Corona in India: एक ही दिन में 95 नए केस के साथ कुल 468 मामले, 9 मौतें

 
  • देश में तेजी से बढ़ रहे हैं कोरोना वायरस संक्रमण के मामले, सोमवार को 95 नए मामलों की पुष्टि
  • भारत में अबतक 468 मामलों की पुष्टि, 9 लोगों की हो चुकी है मौत, 34 मरीज इलाज के बाद ठीक
  • पंजाब, महाराष्ट्र ने कर्फ्यू लगाया, कुल 30 राज्यों, केंद्रशासित प्रदेशों ने कंपलीट लॉकडाउन का किया ऐलान
  • यूपी के 16 जिलों, मध्य प्रदेश और ओडिशा के भी कुछ जिलों में लॉकडाउन, अब देश के 548 जिले लॉकडाउन में

नई दिल्ली: देश में कोरोना वायरस के संक्रमण के मामले सोमवार को बढ़कर 468 हो गए। इनमें से 9 मरीजों की मौत हो चुकी है, जबकि 34 इलाज के बाद स्वस्थ हो चुके हैं। अकेले सोमवार को 95 नए कोरोना पॉजिटिव केसों की पुष्टि हुई जो एक दिन में अब तक का सबसे ज्यादा आंकड़ा है। देश के 30 राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों में कंपलीट लॉकडाउन का ऐलान किया जा चुका है।

केजरीवाल बोले- कर्फ्यू के लिए मजबूर न करें
लॉकडाउन के दौरान भी लोगों के बड़े पैमाने पर बाहर निकलने के मद्देनजर महाराष्ट्र और पंजाब की सरकारों ने सोमवार को अपने-अपने राज्यों में कर्फ्यू लागू कर दिया। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी राज्य के लोगों को चेतावनी दे दी कि सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करें, नहीं तो वह कर्फ्यू लगाने के लिए मजबूर होंगे।

आसान भाषा में समझिए, क्या होता है लॉकडाउनकोरोना वायरस के चलते देश के कई बड़े शहरों और राज्यों में लॉकडाउन कर दिया गया है। लॉकडाउन आखिर होता क्या है और इस दौरान आपको क्या करना चाहिए, क्या नहीं? समझिए आसाना भाषा में।

पंजाब, महाराष्ट्र में कर्फ्यू, दिल्ली में भी सख्ती
पूरी दुनिया में इस वायरस से अभी तक 15 हजार से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है और करीब साढ़े तीन लाख लोग प्रभावित हुए हैं। वायरस के फैलाव में तेजी को देखते हुए राज्य सरकारों ने अतिरिक्त कदम उठाने का फैसला किया है।

देश में सबसे पहले पंजाब ने सोमवार को पूरे राज्य में कर्फ्यू लगा दिया और इससे केवल आवश्यक सेवाओं को छूट दी गई है जबकि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि सोमवार की मध्य रात्रि से पूरे राज्य में कर्फ्यू लगाया जाएगा क्योंकि कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई ‘अहम मोड़’ पर पहुंच गई है।

लॉकडाउन से खत्म हो जाएगा कोरोना? एक्सपर्ट ने बताई पूरी बातकोरोना वायरस के खिलाफ भारत सहित दुनियाभर में शहरों को लॉकडाउन यानी पूरी तरह बंद किया जा रहा है। लेकिन क्या सिर्फ ऐसा कर के कोरोना के खिलाफ जंग जीती जा सकती है। WHO के एक्सपर्ट ने बताया कि आगे क्या करना होगा। देखिए-

30 राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों में कंपलीट लॉकडाउन
हालात की गंभीरता का अंदाजा इसी से लगा सकते हैं कि अब देश के 30 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों ने अपने-अपने यहां सभी जिलों में लॉकडाउन का ऐलान कर दिया है। देश में अब 548 जिले कंपलीट लॉकडाउन में हैं।

NBT

कंपलीट लॉकडाउन वाले राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों की सूची

देश में कुल 28 राज्य और 8 केंद्रशासित प्रदेश हैं। यानी सिर्फ 6 राज्य/केंद्र शासित प्रदेशों में ही कंपलीट लॉकडाउन नहीं है। हालांकि, बाकी राज्यों ने भी आंशिक लॉकडाउन का ऐलान किया है। यूपी के 16 जिलों में लॉकडाउन है। मध्य प्रदेश और ओडिशा ने भी कुछ जिलों में लॉकडाउन का ऐलान किया है। लक्षद्वीप ने भी कुछ पाबंदियां लगाई हैं।

अखबार छूने से कोरोना का डर?
UP के उपमुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने कहा है कि इस वक्त सोशल मीडिया के जरिए बहुत अफवाहें फैलाई जा रही हैं, इसलिए कोई भी मेसेज फॉरवर्ड करने से पहले अखबारों में पढ़कर उसकी सत्यता जरूर जान लें। लेकिन कोई भी वस्तु (जिसे कोरोना संक्रमित व्यक्ति ने छुआ हो) के छूने से कोरोना संक्रमण होगा फिर वो चाहे अखबार हो या न्यूज़ मैगजीन। आप तक पंहुचने से पूर्व एक अखबार औसतन 40-45 व्यक्तियों के हाथो से गुजरता है। यदि उनमें से किसी व्यक्ति को कोरोना संक्रमण हुआ तो आपका कोरोना संक्रमित होना निश्चित है। हम आपको यह कतई नहीं कह रहे है कि आप अखबार नही पढ़े, यह पूरी तरह आपके स्व:विवेक पर निर्भर करता है। आप पढ़े या नहीं पढ़े! लेकिन अखबार यह जानकारी आप तक नहीं पंहुचाएगा।

पीएम ने भी राज्यों से कहा- नियम तोड़ने वालों पर करें सख्ती
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी राज्य सरकारों से कहा है कि सुनिश्चित करें कि कोरोना वायरस के कारण लॉकडाउन के नियम पूरी तरह लागू किए जाएं। उन्होंने कहा कि कई लोग इन उपायों को गंभीरता से नहीं ले रहे हैं। उन्होंने ट्वीट किया, ‘कई लोग अब भी लॉकडाउन को गंभीरता से नहीं ले रहे हैं। कृपया खुद को, अपने परिवार को बचाएं और निर्देशों का गंभीरता से पालन करें। मैं राज्य सरकारों से आग्रह करता हूं कि सुनिश्चित करें कि नियम-कानूनों का पालन हो।’

 

 
 
Top