में पहुंचे।

दनकौर, जेवर व लखनऊ समेत कई जगहों से किसान दिल्ली कूच करने के लिए यमुना एक्सप्रेस-वे पर एकत्र होने शुरू हो गए हैं। बताया जा रहा है कि किसान सालारपुर अंडरपास पर एकत्र होकर दिल्ली के लिए कूच करने की तैयारी में जुटे हैं।

CM मनोहर लाल को झटका, निर्दलीय विधायक ने लिया समर्थन वापस

हरियाणा के निर्दलीय विधायक सोमवीर सांगवान ने किसानों का साथ देते हुए मनोहर लाल सरकार से समर्थन वापस ले लिया है। उन्होंने कहा कि किसानों की मांगों को लेकर वह सरकार से समर्थन वापस ले रहे हैं।

वहीं, दिल्ली में सिंघु बॉर्डर पर चल रहे किसानों के आंदोलन में शामिल समूहों ने बैठक कर ये फैसला किया है कि वो सरकार के साथ होने जा रही बैठक में हिस्सा लेंगे। ये बैठक 3 बजे होनी है। किसान टीकरी बॉर्डर, यूपी गेट और सिंघु बॉर्डर पर कृषि कानून में संशोधन को लेकर धरने पर बैठे हुए हैं। तीन दिनों से इनका धरना जारी है। प्रशासन ने इन किसानों को दिल्ली में आने से रोकने के लिए बेरिकेड कर रखे हैं। वहीं कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा से मिलने उनके घर गए हैं। कृषि कानूनों पर दोनों नेताओं के बीच चर्चा होगी। उसके बाद तीन बजे किसानों के साथ कृषि मंत्री मीटिंग करेंगे।

जनरैल सिंह हिरासत में लिए

आम आदमी पार्टी के तिलक नगर से विधायक जनरैल सिंह मंगलवार को किसानों के समर्थन में कनॉट प्लेस पहुंचे। मानव श्रृंखला बनाने से पहले ही पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया। विधायक ने कहा कि देश के किसानों के साथ केंद्र सरकार गलत कर रही है। कई दिनों से बॉर्डर इलाके में ठंड में किसान बैठे हैं। सरकार को किसानों के बारे में सोचना चाहिए। बता दें कि 3 कृषि कानूनों को रद करने की मांग को लेकर शुरू हुआ किसान आंदोलन 6वें दिन में प्रवेश कर गया है। टीकरी और सिंघु बॉर्डर के साथ अब दिल्ली-यूपी गेट पर भी किसानों की संख्या बढ़ने लगी है। इस बीच दिल्ली ऑटो रिक्शा यूनियन और दिल्ली प्रदेश टैक्सी यूनियन के महामंत्री राजेंद्र सोनी ने कहा है कि हम प्रदर्शनकारी किसानों के समर्थन में हैं। साथ ही यह भी स्पष्ट कर देना चाहते हैं कि दिल्ली ऑटो रिक्शा और टैक्सी की हड़ताल नहीं होने जा रही है। कोरोना वायरस संक्रमण के चलते 4 महीने से तो वैसे भी खाली बैठे थे ऐसे में हड़ताल को नहीं झेल पाएंगे।

उधर, सिंघु बॉर्डर की तरफ से दिल्ली में जबरन प्रवेश करने के दौरान किसानों की तरफ से की गई हिंसा के खिलाफ अलीपुर थाने में मामला दर्ज किया गया है। पुलिस सीसीटीवी फुटेज व अन्य स्रोतों से मिले सबूतों के आधार पर मामले की जांच कर रही है। हालांकि, अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं की गई है।

पंजाब किसान यूनियन के स्टेट प्रेसीडेंट आरएम मंशा ने बताया कि वो सरकार के साथ 3 बजे होने वाली मीटिंग में हिस्सा लेंगे। वो इस मीटिंग में हिस्सा लेकर अपनी बात रखेंगे। वहीं, पंजाब किसान संघर्ष समिति के संयुक्त सचिव  ने बताया है कि देश में किसानों के 500 से अधिक समूह हैं, लेकिन केंद्र सरकार ने केवल 32 समूहों को बातचीत के लिए आमंत्रित किया है। बाकी को सरकार द्वारा नहीं बुलाया गया है। हम तब तक बातचीत नहीं करेंगे, जब तक सभी समूहों को नहीं बुलाया जाता है। ऐसे में बैठक को लेकर असमंजस है कि क्या किसान संगठन में इसमें शामिल होंगे।

दिल्ली-यूपी बॉर्डर पर जमा होने लगे किसान

उत्तर प्रदेश के किसानों ने भी यूपी गेट पर कृषि कानूनों को रद करने की मांग को लेकर प्रदर्शन करना शुरू कर दिया है। यहां पर धीरे-धीरे किसानों की संख्या बढ़ने लगी है।

लाईन में लगे किसान 

सबको अन्न देने वाले किसानों को अन्न के लिए लाइन में लगना पर रह है। यूपी गेट सीमा पर जैसे ही खाने की गाड़ी पहुँची तो भूखे किसानों ने लाइन में लग कर भोजन लिया।

समर्थन में आईं खाप पंचायतें 

कृषि कानूनों के विरोध में चल रहे किसानों के आंदोलन को हरियाणा की खाप पंचायतों का भी समर्थन मिल गया है।  इसके साथ ही ऑल इंडिया सारथी एंड ऑनर एसोसिएशन के अध्यक्ष बलवंत सिंह भुल्लर व दिल्ली गुड्स ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष परमीत सिंह गोल्डी ने सिंघु बॉर्डर पर पहुंचकर किसानों का समर्थन किया। उन्होंने संयुक्त रूप से कहा कि सरकार की ओर से अगर दो दिन में कृषि कानूनों को वापस न लिया गया तो दिल्ली में ट्रक, टेंपो, टैक्सी और बस सेवा बंद कर दी जाएगी और चालक अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले जाएंगे। उन्होंने देशभर के ट्रक, टैक्सी व बस चालकों से उनका साथ देने की अपील की।

 
 

Related posts

LIVE Kisan Andolan

LIVE Kisan Andolan: 23 जनवरी को राजभवन तक निकालेंगे मार्च, 26 जनवरी के दिन दिल्ली में निकलेगी ट्रैक्टर किसान परेड

LIVE Kisan Andolan

LIVE Kisan Andolan: यूपी गेट पर आंदोलन में शामिल किसान ने की आत्महत्या

Delhi Farmers Protest

Kisan Andolan: 36वें दिन पहुंचा किसानों का आंदोलन, सिंघु बॉर्डर के साथ तीन अन्य जगहों पर जमा हैं किसान

Top