पाकिस्तान में अब दवा घोटाला! पीएम इमरान खान ने दिए जांच के आदेश

 

हाइलाइट्स

  • पाकिस्तान में जीवन रक्षक दवाइयों के नाम पर मंगवा ली गईं विटमिन की गोलियां
  • पाकिस्तान में कथित दवा घोटाला सामने आने के बाद हड़कंप, पीएम इमरान ने दिए जांच के आदेश
  • पाकिस्तान ने भारत से मंगाई थीं 450 दवाएं, अब इमरान ने अपने सहायक को सौंपी जांच

इस्लामाबाद
एक तरफ दुनिया के अलग-अलग देशों समेत भारत इकॉनमी (india economy) को बूस्ट करने के प्रयासों में जुटा है वहीं, पाकिस्तान घोटालों में ही फंसा हुआ है। प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) ने भारत से 450 दवाओं के आयात में कथित घोटाले की जांच के आदेश दिए हैं। मीडिया में आई खबर के मुताबिक, जीवन रक्षक दवाओं के नाम पर विटमिन की गोलियां मंगाई गईं। भारत की ओर से 5 अगस्त को जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को रद्द करने के फैसले के बाद पाकिस्तान ने 9 अगस्त को भारत के साथ सभी कारोबारी संबंध तोड़ लिए थे। दवा कंपनियों के पाकिस्तान में महत्वपूर्ण दवाओं की संभावित कमी के बारे में चिंता जाहिर करने के बाद हालांकि सरकार ने जीवन रक्षक दवाओं और उनके कच्चे माल के आयात की इजाजत दे दी थी।

विपक्ष की ओर से और मीडिया में आने वाली खबरों में बार-बार ऐसे आरोप लगाए जाते रहे हैं कि सरकार की तरफ से दी गई रियायत का दुरुपयोग हो रहा है और इस मामले की पारदर्शी जांच कराई जाए। इन आरोपों के बीच प्रधानमंत्री इमरान खान ने जवाबदेही मामलों पर अपने सहायक शहजाद अकबर को भारत से करीब 450 दवाओं के आयात की जांच के आदेश दिए।

‘विटमिंस और कच्चा माल भारत से आया
पाकिस्तान के एक स्थानीय अखबार की खबर के मुताबिक, राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा मंत्रालय (एमएनएचएस) के एक दस्तावेज में दिखाया गया है कि कई विटामिंस, दवाएं और उनका कच्चा माल भारत से आयात किया गया। संघीय मंत्रिमंडल के समक्ष पांच मई को पेश किए गए दस्तावेज कहते हैं कि स्वास्थ्य मंत्रालय के प्रभारी के तौर पर प्रधानमंत्री ने भारत से आयात की गई दवाओं की सूची मांगी है।

इनका किया गया था भारत से आयात
स्वास्थ्य मंत्रालय के सचिव तनवीर अहमद कुरैशी के दस्तखत वाले दस्तावेज दिखाते हैं कि बीसीजी, पोलियो और टेटनस रोधी टीकों समेत कई टीके आयात किए गए। इतना ही नहीं, विटमिन बी1, बी2, बी6, बी12, डी3, जिंक सल्फेट मोनोहाइड्रेट समेत कई अन्य विटमिन भी भारत से आयात किए गए। पाकिस्तान में औषधि नियामक प्राधिकरण के एक अधिकारी ने नाम न जाहिर करने का अनुरोध करते हुए अखबार को बताया कि शुरू में यह दावा किया गया था कि भारत से अगर दवाओं और उनके कच्चे माल के आयात को रोका गया को कैंसर के मरीजों की परेशानी बढ़ेगी। उन्होंने कहा, ‘हालांकि बाद में भारत से सभी तरह की दवाओं का आयात किया गया, जिसके कारण हम भारत को विदेशी विनिमय स्थानांतरित कर रहे हैं। सरकार को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि दवाओं और उनके कच्चे माल का उत्पादन पाकिस्तान में हो, जिससे हम विदेशी मुद्रा बचा सकेंगे और दवाओं का विदेश में निर्यात सुनिश्चित कर सकेंगे।’

विशेष सहायक अकबर को दी गई जिम्मेदारी
रिपोर्ट के अनुसार, एनएनएचएस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि मामले में टिप्पणी करना उचित नहीं होगा कि जवाबदेही पर प्रधानमंत्री के विशेष सहायक अकबर को इस मामले को देखने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। उन्होंने कहा, ‘इस मामले में वाणिज्य मंत्रालय भी जुड़ा हुआ है इसलिए हमने फैसला किया है कि अकबर ही इस मामले को देखें।’

कोरोना पॉज़िटिव डॉक्टर ने महामारी से निपटने के लिए पाकिस्तान की तैयारियों को किया उजागर

कोरोना पॉज़िटिव डॉक्टर ने महामारी से निपटने के लिए पाकिस्तान की तैयारियों को किया उजागरपाकिस्तान इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (PIMS) मदर एंड चाइल्ड हॉस्पिटल (MCH) में तैनात एक कोरोना पॉज़िटिव महिला डॉक्टर ने Covid-19 से प्रभावित मरीजों को संभालने में पाकिस्तान के कुप्रबंधन को उजागर किया है। जब अधिकारियों ने डॉ शरबत नाम की इस महिला को कोई भी चिकित्सा सहायता नहीं दी, तो उसने खुद को एक कमरे में क्वॉरंटीन कर लिया।

 

 
 

Related posts

Top