नाइजीरियन ठगों के बारे चौंकाने वाले खुलासे, फर्जी आईडी बनाकर महिलाओं को ऐसे फंसाते थे जाल में

 

ऑनलाइन धोखाधड़ी के मामले में गिरफ्तार नाइजीरियन शादी की वेबसाइट पर फर्जी आईडी बनाकर जरूरतमंद एवं पैसे वाली तलाकशुदा महिलाओं को तलाश कर संपर्क करते थे। किसी व्यवसाय से जुड़ीं, नौकरी पेशे वाली महिलाओं को आरोपी दोस्ती के जाल में फंसाते थे। पुलिस द्वारा बरामद किए गए लैपटॉप में सैकड़ों फर्जी फेसबुक आईडी मिली है।

मंडी कोतवाली पुलिस ने बुधवार को दो नाइजीरियन युवकों पॉल हैरिस, जॉर्ज और उनकी साथी भारतीय युवती सिरिजा को गिरफ्तार किया है। एसपी सिटी विनीत भटनागर ने बताया कि तीनों मिलकर अपने लैपटॉप पर फर्जी फेसबुक आईडी, मेल आईडी बनाकर लोगों के साथ दोस्ती करके धोखाधड़ी करते थे। आरोपी शादी की वेबसाइट पर ऐसी महिलाओं से संपर्क करते थे जिनसे पैसे मिलने की उम्मीद रहती थी। व्यवसायिक, नौकरी पेशे वाली तलाकशुदा अथवा विधवा महिला को ही अपने जाल में फंसाते थे।

पीड़ित महिला के साथ भी कृष्णा कुमार के नाम की फर्जी एनआरआई की आईडी बनाकर दोस्ती की थी। महिला को बताया कि वह एनआरआई है और विदेश से सोना लेकर आ रहा है। उसके दो बच्चे भी हैं। अपना जन्मदिन वह भारत में ही मनाएगा। इस प्रकार अपने आपको हाईप्रोफाइल दिखाकर महिलाओं को जाल में फंसाते थे। फिर कस्टम की ओर से पकड़े जाने की बात कहकर कस्टम विभाग की महिला अधिकारी बनाकर अपनी साथी से ही फोन कराते थे। अलग-अलग खाते में ही पैसे मंगवाते थे, जिससे किसी को शक न हो सके। आरोपियों से बरामद लैपटॉप स्क्रीन पर कृष्णा नाम से फोल्डर बना मिला। जिसमें 99 फोटोग्राफ मिले, जिन्हें शादी की वेबसाइट पर अपलोड करके पीड़िता के साथ धोखाधड़ी की गई थी। आरोपियों के लैपटॉप में कई फोल्डर, कई आईडी एवं बायोडाटा भी मिले।

यह भी पढ़ें: खुलासा: सामने आई बैंक लूट की असली सच्चाई, चुनाव लड़ना चाहता था वारदात का ‘मास्टरमाइंड’

 
 

Related posts

Top