गाजियाबाद के ADM सिटी शैलेंद्र सिंह और उनकी पत्नी गुंजा SDM जेवर को हुआ कोरोना

 
  • गाजियाबाद जिले में एडीएम सिटी शैलेंद्र सिंह और उनकी पत्नी गुंजा सिंह कोरोना संक्रमित

गाजियाबाद: कोरोना वायरस का संक्रमण यूपी में तेजी से बढ़ रहा है। आलम यह है कि सरकारी अफसर भी इसकी चपेट में आ रहे हैं। सोमवार को गाजियाबाद जिले में एडीएम सिटी शैलेंद्र सिंह और उनकी पत्नी गुंजा सिंह (जो कि एसडीएम जेवर हैं) दोनों ही कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इसके बाद दोनों को ही गाजियाबाद के यशोदा अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

तहसीलदार दुर्गेश सिंह ने बताया कि जेवर की एसडीएम गुंजा सिंह को कोरोना संक्रमित पाया गया है। इसके बाद से जेवर तहसील को बंद करते हुए सैनेटाइज किया गया है। उन्होंने बताया कि गाजियाबाद के एडीएम शैलेंद्र सिंह भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इसके बाद दोनों को गाजियाबाद के यशोदा अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जहां उनकी तबीयत सामान्य बताई गई है।

शैलेंद्र सिंह ने किए गाजियाबाद जिले में सराहनीय कार्य

बता दें कि एडीएम सिटी शैलेंद्र सिंह ने कोरोना महामारी के दौरान गाजियाबाद जिले में सराहनीय कार्य किए हैं। उन्होंने रात और दिन मजदूरों के पलायन के समय पूरी जिम्मेदारी के साथ कार्य को अंजाम दिया था। इतना ही नहीं लॉकडाउन के दौरान इनके कार्यालय के बाहर पास बनवाने वाले लोगों की लंबी लाइन होती थी। उस कार्य को भी भली-भांति पूरा किया गया। सड़क पर पैदल जा रहे लोगों को मास्क, पीने का पानी और खाने का सामान उपलब्ध कराने के साथ-साथ उनके जाने के लिए वाहनों का भी इंतजाम एडीएम सिटी शैलेंद्र सिंह ने ही किया था।

एसडीएम गुंजा सिंह ने कोरोना काल में ड्यूटी को बखूबी निभाया
उधर ग्रेटर नोएडा की जेवर तहसील क्षेत्र में भी एसडीएम गुंजा सिंह की ओर से शुरू से ही शेल्टर होम हॉट स्पॉट का दौरा किया जाता रहा है। यानी दोनों ने ही जब से कोरोना महामारी की शुरुआत हुई तभी से अपनी ड्यूटी को बखूबी निभाया है, हालांकि इस दौरान दोनों की कोरोना वायरस से संक्रमित हो गए हैं।

यूपी में घर-घर जाकर होगी मेडिकल स्क्रीनिंग

उत्‍तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण का पता लगाने के लिए जुलाई से स्वास्थ्य विभाग की ओर से डोर-टु-डोर मेडिकल स्क्रीनिंग की जाएगी। जुलाई के पहले हफ्ते में मेरठ मंडल से यह अभियान शुरूकिया जाएगा। इसके बाद बाकी 17 मंडलों में भी स्क्रीनिंग का अभियान चलाया जाएगा। रविवार को मुख्य सचिव राजेंद्र कुमार तिवारी ने अनलॉक व्यवस्था की समीक्षा की। राजेंद्र कुमार ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग शत-प्रतिशत घरों की स्क्रीनिंग का कार्य निर्धारित समय में पूर्ण कराने के लिए आवश्यक रणनीति समय से तैयार कर ली जाए। जिलों में रैपिड रेस्पॉन्स टीम एवं एंबुलेंस को तैयार रखा जाये, जिससे सूचना मिलते ही जरूरी कदम उठाए जा सकें।

 
 
Top