स्वामी प्रसाद मौर्य और दारा सिंह चौहान के जाने से UP चुनाव में बीजेपी पर क्या पड़ेगा असर ?

स्वामी प्रसाद मौर्य और दारा सिंह चौहान के जाने से UP चुनाव में बीजेपी पर क्या पड़ेगा असर ?
  • यह तय हो चुका है कि स्वामी प्रसाद मौर्य सपा का हाथ थामेंगे और चुनाव में भाजपा के खिलाफ प्रचार करेंगे. वह तीन दशक से यूपी की राजनीति में हैं.

लखनऊ: समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में बीजेपी को हराने के लिए एक नया सामाजिक चुनावी फॉर्मूला तैयार करने का प्रयास करने में जुटे हुए हैं. स्वामी प्रसाद मौर्य और दारा सिंह चौहान के इस्तीफे को उसी सोशल इंजीनियरिंग प्रयास के परिणाम के रूप में देखा जा रहा है. भाजपा ने 2017 में उत्तर प्रदेश में गैर यादव अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) मतदाताओं पर ध्यान केंद्रित करके जीत का फॉर्मूला तैयार किया था. अब स्वामी प्रसाद मौर्य और दारा सिंह चौहान के इस्तीफे से यह जातिगत समीकरण बीजेपी के खिलाफ हो सकता है और यह अखिलेश यादव के लिए काम कर सकता है. अखिलेश यादव अगले महीने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी के गैर यादव ओबीसी नेताओं को आकर्षित करने में जुटे हुए हैं. मौर्य और चौहान से पहले लालजी वर्मा और राम अचल राजभर का सपा में शामिल होना उसी रणनीति का हिस्सा प्रतीत हो रहा है.

यादव और कुर्मी के बाद तीसरा सबसे बड़ा वोट बैंक मौर्य पर नजर

उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के बाद स्वामी प्रसाद मौर्य को भाजपा का दूसरा सबसे बड़ा गैर-यादव ओबीसी चेहरा माना जाता था. यह तय हो चुका है कि स्वामी प्रसाद मौर्य सपा का हाथ थामेंगे और चुनाव में भाजपा के खिलाफ प्रचार करेंगे. वह तीन दशक से यूपी की राजनीति में हैं और उन्होंने पिछड़ा वर्ग समर्थक नेता की छवि बनाई है. वह बौद्ध धर्म, बीआर अंबेडकर और दलित नेता कांशीराम के बारे में मुखर रहे हैं. कई लोगों का मानना ​​था कि वर्ष 2016 में भाजपा में शामिल होने का उनका विकल्प विचारधारा से अधिक राजनीतिक अवसरवाद के कारण था. स्वामी प्रसाद मौर्य के भाजपा से समाजवादी पार्टी में जाने से विधानसभा चुनाव में अखिलेश यादव के दावे को बल मिलने की संभावना है.  उनका समुदाय मौर्य उत्तर प्रदेश में ओबीसी श्रेणी में यादवों और कुर्मियों के बाद तीसरा सबसे बड़ा वोट बैंक है. इसके अतिरिक्त, स्वामी प्रसाद मौर्य ने कभी भी खुद को सभी समुदायों के नेता के रूप में स्थापित नहीं किया. उन्होंने खुद को दलितों और पिछड़े वर्गों के नेता के रूप में पेश किया है. यह स्थिति अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी को आगामी चुनाव में मदद कर सकती है.

सपा की रणनीति

मौर्य के अलावा, जिन अन्य नेताओं पर समाजवादी पार्टी की नजर है, उनमें ब्रजेश प्रजापति (प्रजापति-ओबीसी), भगवती सागर (कुरील-दलित), रोशन लाल वर्मा (लोध-ओबीसी) और विनय शाक्य (मौर्य-ओबीसी) शामिल हैं. दूसरी ओर, दारा सिंह चौहान नोनिया (ओबीसी) समुदाय से आते हैं, जो 2014 के लोकसभा चुनाव के बाद भाजपा का एक बड़ा वोट बैंक बन गया. स्वामी प्रसाद मौर्य की तरह दारा सिंह चौहान भी 2017 के यूपी चुनावों से पहले बहुजन समाज पार्टी से भाजपा में शामिल हो गए. बसपा में रहते हुए चौहान ने 1996 में राज्यसभा की सदस्यता जीतने वाले पिछड़े वर्गों के नेता की प्रतिष्ठा बनाई. बाद में, वह समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए और 2004 में लोकसभा चुनाव लड़ा. वह हार के बाद बसपा में वापस शामिल हो गए. उन्होंने 2009 में बसपा के लिए घोसी लोकसभा सीट जीती, लेकिन 2014 में हार गए जब मोदी लहर ने चुनावों में जीत हासिल की. भाजपा में चौहान ने पार्टी के पिछड़ा वर्ग मोर्चा का नेतृत्व किया, जिसने उन्हें 2017 के यूपी विधानसभा चुनावों में मैदान में उतारा और योगी आदित्यनाथ सरकार में मंत्री बनाया गया. अखिलेश यादव की निगाहें उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में दारा सिंह चौहान की मदद से भाजपा के नोनिया समुदाय के वोट बैंक में पैठ बनाने की हैं.


पत्रकार अप्लाई करे Apply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *