दारू पीते हैं कश्मीर के गवर्नर, नहीं होता है कोई काम: सत्यपाल मलिक

 

 

  • गोवा के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा, गवर्नर का कोई काम नहीं होता है
  • मलिक ने कहा, कश्मीर के गवर्नर तो अक्सर दारू पीते हैं और गोल्फ खेलते हैं
  • उन्होंने कहा, ‘बाकी जगह गवर्नर आराम से रहते हैं, किसी झगड़े में नहीं पड़ते’
  • जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने में सत्यपाल मलिक की अहम भूमिका

बागपत
जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटने तक राज्य के राज्यपाल रहे और वर्तमान में गोवा के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने एक विवादित बयान दिया है। उन्होंने कहा कि गवर्नर का कोई काम नहीं होता है। कश्मीर के गवर्नर तो अक्सर दारू पीते हैं और बस गोल्फ खेलते हैं।

गोवा के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने रविवार को अपने गृह जनपद बागपत में एक सभा को संबोधित किया। उन्होंने कहा, ‘बाकी जगह (अन्य राज्यों) जो गवर्नर होते हैं वो आराम से रहते हैं, किसी झगड़े में नहीं पड़ते हैं।’ सत्यपाल मलिक बागपत के हिसावड़ा के ही रहने वाले हैं।

उन्होंने कहा, ‘जब मुझे बिहार का राज्यपाल बनाया गया, तो मैंने सोचा कि वहां की शिक्षा व्यवस्था में सुधार के लिए कुछ करूं। राज्य में 100 कॉलेज ऐसे थे जो राजनेताओं के थे। उनके यहां एक टीचर तक नहीं था। हर साल वे बीएड में ऐडमिशन लेते और पैसे देकर एग्जाम करवाते और डिग्रियां बांटते थे। मैंने सारे कॉलेज खत्म किए और एक सेंट्रलाइज्ड एग्जाम करवाया।’

अनुच्छेद 370 हटाने में रही मलिक की अहम भूमिका

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने में तत्कालीन राज्यपाल सत्यपाल मलिक की अहम भूमिका रही थी। इसके दो महीने बाद तक वह जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल रहे। इसके बाद उन्हें 3 नवंबर 2019 को गोवा का राज्यपाल नियुक्त किया गया।

 
 

Related posts

Top