तीस हजारी बवालः हत्या की कोशिश की एक और रिपोर्ट दर्ज, एसआईटी ने शुरू की जांच

 

तीस हजारी बवाल मामले में एक और एफआईआर वकील पंकज दुबे ने दर्ज कराई है। सब्जी मंडी थाने में दर्ज हत्या की कोशिश के मुकदमे में पंकज दुबे ने कहा है कि उनके ऊपर गोलियां चलाई गईं।

इसके बाद उनके हाथ के अंगूठे में चोट लगी। इसके बाद तीस हजारी बवाल मामले में दर्ज एफआईआर की संख्या 7 हो गई। इनमें 5 वकीलों, 1 जज धर्मेश शर्मा और 1 घायल पुलिसकर्मी प्रदीप की शिकायत पर दर्ज हुई है।

अपराध शाखा की एसआईटी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि तीस हजारी बवाल में कुल 21 पुलिसकर्मी और 5 वकील घायल हुए हैं। घायल पुलिसकर्मियों ने भी सब्जी मंडी थाने में शिकायत दी है, लेकिन इस पर अभी एफआईआर दर्ज नहीं हुई है।

दूसरी तरफ, अपराध शाखा की एसआईटी ने तीस हजारी बवाल की जांच शुरू कर दी है। एसआईटी को सब्जी मंडी थाने से फाइल मंगलवार को मिल गई। एसआईटी ने घायल वकीलों और पुलिसकर्मियों के बयान लेने शुरू कर दिए हैं।

अब तक एक दर्जन से ज्यादा लोगों के बयान दर्ज किए जा चुके हैं। एसआईटी ने घटनास्थल के पास लगे करीब आधा दर्जन सीसीटीवी कैमरों की फुटेज को जब्त कर लिया है। फुटेज से सारी स्थिति स्पष्ट हो रही है कि किसने क्या किया।

एसआईटी की जांच में यह बात सामने आई है कि उत्तरी जिले के अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त हरेंद्र कुमार से वकीलों की हाथापाई के दौरान तीसरी बटालियन के एक पुलिसकर्मी ने हवा में दो गोलियां चलाई थीं।

लॉकअप से हवा में बाहर की तरफ चलाई गई इन दो में से एक गोली इसके लोहे के एंगल से टकराई और फिर वकील विजय शर्मा के कंधे में जा लगी। एसआईटी को पता चला है कि हवा में फायरिंग के बाद ही आरोपियों ने एडीसीपी हरेंद्र कुमार को छोड़ा था। इसके बाद भीड़ तितर-बितर हो गई थी।

 
 

Related posts

Top