PM मोदी का चीन को जवाब- कोई भ्रम न पाले, उकसाने पर हर हाल में देंगे जवाब

 
नई दिल्ली: लद्दाख में भारत के 20 जवानों की शहादत पर पीएम नरेंद्र मोदी ने चीन को कड़ा संदेश दे दिया है। मोदी ने (pm modi on india china clash) देश को आश्वस्त किया कि जवानों का बलिदान बेकार नहीं जाएगा। उन्होंने चीन को चेतावनी देते हुए कहा कि भारत किसी को उकसाता नहीं है, लेकिन अगर कोई हमें उकसाएगा, तो वह भ्रम में न रहे। भारत के पास हर हाल में यथोचित जवाब देने की ताकत है।

कोरोना वायरस पर मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सबसे पहले लद्दाख में भारत-चीन विवाद पर बात की। जवानों को श्रद्धांजलि देते हुए पीएम मोदी ने साफ किया कि भारत वैसे शांति चाहता है, लेकिन किसी के उकसाने पर उचित जवाब देना जानता है।

“हमने हमेशा सहयोग और दोस्ताना तरीके से काम किया है। हमेशा उनके विकास और कल्याण की कामना की। जहां मतभेद भी रहे, हमने हमेशा प्रयास किया कि मतभेद विवाद न बदले। हम कभी किसी को उकसाते नहीं हैं। लेकिन हम अपने देश की अखंडता और संप्रभुता के साथ समझौता भी नहीं करते हैं। जब भी समय आया है हमने देश की अखंडता और संप्रभुता की रक्षा करने में अपनी शक्ति का प्रदर्शन किया है।”-पीएम नरेंद्र मोदी

मोदी ने कहा कि मैं शहीदों के प्रति संवेदना व्यक्त करता हूं, जवानों और उनके परिवार को भरोसा दिलाता हूं कि देश आपके साथ है, स्थिति कुछ भी हो देश आपके साथ है। मोदी ने आगे कहा कि भारत अपने स्वाभिमान और हर एक इंच जमीन की रक्षा करेगा।

भारत शांति चाहता है, लेकिन उकसावे पर चुप नहीं बैठेगा
पीएम नरेंद्र मोदी ने साफ कहा कि भारत शांतिपूर्ण देश है। इतिहास भी इस बात का गवाह है कि हमने विश्व में शांति फैलाई। पड़ोसियों के साथ दोस्ताना तरीके से काम किया। मतभेद हुए भी को कोशिश की है कि विवाद न हो। हम कभी किसी को भी उकसाते नहीं हैं लेकिन अपने देश की अखंडता के साथ समझौता भी नहीं करते।

“शहीद वीर जवानों के विषय में देश को इस बात का गर्व होगा कि वे मारते-मारते मरे हैं।”-लद्दाख में शहीद जवानों पर पीएम मोदी

भरोसा देता हूं- बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा
मोदी ने आगे कहा कि देश को भरोसा दिलाना चाहता हूं कि जवानों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा। भारत की अखडता, संप्रभुता की रक्षा करने से हमें कोई रोक नहीं सकता। किसी को भ्रम या संदेह नहीं होना चाहिए कि भारत शांति चाहता है लेकिन उकसाने पर उचित जवाब देने में सक्षम है।

मारते-मारते मरे हैं हमारे वीर सैनिक: मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लद्दाख में शहीद हुए वीर जवानों को याद करते हुए कहा कि देश को गर्व है कि हमारे सैनिक मारते-मारते मरे हैं। अपनी बात खत्म करके उन्होंने शहीद सैनिकों को श्रद्धांजलि देते हुए दो मिनट का मौन भी रखवाया।

“अपनी क्षमताओं को साबित किया है। त्याग हमारे राष्ट्रीय चरित्र का हिस्सा है। साथ ही विक्रम और वीरता भी हमारे देश का चरित्र का हिस्सा है। मैं देश को भरोसा दिलाना चाहता हूं कि हमारे जवानों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा। हमारे लिए भारत की अखंडता और संप्रभुता सर्वोच्च है। इसकी रक्षा करने से हमें कोई रोक नहीं सकता है। इस बारे में किसी को भी जरा भी भ्रम या संदेह नहीं होना चाहिए। भारत शांति चाहता है, लेकिन उकसाने पर भारत हर हाल में यथोचित जवाब देने में सक्षम है।”-पीएम नरेंद्र मोदी

 

चीन का विश्वासघात उजागर हुआ

चीन का विश्वासघात उजागर हुआ

ये तस्वीरें साफ करती हैं कि कैसे चीन ने 10 दिनों भीतर विश्वासघाट किया है। चीन ने डी-एस्केलेशन प्रक्रिया के बीच अपने सैन्य निर्माण को तेज कर दिया है। चित्र दिखाते हैं कि चीनी सैनिकों को तीन भागों में बांटा गया है। फॉरवर्ड बिल्ड अप के बाद वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) की ओर निर्देशित दो ट्रेल्स हैं। मंगलवार से प्राप्त चित्रों में सैकड़ों सैन्य वाहनों को दिखाया गया है जो चीनी ओर अस्तर के साथ-साथ चीनी निशान के मध्य और पिछड़े भागों में बांटे गए हैं।

सैटेलाइट तस्वीर में देखिए, दोनों सेनाएं आमने-सामने

भारत और चीन की सेनाओं के बीच रविवार रात को खूनी झड़प हुई थी। इस झड़प में भारत के 20 जवान शहीद हुए थे जबकि खबर के मुताबिक चीन के 40 से ज्यादा जवानों को मार गिराया गया। जिस जगह पर ये झड़प हुई है वहां की तस्वीर सामने आई है।

गलवान रिवर के आसपास का हिस्सा

सैटेलाइट से तस्वीरें मिलने के बाद चीन की नापाक चाल सामने आ गई है। चीन लगातर भारतीय इलाकों में घुसपैठ करना चाहता है। कई तस्वीरों में चीन के सैन्य वाहनों को भी देखा गया और आर्मी कैंप भी नजर आ रहे हैं।
  • गलवान घाटी की Exclusive तस्वीर
भारत और चीन की सेनाओं के बीच रविवार रात को खूनी झड़प हुई थी। इस झड़प में भारत के 20 जवान शहीद हुए थे जबकि खबर के मुताबिक चीन के 40 से ज्यादा जवानों को मार गिराया गया। जिस जगह पर ये झड़प हुई है वहां की तस्वीर सामने आई है। ये सैटेलाइट तस्वीर है। जो कि लद्दाख के गलवान घाटी के ऊपर से ली गई है। यही वो जगह है जहां पर झड़प हुई थी।

16 जून की तस्वीर

ये तस्वीर 16 जून की हैं। गलवान घाटी में ही दोनों सेनाओं के बीच झड़प हुई थी। इसके बाद से ही दोनों देशों के बीच तनावपूर्ण स्थिति बनी हुई है। हालांकि दोनों पक्षों को उम्मीद है कि बातचीत से मसला हल हो जाएगा।

भारतीय सैनिकों को उकसा रही है चीनी सेना

चीनी सैनिकों द्वारा भड़काने और भयावह कार्यवाहियों का सामना करने के बावजूद, ये तस्वीरें बयां कर रही हैं भारतीय सैनिक अपनी पोस्ट पर ही मजबूती से तैनात हैं। भारतीय सेना ने आधिकारिक तौर पर पुष्टि की है कि कम से कम 20 सैनिक मारे गए हैं और कई अन्य घायल हैं। सेना के मुताबिक ये जो एक खूनी और क्रूर विवाद था।

शहीद जवानों को श्रद्धांजलि

लद्दाख के गलवान घाटी में हुए खूनी संघर्ष में शहीद हुए भारतीय जवानों पर पुष्प अर्पित किए जा रहे हैं। उन्होंने देश की आन-बान-शान के लिए हंसते-हंसते अपनी जान वतन के लिए न्योछावर कर दी। इलाके में अभी भी चॉपर की गतिविधि देखी गई है।

आज जिन 15 राज्यों से पीएम नरेंद्र मोदी ने कोरोना पर बात की उसमें महाराष्ट्र, दिल्ली, तमिलनाडु, गुजरात जैसे राज्य शामिल हैं। ये वे राज्य या केंद्र शासित प्रदेश हैं जिनमें कोरोना विस्फोट हो चुका है। मतलब कोरोना के मामले यहां लगातार बढ़ते जा रहे हैं।

कोरोना वायरस पर बात करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दो दिन की बैठक बुलाई थी। इसमें पहले दिन की चर्चा मंगलवार को हुई थी। इसमें 21 राज्यों के मुखियाओं से बात की गई थी। ये वे 21 राज्य थे जिनमों कोरोना की स्थिति कंट्रोल में है।

 

 
 
Top