बिजनौर: पदयात्रा से पहले भाजपा नेताओं में मारपीट, मची अफरा-तफरी, ये था पूरा मामला

 

बिजनौर जनपद में महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर भाजपा की ओर से निकाली जा रही पदयात्रा से पहले मिठाई खिलाने को लेकर भाजपा के दो नेता आपस में भिड़ गए। दोनों में मारपीट हो गई। इसे लेकर हंगामा मचा रहा।

महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर भाजपा की ओर से पदयात्रा निकाली जा रही है। मंगलवार को भाजपा के नेता व कार्यकर्ता प्रदर्शनी मैदान में इकत्र हुए। पदयात्रा से करीब एक घंटा पहले भाजपा के प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य राममोहन अग्रवाल पार्टी नेताओं को दीपावली की मिठाई खिला रहे थे। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक राममोहन अग्रवाल ने भाजपा के पूर्व जिला महामंत्री विकास अग्रवाल को मिठाई खाने को कहा। विकास ने कह दिया कि एआरटीओ की भेजी हुई मिठाई तो नहीं है। राममोहन अग्रवाल ने मिठाई अपने पैसों की बताई। इस बात पर दोनों में गरमागरमी शुरू हो गई। इसके बाद दोनों में मारपीट शुरू हो गई। मारपीट में राममोहन अग्रवाल की ओर से सपा के पूर्व नेता कामेंद्र तोमर भी कूद पड़े। इसे लेकर हंगामा मचा रहा। बाद में पार्टी नेताओं ने दोनों नेताओं को समझाकर मामला शांत किया।
राममोहन अग्रवाल के मुताबिक दोनों में थोड़ी गरमागरमी हो गई थी, बाकी कुछ नहीं हुआ। कुछ लोग बेवजह घटना को तूल दे रहे हैं। विकास अग्रवाल के मुताबिक राममोहन अग्रवाल और वे पुराने मित्र हैं। दोनों में थोड़ी झड़प हो गई थी, मारपीट नहीं हुई।

विवाद के करीब एक घंटे बाद पदयात्रा निकाली गई, जिसमें जिलाध्यक्ष राजीव सिसौदिया, पूर्व सांसद भारतेंद्र सिंह, रचना पाल, डॉ. बीरबल सिंह, जिला पंचायत सदस्य साकेंद्र चौधरी, दीपक गर्ग मोनू आदि मौजूद रहे।

जिलाध्यक्ष पद के दोनों हैं दावेदार
प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य राममोहन अग्रवाल व विकास अग्रवाल भाजपा के जिलाध्यक्ष पद के भी दावेदार हैं। दोनों में जिलाध्यक्ष पद को लेकर ही तनातनी चल रही है। विवाद के दौरान दोनों में खूब खींचतान हुई। डॉ. भुवनेंद्र चौधरी व कृष्णबलदेव सिंह ने बीच बचाव कराया।

 
 

Related posts

Top