पाक से छूट कर आए सैनिक चंदू चव्हाण ने सेना पर लगाया उत्पीड़न का आरोप, दिया इस्तीफा

 

खास बातें

  • 2016 में एलओसी पर ड्यूटी के दौरान गलती से सीमा पार की थी
  • पाक रेंजरों ने किया था गिरफ्तार, चार महीने तक किया था प्रताड़ित
  • सेना ने चंदू को बताया अनुशासनहीन, खारिज किए सभी आरोप

साल 2016 में गलती से सीमा पार कर पाकिस्तान चले गए सैनिक चंदू चव्हाण ने कहा है कि वह लगातार उत्पीड़न होने के चलते सेना छोड़ रहे हैं। वहीं, सेना ने चंदू के आरोप को बेबुनियाद बताया है। सेना ने अपना पक्ष रखते हुए कहा है कि वह (चंदू चव्हाण) एक अपराधी है और उसके खिलाफ विभिन्न अपराधों के लिए पांच बार अनुशासनात्मक कार्रवाई की गई है।

चंदू ने कहा, ‘जबसे मैं पाकिस्तान से वापस आया हूं, सेना लगातार मेरा उत्पीड़न करती रही है और मुझे शक की नजरों से देखा जा रहा है, इसीलिए मैंने सेना छोड़ने का फैसला लिया।’ चव्हाण के करीबियों ने बताया कि उसने अपना इस्तीफा अपने यूनिट कमांडर को अहमदनगर में भेज दिया है।

देर शाम को जारी एक बयान में सेना ने कहा कि हाल ही में यूनिट लाइनों में नशे में पाए जाने के बाद चव्हाण के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्यवाही शुरू की गई थी, जिसके बाद वह अपनी यूनिट से फरार हो गया था।

बयान में कहा गया कि चव्हाण को तीन अक्तूबर से तत्काल प्रभाव से ‘बिना अवकाश के अनुपस्थित’ घोषित किया गया था। बयान के मुताबिक, ‘सेना किसी भी परिस्थिति में इस प्रकृति की अनुशासनहीनता को स्वीकार नहीं करेगी। यूनिट को समयपूर्व निर्वहन के लिए कोई अनुरोध भी नहीं मिला है।’

बता दें कि गलती से सीमा पार करने के बाद चव्हाण को पाकिस्तानी रेंजरों ने गिरफ्तार कर लिया था और उसे भारत वापस भेजने से पहले चार महीने तक प्रताड़ित किया था। पिछले महीने, चव्हाण का एक्सीडेंट हो गया था और उसे गंभीर चोट आई थी।

 
 

Related posts

Top