बाबा रामदेव की कोरोना दवा पर बोले उत्तराखंड के सीएम- कोई प्रोसीजरल फॉल्ट रहा होगा

 

 

देहरादून
योग गुरु बाबा रामदेव की कोरोना की दवाई ‘कोरोनिल’ (Patanjali Coronil medicine)की प्रमाणिकता पर उपजे विवाद के बीच गुरुवार को उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि इसे बनाने में कोई ‘प्रोसीजरल फॉल्ट’ (प्रक्रियात्मक त्रुटि) रही होगी। राजधानी में पत्रकारों से बातचीत करते हुए मुख्यमंत्री रावत ने कहा कि पतंजलि की यह दवाई अपने ट्रायल पर खरी उतरी है।

सीएम रावत ने कहा कि उन्होंने कहीं पढ़ा है कि इसके ट्रायल के परिणाम बहुत अच्छे रहे हैं। कोरोनिल से मरीज तीन दिन में 69% और एक सप्ताह में शत प्रतिशत ठीक हो जाते हैं। हालांकि, मुख्यमंत्री ने कहा कि हर काम विधिक होना चाहिए। उन्होंने कहा कि हर काम की एक प्रक्रिया होती है जिसका पालन किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘मुझे लगता है कि दवाई बनाने में कोई प्रोसीजरल फाल्ट रहा होगा। बता दें कि मंगलवार को बाबा रामदेव के कोरोनिल को बाजार में उतारते ही इसे लेकर विवाद शुरू हो गया जिसके बाद केंद्र के आयुष मंत्रालय ने इसके ट्रायल की पूरी जानकारी तलब करते हुए इसके कोरोना की दवाई के रूप में प्रचार पर रोक लगा दी।

दवा का विरोध करने वालों से रामदेव ने क्या कहा?बाबा रामदेव ने कोरोना महामारी का सफल इलाज करने का दावा करते हुए कोरोनिल नाम से एक दवा मंगलवार को बाजार में उतारी थी। आयुष मंत्रालय ने इस दवाई से पल्ला झाड़ दिया था जिसके बाद सोशल मीडिया पर बाबा रामदेव की काफी किरकिरी हो रही थी।

हमने नहीं तोड़ा कोई कानून: पतंजलि
‘कोरोनिल’ दवा बनाकर बाबा रामदेव और पतंजलि कंपनी मुश्किल में फंस गई है। कोरोना की दवा के नाम पर इसके प्रचार को आयुष मंत्रालय ने रोक दिया है और जांच जारी है। इस बीच राजस्थान के निम्स यूनिवर्सिटी के डायरेक्टर बीएमस तोमर ने भी क्लिनिकल ट्रायल की बात से पल्ला झाड़ लिया है। अपने ऊपर लग रहे आरोपों का बचाव करते हुए पतंजलि ने कहा कि उसने दवा के निर्माण में किसी भी प्रकार के कानून का उल्लंघन नहीं किया है। पतंजिल के प्रवक्ता एस के तिजारावाला ने ट्वीट करके कहा, ‘पतंजिल ने इस औषधि के लेबल पर कोई अवैध दावा नहीं किया है। औषधि का निर्माण और बिक्री सरकार के द्वारा तय नियम-कानून के अनुसार होता है। किसी की व्यक्तिगत मान्यताओं और विचारधारा के अनुसार नहीं। पतंजलि ने सारी विधिसम्मत अनुपालना की है। बेवजह बयानबाजी से परहेज करें।’

 
 

Related posts

Top