टेरर फंडिंग मामले में कई अन्य के नाम आए सामने, विदेशी नागरिक भी शामिल

 

टेरर फंडिंग के मामले में एटीएस को कई और लोगों के बारे में जानकारी मिली है। इनमें कुछ विदेशी नागरिकों के नाम भी शामिल हैं। एटीएस इनका तलाश में है। इसके साथ ही एटीएस को इस मामले में गिरफ्तार आरोपी सदाकत की छह दिन की रिमांड मिल गई है।

एटीएस ने टेरर फंडिंग के मास्टर माइंड नाईजीरिया के चिन्यूबा माइकल व हरमन असांगे को छह दिन की रिमांड पर लेकर पूछताछ की। इसमें दोनों आरोपियों ने टेरर फंडिंग के रैकेट से जुड़े कई लोगों के बारे में जानकारी दी। एटीएस के अफसरों के अनुसार इनमें आधा दर्जन से अधिक लोगों यूपी व अन्य प्रदेशों के हैं जबकि कुछ विदेशी नागरिकों के नाम भी हैं।

एटीएस आरोपियों से मिली जानकारी की तस्दीक कर रही है जिसके बाद इन लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जाएगी। रिमांड अवधि समाप्त होने पर एटीएस ने बुधवार को नाईजीरिया निवासी दोनों आरोपियों को वापस जेल भेज दिया।

हाथ लगी अहम जानकारियां
नाईजीरिया के निवासी दोनों आरोपियों के लैपटाप व मोबाईल व फोन से एटीएस को इस मामले से संबंधित खासी अहम जानकारियां हाथ लगी है। इसमें दस हजार से अधिक लोगों के नंबर, लाखों मेल आईडी, साइबर फ्राड (नौकरी, लाटरी फ्राड आदि) से संबंधित दस्तावेज, फ्राड में इस्तेमाल की जाने वाली कई कंपनियों की मेल आईडी व पासवर्ड और सोशल इंजीनियरिंग अटैक में इस्तेमाल की जाने वाली सैकड़ों की संख्या में स्क्रिप्ट शामिल हैं।

सदाकत की छह दिन की मिली रिमांड
टेरर फंडिंग के रैकेट में अहम भूमिका निभाने वाले बरेली निवासी सदाकत की एटीएस को छह दिन की रिमांड हासिल हो गई है। एटीएस उसे पूछताछ के लिए बृहस्पतिवार को ले आएगी। सदाकत के जरिए नेपाल से टेरर फंडिंग के लिए रकम लाने और उसे यहां दिल्ली व अन्य जगहों पर लोगों को दिए जाने के साक्ष्य एटीएस को पहले हा हासिल हो चुके हैं। एटीएस सदाकत से उन लोगों के नाम जानने की कोशिश करेगी जिन्हें रकम दी गई और जिन्होंने इस रकम को औरों को दिया। सदाकत से यह पूछा जाना है कि इस रकम का कहां क्या इस्तेमाल किया जाना था।

 
 

Related posts

Top