एयर स्ट्राइक के बाद भी नहीं सुधरा पाकिस्तान, पुलवामा दोहराने के लिए रचीं 16 साजिशें

 

कश्मीर के पुलवामा में भीषण आतंकी हमले का एक साल पूरा हो गया है। 44 जवानों की शहादत से पूरे देश को झकझोर देने वाले हमले का बदला लेने के लिए बालाकोट में की गई एयर स्ट्राइक से भी पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज नहीं आया है। जम्मू-कश्मीर में लगातार पुलवामा जैसे हमले दोहराने की कोशिशें जारी हैं, जिनसे निपटना अब भी सुरक्षाबलों के लिए बड़ी चुनौती बना हुआ है।

आतंकियों ने हमला करने का दायरा भी बढ़ा दिया है। पुलवामा के बाद 16 बार ऐसी नापाक हरकत दोहराने की कोशिश की गई। कश्मीर समेत जम्मू संभाग में भी सुरक्षा बलों को नुकसान पहुंचाने के लिए आईईडी विस्फोट की कोशिशें की गईं जिसे सतर्क सुरक्षा बलों ने पुलवामा जैसा हमला बनने से टाल दिया।

कब कहां हुई कोशिशें 
10 मार्च 2019 : जम्मू के खौड़ इलाके में खौड़ पलांवाला सड़क पर टिफिन में आईईडी लगाई गई।
30 मार्च : बनिहाल के पास सीआरपीएफ के काफिले के साथ ठीक पुलवामा की तरह कार को टक्कर मारने की कोशिश की गई। लेकिन संयोग से कार में रखा विस्फोटक नहीं फटा, जबकि कार क्षतिग्रस्त हो गई। यह हमला पुलवामा जैसा ही था।
जून 2019 : सेना की 44 आरआर के काफिले पर शोपियां में आईईडी लगे वाहन से हमला। दो जवान शहीद हो गए, 9 घायल भी हुए।
26 नवंबर : अनंतनाग में बैक टू विलेज कार्यक्रम में आईईडी लगाकर धमाका किया। इसमें दो लोगों की मौत हो गई।
नवंबर 2019 : काजीगुंड में प्रेशर कुकर में दबाकर रखी दो आईईडी बरामद हुईं, जो रोड पर लगाई गई थीं। सेना की पेट्रोलिंग पार्टी पर हमला करने की कोशिश थी।
19 नवंबर 2019 : पुंछ हाईवे पर आईईडी बरामद की गई।
31 जनवरी  2019 : नगरोटा के पास हाइवे पर शक्तिशाली आईईडी बरामद की गई।

कश्मीर से जम्मू तक पहुंच गए
पुलवामा हमले के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव का माहौल बना। भारत ने पाकिस्तान के बालाकोट स्थित आतंकी ठिकानों पर एयर स्ट्राइक भी की। इसके बाद लग रहा था कि पाकिस्तान सुधर जाएगा। लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं हुआ। वर्ष 2018 में कश्मीर में आईईडी धमाके से 8 हमले हुए थे। वहीं यह हमले 2019 में दोगुना हो गए। पुलवामा हमले के बाद भी 15 से 16 बार हमले हुए। आतंकियों ने कश्मीर के अलावा जम्मू के बनिहाल, राजोरी, पुंछ, अखनूर और जम्मू के इलाके में भी आईऱ्ईडी लगाकर पुलवामा जैसे हमले दोहराने की कोशिश की।

 
 

Related posts

Top