LIVE: कई घंटों से पुलिसकर्मियों का धरना-प्रदर्शन जारी, ज्वाइंट सीपी भी पहुंचे, गो बैक के लगे नारे

 

दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट के बाहर बीते शनिवार (2 नवंबर) को पुलिस और वकीलों के बीच हुई हिंसक झड़प के मामले में दिल्ली पुलिस के जवान लगभग साढ़े सात घंटे से प्रदर्शन कर रहे हैं। बीते तीन दिनों से जहां देशभर में वकील इस घटना का विरोध कर रहे थे, वहीं आज दिल्ली पुलिस मुख्यालय के बाहर पुलिसकर्मी प्रदर्शन कर रहे हैं। जानिए अबतक का अपडेट- 

मांग सुनने के बाद बाहर आए ज्वाइंट सीपी देवेश श्रीवास्तव दिया आश्वासन

घायल पुलिसकर्मियों का ध्यान रखा जाएगा और रखा जा रहा है, उनका सर्वोत्तम इलाज चल रहा है
पुलिस वेलफेयर एसोसिएशन पूरे भारत में होगी
ये सभी कदम आपके लिए उठाए जा रहे हैं
आपकी मांगों को माना जाएगा हम पर भरोसा रखें
ज्वाइंट सीपी की बात सुनने के बाद पुलिसवाले फिर से गो बैक के नारे लगाने लगे और उन्हें बोलने भी नहीं दिया।

दिल्ली पुलिस के एक जवान ने रखीं अपनी मांगें

  • पुलिस के आला अधिकारी कोर्ट में पुनरीक्षण याचिका(रीविजन पीटिशन) दाखिल करे
  • वकील या जिन लोगों ने भी पुलिस को पीटा उनके खिलाफ उचित धाराओं में केस दर्ज हो
  • कोर्ट और दिल्ली सरकार के कहे अनुसार झड़प में घायल हमारे जवानों का इलाज भी उसी तरह से हो जैसे वकीलों का हो रहा है
  • पुलिस वेलफेयर यूनियन होनी चाहिए
  • अगर फिर कभी ऐसा होता है तो दोषियों पर कड़ी कार्रवाई हो
  • आज जो लोग प्रदर्शन कर रहे हैं उनके खिलाफ बाद में कभी भी कोई कार्रवाई नहीं होनी चाहिए
  • पुलिसवालों के लिए पुलिस प्रोटेक्शन एक्ट बनें
  • अदालतों की सुरक्षा पूरी तरह हटाई जाए

ज्वाइंट सीपी के सामने लगे ‘गो बैक’ के नारे

ज्वाइंट सीपी राजेश खुराना भी प्रदर्शनकारियों को समझाने में नाकाम रहे। वह पुलिसवालों को अपनी ड्यूटी की याद दिला रहे थे तभी प्रदर्शनकारियों ने ‘हमें न्याय चाहिए’, ‘गो बैक’ और ‘मुद्दे की बात करो’ के नारे लगाने लगे। इस बीच माइक खराब होने से ज्वाइंट सीपी को वापस जाना पड़ा।

पुलिसवालों के परिजन पहुंच रहे इंडिया गेट, बढ़ाई गई सुरक्षा

पुलिसकर्मियों का एलान है कि कोई भी पुलिसकर्मी पुलिस मुख्यालय के बाद घर नहीं जाएगा। उनका कहना है कि उनके परिवार की महिलाएं और बच्चे भी इंडिया गेट पहुंच रहे हैं। इसी के तहत इंडिया और आसपास के इलाकों की सुरक्षा बढ़ा दी गई है।

पुलिस कमिश्नर पटनायक के समझाने का भी नहीं हुआ असर

दिल्ली के पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक नाराज पुलिसकर्मियों से मिलने पहुंचे। उन्होंने प्रदर्शनकारियों से शांति बनाए रखने की अपील की है। उन्होंने कहा, पिछले कुछ दिनों से परीक्षा की घड़ी है लेकिन ये हमेशा से रही हैं। हमने तरह-तरह की परिस्थिति को हैंडल किया। परिस्थिति उस दिन के हिसाब से सुधर रही है। तो इस स्थिति को हम परीक्षा की तरह माने और जो जिम्मेदारी हमें दी गई है उसे हम संभाले और कानूनी की रखवाली करें।

हमारे लिए ये अपेक्षा की भी घड़ी है। हमसे सरकार और जनता अपेक्षा करती है और हमने उसे हमेशा पूरा किया वैसे आगे भी करें। ये हमारे लिए प्रतीक्षा की भी घड़ी है। प्रतीक्षा की घड़ी इसलिए भी कि हाईकोर्ट ने जो जांच कमेटी बैठाई है वह न्याय करेगी।

उन्होंने प्रदर्शन कर रहे पुलिसवालों से ड्यूटी पर लौटने की अपील की। उन्होंने कहा कि जिस तरह दिल्ली पुलिस को  उनके पूरे भाषण के दौरान जबरदस्त नारेबाजी जारी रही। पुलिसवालों ने नारेबाजी की कि, पुलिस कमिश्नर कैसा हो किरण बेदी जैसा हो। इन नारों के बीच पुलिस कमिश्नर को वापस लौटना पड़ा।

कांग्रेस का बीजेपी पर हमला

बताया जा रहा है कि दिल्ली पुलिस के इतिहास में इस तरह का प्रदर्शन पहली बार हो रहा है। इसी पर कांग्रेस ने मोदी सरकार को आड़े हाथों लिया है। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर लिखा, ’72 साल में पहली बार – पुलिस प्रदर्शन पर! क्या ये है भाजपा का ‘न्यू इंडिया’? देश को कहां और ले जाएगी भाजपा? कहां गुम हैं गृह मंत्री, श्री अमित शाह? मोदी है तो ही ये मुमकिन है!’

72 साल में पहली बार – पुलिस प्रदर्शन पर!

क्या ये है भाजपा का ‘न्यू इंडिया’?

देश को कहाँ और ले जाएगी भाजपा?

कहाँ गुम हैं गृह मंत्री, श्री अमित शाह?

मोदी है तो ही ये मुमकिन है!!! pic.twitter.com/SXNNF6vcYI

— Randeep Singh Surjewala (@rssurjewala) November 5, 2019

डीसीपी ईश सिंघल भी नहीं दिला सके भरोसा

इस बीच सड़क पर उतरे पुलिसकर्मियों को समझाने के लिए आला अधिकारी डीसीपी ईश सिंघल उनके बीच पहुंचे और कार्रवाई करने का भरोसा भी दिलाया लेकिन प्रदर्शनकारियों ने उनकी बात मानने के बजाय, ‘हमें न्याय चाहिए'(वी वांट जस्टिस) के नारे लगाए।

ईश सिंघल ने उनसे कहा कि आप लोगों की मंशा जायज है, आपका आना विफल नहीं जाएगा, हमलोग बैठकर बात करेंगे। यह सुनते ही प्रदर्शनरत पुलिसवाले शोर मचाने लगे।

फिर अधिकारियों ने उनसे शांति बनाए रखने की अपील की और आगे कहा कि दोषियों पर कानूनी कार्रवाई जारी रहेगी। यदि हम सड़क पर इस मुद्दे को हाइलाइट करने की कोशिश करेंगे तो फायदा किसका होगा। उन्होंने ये भी विश्वास दिलाया कि दोषियों के खिलाफ कार्रवाई भी होगी।बार काउंसिल ऑफ इंडिया ने लगाई वकीलों को फटकार

दिल्ली के अलग-अलग बार काउंसिल को खत लिखकर बार काउंसिल ऑफ इंडिया ने फटकार लगाई है कि आप जल्द अपनी हड़ताल खत्म करें। आज शाम पांच बजे तक अपनी हड़ताल पर फैसला कर लें।

 
 

Related posts

Top