क्या अखबार पढने से भी हो जाएगा कोरोना?

 
corona

नई दिल्ली [दिग्विजय]:सोशल मीडिया पर दो न्यूज बड़ी तेजी से वायरल हो रही है जिनमेंसे एक में अखबार पढने से कोरोना संक्रमण के फैलने की आशंका जताई जा रही है जबकि दूसरी न्यूज़ में इसका खंडन किया जा रहा है।

सोमवार को दिनभर इस बात पर चर्चा होती रही। उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने भी कहा कि इस वक्त सोशल मीडिया के जरिए बहुत अफवाहें फैलाई जा रही हैं, इसलिए कोई भी मेसेज फॉरवर्ड करने से पहले अखबारों में पढ़कर उसकी सत्यता जरूर जान लें। इस मेसेज में उन्होंने अखबार पढने का सन्देश दिया।

अखबार पढने से क्या सच में फ़ैल सकता है संक्रमण?
अखबार पढने से संक्रमण फैलने की तब तक कोई सम्भावना नहीं जब तक आप अखबार को छुए नहीं, केवल पढने से संक्रमण नहीं होगा। कोई भी वस्तु (जिसे कोरोना संक्रमित व्यक्ति ने छुआ हो) के छूने से कोरोना संक्रमण होगा फिर वो चाहे अखबार हो या न्यूज़ मैगजीन। आप तक पंहुचने से पूर्व एक अखबार औसतन 40-45 व्यक्तियों के हाथो से गुजरता है। यदि उनमें से किसी व्यक्ति को कोरोना संक्रमण हुआ हो तो आपका कोरोना संक्रमित होना निश्चित है। हम आपको यह कतई नहीं कह रहे है कि आप अखबार नही पढ़े, यह पूरी तरह आपके स्व:विवेक पर निर्भर करता है। आप पढ़े या नहीं पढ़े! कोई भी अखबार शायद ही यह जानकारी आप तक पंहुचाये।

 

 

 
 
Top