दिल्ली AIIMS का सर्वर ठप, रैंसमवेयर हमले की आशंका, मैनुअल मोड पर चल रहा सिस्टम

दिल्ली AIIMS का सर्वर ठप, रैंसमवेयर हमले की आशंका, मैनुअल मोड पर चल रहा सिस्टम

एम्स प्रशासन लगातार इसे सुलझाने में लगा हुआ है. सैंपल भेजने से लेकर उसके कलेक्शन और दूसरी कई समस्याएं बढ़ गई हैं. फिलहाल, एम्स प्रशासन मैनुअल तरीके से काम चला रहा है.

New Delhi : दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में इस्तेमाल होने वाला राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र का ई-हॉस्पिटल सर्वर सुबह 7 बजे से बंद हो गया, जिसके चलते ओपीडी (बहिरंग रोगी विभाग) और नमूना संग्रह सेवाएं घंटों प्रभावित रहीं. वहीं, एम्स के अधिकारियों ने कहा कि ये सभी सेवाएं फिलहाल मैनुअल मोड पर काम कर रही हैं. एम्स ने अपने एक बयान में यह भी कहा कि एम्स में काम कर रही राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र (एनआईसी) की एक टीम ने सूचित किया है कि यह एक रैंसमवेयर हमला हो सकता है. उचित कानून प्रवर्तन अधिकारी इसकी जांच करेंगे.

एम्स के एक अधिकारी ने कहा कि सर्वर बंद होने से स्मार्ट लैब, बिलिंग, रिपोर्ट जनरेशन और अपॉइंटमेंट सिस्टम समेत ओपीडी और आईपीडी डिजिटल अस्पताल सेवाएं प्रभावित हुई हैं. एक अन्य अधिकारी ने कहा कि ओपीडी और नमूना संग्रह सेवाएं मैनुअल मोड में प्रदान की गईं. एम्स ने बयान में कहा कि डिजिटल सेवाएं बहाल करने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं और भारतीय कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पांस टीम (सीईआरटी-इन) व एनआईसी की मदद ली जा रही है. बयान में यह भी कहा गया है कि भविष्य में इस तरह के हमलों को रोकने के लिए एम्स और एनआईसी उचित सावधानी बरतेंगे. शाम साढ़े सात बजे तक अस्पताल सेवाएं मैनुअल मोड पर प्रदान की जा रही हैं.

नहींं बन सके मरीजों के पर्चे

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, सुबह से ही सर्वर ठप होने के चलते नए मरीजों के ओपीडी पर्चे तक नहीं बन सके. मैनुअल तरीके से मरीजों के कार्ड व पर्चे बनाए गए. जिसके चलते लंबी-लंबी कतारें काउंटर पर लगी रहीं. बताया यह भी जा रहा है कि मरीजों को इलाज मिलने में घंटों इंतजार भी करना पड़ा. मरीजों का पर्चा बनाने से लेकर अन्य कई काम प्रभावित है. वहीं, एक्सपर्ट की टीम सर्वर में आई गड़बड़ी को तलाशने और सुधार करने की कोशिश में लगे रहे.


पत्रकार अप्लाई करे Apply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *