कोरोना विश्वयुद्ध के योद्धा: तमाम खतरे उठाकर भी बैंक कर्मी निभा रहे डयूटी

 
भारतीय स्टेट बैंक की कृषिविकास शाखा मे काम करते कर्मचारी भारतीय स्टेट बैंक की कृषिविकास शाखा मे काम करते कर्मचारी
  • भारतीय स्टेट बैंक की कृषिविकास शाखा मे काम करते कर्मचारी

नकुड [इंद्रेश]। एक ओर जंहा कोरोना वायरस से बचाव के लिये पूरे देश में लाकडाउन है। लोग अपने घरो में है। प्रत्येक आदमी वायरस से बचने के लिये घरों मे कैद है। जीवन जैसे थम गया है। पूरा विश्व कोरोना के खिलाफ युद्ध लड रहा है। वंही कुछ लोग ऐसे भी है जो इस मुश्किल घडी में इस विश्वयुद्ध के योद्धा बनकर दुसरों की जिंदगी चलाने के लिये जूझ रहे है।

ऐसे ही है बैंक कर्मचारी व अधिकारी । बैंकिंग को केंद्र सरकार ने एसेंसियशल सर्विस की श्रैणी मे रखा है। जबकि पूरा देश बंद है। बैंक खुले है। सरकारी श्युडुल के अनुसार बैंक सुबह आठ बजे से ग्यारह बजे तक खुले हैं ताकि आमजन को नकदी की समस्या न जुझना पडे। बैंककर्मी अपनी जिंदगी दंाव पर लगाकर देश के लिये काम कर रहे है। ताकि हमारी आपकी जिंदगी चलती रहे। हमे नकदी की समस्या से न जुझना पडे। आमजन को राशन , दुध , दवा जैसी जरूरत की चीजे उपलब्ध होने मे दिक्कत न हो।

नकुड नगर में स्थित भारतीय स्टेट बैंक , युनियन बैंक आफ इंडिया, युको बैंक, व पंजाब नेशनल बैंक की शाखाएं ख्ुाली है। पूरा बाजार बंद है। कर्मचारियों को चाय तक उपलब्ध नंही है। बैंक आने व वापस जाने के लिये वाहन उपलब्ध नंही हे। वे अपने वाहनो से आते है तो पुलिस की रोकटोक लगी रहती है। कोरोना के संक्रमण का खतरा अलग है। जो किसी भी समय किसी भी व्यक्ति को संक्रमित कर सकता है । पंरतु इनत माम खतरों के बावजूद बैंक कर्मी मास्क लगाकर अपनी डयुटी निभा रहे है। यही वजह है कि लाकडाउन के बावजूद क्षेत्र के लोगों को पैसे की किल्लत से दो चार नहंी होना पडा । बैंको मे भीड गायब हो गयी है। जरूरत पडने पर ही लोग बैंको का रूख कर रहे है। परंतु बैंक कर्मी पूरे मनोयोग से आमजन की सेवा मे लगे है।

हाथ सेनिटाईजेशन के बाद ही शाख में ऐंटरी
भारतीय स्टेट बैंक कृषि विकास शाखा के प्रबंधक पंकज कुमार ने बताया कि सुबह सात बजे सहारनपुर से नकुड के लिये चलना होता है। हांलाकि बैंक श्युडुल आठ से ग्यारह कर दिया गया है पंरतु दो बजे से पहले शाखा बंद नंही कर पाते । दोनो फिल्ड अधिकारी मनोज कुमार व राकेश कुमार व अन्य कर्मचारियों के साथ दो बजे के बाद ही शाखा बंद कर वापस जा पाते है। संक्रमण से सुरक्षा को ध्यान मे रखते हुए शाखा मे ऐंटरी से पहले ग्राहकों के हाथ सेनिटाइज कराने की व्यवस्था करायी गयी है। मुख्य शाखा में चीफ मैनेजर वजीरचंद के अनुसार अभी तक शाखा में काम ठीक ढंग स ेचल रहा है। सभी कर्मचारी अपना काम कर रहे है। ग्राहको को कोई परेशानी न हो इसका प्रयास चल रहा है।

पीएनबी व युको बैंको की शाखाओं में चल रहा है काम
पीएनबी के प्रबंधकर विकास कुमार ने बताया शाखा में ग्राहको को पैसे के लेन देन मे कोई परेशानी नंही है। युको बैंक के वरिष्ठ प्रबंधक सतेंदुनाग ने बताया कि सभी ग्राहकांे को पैसा मिले इसके लिये पांच हजार की निकासी सीमा बनायी गयी है । ताकि बैंक से किसी को बैंक से निराश न लौटना पडे। कहा कर्मचारियों को सुबह आने व वापस जाने मे थोडी दिक्कत जरूर होती है। पंरतु काम ठीक ढंग स ेचल रहा है। बैंक में ग्राहकों के बीच दूरी बनाकर लेनेदेन कराने का प्रयास चल रहा है। जिसमे ग्राहक भी सहयोग कर रहे है।

 

 
 
Top