जांच में हुआ चौकाने वाला खुलासा, ताजनगरी में पाकिस्तानी बिल्डर ने बनाई कॉलोनी, बिक रहे प्लॉट

 

अलकौशर बिल्डर्स एंड डवलपर्स ने नियम विरुद्घ बिचपुरी के चौहटना गांव में कॉलोनी बनाने के लिए 1.09 करोड़ रुपए में 5846 वर्ग मीटर जमीन खरीद ली। नामांतरण के लिए फाइल नायब तहसीलदार कोर्ट में पहुंची तो जांच में कंपनी का पता पाकिस्तान के कराची शहर का निकला। नामांतरण आवेदन निरस्त कर नायब तहसीलदार ने खरीदी गई जमीन को राज्य सरकार में मिलाने के लिए फाइल जिलाधिकारी को भेजी है।

भोगीपुरा निवासी अशोक कुमार ने अल कौशर बिल्डर्स एंड डवलपर्स पार्टनर हाजी केसर अली पुत्र सुलेमान खान को 1.09 करोड़ रुपए में बिचपुरी ब्लॉक के चौहटना गांव में 5846 वर्ग मीटर जमीन बेची। सब रजिस्ट्रार दफ्तर में 13 नवंबर 2019 को जमीन का बैनामा हुआ।

इसमें खरीददार का पता सिंधी कॉलोनी, एटा दर्ज कराया। जमीन की सर्किल रेट से कीमत 1.44 करोड़ थी। फिर 23 दिसंबर 2019 को जमीन का नामांतरण अल कौशर बिल्डर्स एंड डवलपर्स के हक में कराने के लिए हाजी केसर अली ने नायब तहसीलदार कोर्ट में आवेदन किया।

नायब तहसीलदार सुनील कुमार ने बताया कि नामांतरण से पूर्व मैंने खरीददार से कई बार पूछताछ की। अल कौशर कंपनी से संबंधित दस्तावेज मांगे। केसर अली उपलब्ध नहीं करा सका। मैने कंपनी के बारे में पता किया तो उसका दफ्तर पाकिस्तान के कराची शहर में निकला।

राजस्व संहिता 2006 की धारा 90 का उल्लंघन करने पर जमीन के नामांतरण आवेदन पत्र को निरस्त किया है। जमीन को राज्य सरकार में मिलाने के लिए फाइल डीएम कोर्ट भेजी है।

क्या कहती है धारा-90
राजस्व संहिता 2006 की धारा 90 में विदेशी फर्म या व्यक्ति को भारत में जमीन खरीदने से पूर्व राज्य व केन्द्र सरकार से अनुमति लेनी अनिवार्य है। बिना अनुमति ली गई जमीन धारा-104 के तहत राज्य में निहित होती है।

आज होगा निर्णय
इस संबंध में डीएम प्रभु एन सिंह ने बताया कि मामला मेरे संज्ञान में आया है। इसकी जांच के लिए सब रजिस्ट्रार, तहसीलदार व डीजीसी सिविल से गुरुवार शाम चार बजे तक रिपोर्ट मांगी है। डीएम ने कहा कि बैनामा निरस्त करने व जमीन को राज्य में मिलाने की संस्तुति तीन सदस्यीय कमेटी की रिपोर्ट के बाद की जाएगी।

एटा में नाम कराई जमीन
अल कौशर बिल्डर्स एंड डवलपर्स ने एटा की सकीट तहसील में असरौली गांव में 2012-13 में करीब 1200 वर्ग मीटर जमीन खरीदी। 27 नवंबर 2014 को एसडीएम कोर्ट ने कंपनी के हक में नामांतरण कर दिया। इसके अलावा एटा में अन्य संपत्तियां भी कंपनी के नाम से खरीदी गई है। ऐसे में इन संपत्तियों की जांच होगी।

11 माह पहले बनाई कंपनी
नायब तहसीलदार सुनील कुमार ने बताया कि कंपनी ने आगरा, एटा में कई जगह जमीनें खरीदी हैं। अल कौशर बिल्डर्स एंड डवलपर्स का कंपनी नंबर 0132456 है। इसका पंजीकरण पांच अप्रैल 2019 को पाकिस्तान में हुआ है। कंपनी ने नवंबर 2019 में आगरा में जमीन खरीद ली।

अल कौशर बिल्डर्स एंड डवलपर्स पाकिस्तान में रजिस्टर्ड है। मेरा कोई लेना देना नहीं। मेरी फर्म भी इसी नाम से है। डीएम के सामने अपने दस्तावेज दिखाऊंगा। हाजी केसर अली, पार्टनर, अल कौशर बिल्डर्स एंड डवलपर्स

 
 

Related posts

Top