हॉन्ग-कॉन्ग में चीन के दमन पर दुनिया की नजरें, अब संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयोग ने घेरा

 

 

  • चीन के हॉन्ग-कॉन्ग में अत्याचार पर UNHRC ने जताई चिंता
  • मूलभूत आजादी, विरोध प्रदर्शनों, लोकतंत्री की मांग को दबाया
  • पुलिस को अत्याधिक बलप्रयोग की इजाजत, शोषण-प्रताड़ना
  • हॉन्ग-कॉन्ग पर मजबूत पकड़ को चीन लाया राष्ट्रीय सुरक्षा कानून

पेइचिंग/जेनेवा
कोरोना वायरस महामारी में दुनिया को फंसा देखकर चीन भले ही अपने मंसूबों को आराम से अंजाम देने में लगा हो, पूरी दुनिया की नजरें उसकी हरकतों पर टिकी हैं। इसका हालिया उदाहरण संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयोग (UNHRC) के बयान में देखने मिला है। UNHRC ने हॉन्ग-कॉन्ग में चीन के अत्याचार को लेकर चिंता व्यक्त की है। आयोग ने वहां हो रहे प्रदर्शनों को दबाने और उत्पीड़न के आरोपों पर चीन से सवाल किया है। इससे पहले संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) में अमेरिका, ब्रिटेन की अपील पर इस मुद्दे पर अनौपचारिक चर्चा की गई थी।

‘आजादी दबाए जाने को लेकर चिंता
संयुक्त राष्ट्र के मानवाधिकार उच्चायुक्त के ऑफिस ने आधिकारिक बयान जारी कर कहा है कि संयुक्त राष्ट्र के स्वतंत्र एक्सपर्ट्स ने पीपल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना से लगातार संपर्क किया है और चीन में मूलभूत आजादी को दबाए जाने को लेकर चिंता व्यक्त की है। उन्होंने आरोप लगाया है कि हॉन्ग-कॉन्ग विशेष प्रशासन में विरोध प्रदर्शनों और लोकतंत्र की वकालत को दबाया जाता है।

‘बलप्रयोग, महिलाओं का शोषण-उत्पीड़न’
इसके साथ ही यह भी आरोप लगाया गया है कि पुलिस को अत्याधिक बलप्रयोग की भी इजाजत है और प्रदर्शनकारियों के खिलाफ केमिकल एजेंट्स तक इस्तेमाल किए जाते हैं। यही नहीं, महिला प्रदर्शनकारियों के पुलिस स्टेशनों में यौन शोषण और प्रताड़ना और हेल्थ केयर वर्कर्स की प्रताड़ना के आरोप भी लगे हैं। चीन हॉन्ग-कॉन्ग पर पकड़ मजबूत करने के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा कानून लाया है। इस पर काम करने के लिए उसने एक ब्यूरो भी खोलने का फैसला किया है।

UNSC में भारत के खिलाफ खड़ा था चीन, अब चखा अपनी ही दवा का स्वाद

‘चीन ने बताया था अपना आंतरिक मुद्दा
हॉन्ग कॉन्ग में नए सुरक्षा कानून को लागू करवा कर चीन अपनी पकड़ को मजबूत करना चाहता है। अमेरिका और ब्रिटेन जैसे देशों ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में इस बारे में अनौपचारिक चर्चा का प्रस्ताव दिया था जिस पर चीन ने इसे अपना आंतरिक मुद्दा बताया था। हॉन्ग कॉन्ग में बढ़ते विरोध प्रदर्शनों से चीनी सरकार घबराई हुई है। इस कानून के लागू हो जाने के बाद हॉन्ग कॉन्ग में विरोध प्रदर्शन करना आसान नहीं होगा।

हॉन्ग-कॉन्ग पर अधिकार बढ़ाने का प्लान, राष्ट्रीय सुरक्षा ब्यूरो बनाएगा चीन

सीधे पेइचिंग को जवाबदेह होंगे सरकारी निकाय
हॉन्ग-कॉन्ग में वित्त से लेकर आव्रजन तक सभी सरकारी विभागों के निकाय सीधे पेइचिंग की केंद्र सरकार के प्रति जवाबदेह होंगे। इस कानून को लेकर चीन पर अर्ध-स्वायत्त हॉन्ग-कॉन्ग के कानूनी और राजनीतिक संस्थानों को कमजोर करने के आरोप लगे हैं। बता दें कि हॉन्ग-कॉन्ग ब्रिटिश शासन से चीन के हाथ 1997 में ‘एक देश, दो व्यवस्था’ के तहत आया और उसे खुद के भी कुछ अधिकार मिले हैं। इसमें अलग न्यायपालिका और नागरिकों के लिए आजादी के अधिकार शामिल हैं। यह व्यवस्था 2047 तक के लिए है।

साल 2019 की भारत-चीन झड़प का अनदेखा विडियो आया सामने

साल 2019 की भारत-चीन झड़प का अनदेखा विडियो आया सामने2019 के एक अनदेखे वीडियो में, भारतीय सैनिकों को चीनी लोगों को पीछे धकेलते हुए देखा गया था जिन्होंने भारतीय क्षेत्र में घुसपैठ करने का प्रयास किया था। लेकिन, कोशिश नाकाम कर दी गई। इससे पता चलता है कि चीनी सैनिकों ने अतीत में भी इस तरह के प्रयास किए थे। वर्तमान गतिरोध में, वीडियो-सम्मेलन के माध्यम से 24 जून को राजनयिक वार्ता हुई। 15 जून को चीनी सैनिकों के साथ हुई झड़प में 20 भारतीय सैनिक मारे गए थे। दोनों देश बातचीत और कूटनीतिक माध्यम से इस मुद्दे को सुलझाने की कोशिश कर रहे हैं।

 

 
 

Related posts

Top