ब्लड शुगर टेस्ट स्ट्रिप सस्ते में प्राप्त करे
Dr. Morepen BG-03 Blood Glucose Test Strips, 50 Strips (Black/White)

Balia Murder Case: बलिया में हत्या के मुख्य आरोपित के समर्थन में भाजपा विधायक सुरेंद्र सिंह-बोले क्रिया की प्रतिक्रिया तो होगी

 

बलिया। कोटे की दुकान के आवंटन के समय एसडीएम व सीओ की मौजूदगी में मारपीट तथा फायरिंग में एक की मौत के मामले में मुख्य आरोपित धीरेंद्र प्रताप सिंह के समर्थन में बलिया के बैरिया से भाजपा के विधायक सुरेंद्र सिंह खुलकर आ गए हैं। भाजपा विधायक ने रेवती थाना क्षेत्र के इस कांड पर कहा कि जहां तक मुझे पता चला है कि धीरेंद्र प्रताप सिंह ने अपनी जान बचाने के लिए गोली चलाई है। मेरा तो यह मानना है कि अगर कोई किसी के पिता, मां, भाभी और बहू को मारेगा तो फिर क्रिया की प्रतिक्रिया होगी।

एसडीएम और सीओ के सामने गोली मारकर जयप्रकाश पाल की हत्या करने वाला मुख्य आरोपित धीरेंद्र प्रताप सिंह पुलिस की पकड़ से बाहर है। धीरेंद्र प्रताप सिंह भाजपा विधायक सुरेंद्र सिंह का करीबी है। वारदात को लेकर अब विधायक सुरेंद्र सिंह का विवादास्पद बयान सामने आया है। विधायक ने कहा कि आप लोग जिसे आरोपी बता रहे हैं, उसके पिता को उन्होंने (पीड़ित पक्ष ने) डंडे से मारा था। किसी के पिता, किसी की मां, किसी की भाभी और किसी की बहू को कोई मारेगा तो क्रिया की प्रतिक्रिया होगी ही। धीरेंद्र ने आत्मरक्षा में गोली चलाई है।

भारतीय जनता पार्टी के विधायक सुरेंद्र सिंह ने धीरेंद्र प्रताप सिंह के बारे में कहा कि उसने आत्मरक्षा में गोली चलाई थी। धीरेंद्र ने अगर आत्मरक्षा में गोली नहीं चलाया होता, तो उसके परिवार के कम से कम एक दर्जन लोग मारे जाते। जिस तरह से प्रशासन अपनी कार्रवाई कर रहा है, मैं आग्रह करूंगा कि दूसरे पक्ष की बात भी करें। अगर आरोपित ने गोली चलाई तो वो आत्मरक्षा में चलाई है, यह अपराध हो सकता है लेकिन आत्मरक्षा के लिए ही असलहा खरीदने का लाइसेंस मिलता है। उसके सामने स्थिति ऐसी थी कि वहां पर मरने और मारने के अलावा कोई दूसरा विकल्प नहीं था।

विधायक सुरेंद्र सिंह ने ही बयान दिया था कि आरोपी धीरेंद्र प्रताप सिंह उनका सहयोगी है। लोकसभा व विधानसभा के चुनाव में उसने पार्टी का सहयोग किया है, ऐसे में मैं कैसे कह दूं कि वो मेरा सहयोगी नहीं है। मैं कैसे मना कर सकता हूं कि वह मेरा करीबी सहयोगी है। मेरा ही नहीं, वह भाजपा का बेहद  करीबी सहयोगी हैं। उनके परिवार ने हमें वोट दिया और उन्होंने हमारे लिए चुनाव में काम किया। हर कोई जो हमारे लिए वोट करता है वह एक करीबी सहयोगी है। मैं इस घटना और प्रशासन की एकतरफा जांच को समाप्त करता हूं।

पुलिस ने गुरुवार रात धीरेंद्र के घर पर छापा मारा, लेकिन कोई नहीं मिला। आरोपी के घर के बाहर खड़ी उसकी गाड़ी तोड़ दी गई। अब आरोपी की गिरफ्तारी के लिए 12 टीमें बनाई गई है। डीआईजी आजमगढ़ गांव में कैंप कर रहे हैं। डीएम श्रीहरि प्रताप शाही ने बताया कि एफआईआर में नामजद मुख्य आरोपी का भाई गिरफ्तार कर लिया गया है। अब तक पांच गिरफ्तार हुए हैं। धीरेंद्र सिंह ने लाइसेंसी रिवॉल्वर से हत्या की है। सभी आरोपियों का लाइसेंस रद्द किया गया जाएगा।

मृतक का भाई बोला- विधायक सुरेंद्र पर था धीरेंद्र का हाथ

मृतक जयप्रकाश पाल के भाई तेज बिहारी पाल ने बताया कि कोटे की दुकान को लेकर दो प्रत्याशी लड़ रहे थे। प्रशासन चुनाव निष्पक्ष कराना चाह रहा था। इसी बीच हार देखकर धीरेंद्र प्रताप के गुट ने पथराव और फायरिंग शुरू कर दिया। आरोपी धीरेंद्र आर्मी से रिटायर्ड है। विधायक के साथ रहता है। उन्होंने उसे (धीरेंद्र को) मनबढ़ कर दिया है। मौके पर दस सिपाही और दो महिला सिपाही थीं। पुलिस उन्हेंं बचा रही थी, हमें पीट रही थी। गोली लगने के बाद जब मेरा भाई गिर गया तो पुलिस ने उसे घेर पकड़ा, लेकिन आगे ले जाकर फरार कर दिया।

 
 

Related posts

Top