मौसम विभाग ने बताया क्यों बढ़ रहा है दिल्ली में प्रदूषण, 2-3 नवंबर तक होगा सुधार

 

दिवाली के बाद से ही लगातार दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण का स्तर बढ़ता जा रहा है। इस वक्त देश में सबसे प्रदूषित शहर एनसीआर का गाजियाबाद ही है। जहां पीएम 2.5 का स्तर 500 के ऊपर है। वहीं दिल्ली की स्थिति भी बहुत अच्छी नहीं है।

इसी के बारे में जानकारी देते हुए मौसम विभाग(आईएमडी) के अधिकारी के श्रीवास्तव ने जानकारी दी कि है कि आखिर दिल्ली-एनसीआर का प्रदूषण क्यों बढ़ रहा है। उन्होंने बताया है कि इसकी दो वजहें हैं। पहला पंजाब-हरियाणा से आ रही हवाएं जिसमें पराली का धुआं मिला है।

दूसरी वजह है स्थानीय प्रदूषक तत्वों के हवा की गति धीमी होने के चलते तितर-बितर न हो पाना। के श्रीवास्तव ने बताया कि दिल्ली-एनसीआर के बादलों में धुएं की परत जम गई है जो दृश्यता को कम कर रही हैं।

के श्रीवास्तव ने आगे बताया कि दिवाली पर हवा की गति 12-15 किमी/घंटा थी और हवा की गुणवत्ता में रात 8-9 बजे के पहले सुधार भी हुआ था लेकिन इसके बाद पटाखे जलने से ये बिगड़ गया। वहीं हवा की दिशा दिल्ली-एनसीआर की ओर होने से पराली का धुआं भी इधर ही आ गया। दूसरी तरफ उस दिन भारी ट्रैफिक जाम होने से गाड़ियों से भी काफी प्रदूषण निकला जिसने हवा बिगाड़ दी।

मौसम विज्ञानी कुलदीप श्रीवास्तव ने बताया कि गुरुवार को हवा की गति में 10-12 किमी/घंटा से ज्यादा की तेजी आएगी, जिससे हवा की गुणवत्ता में सुधार होगा। दो और तीन नवंबर से हवा में तेजी आएगी जिससे इसकी गुणवत्ता में सुधार होगा और दिल्ली-एनसीआर के प्रदूषक तत्व भी खत्म होने लगेंगे।

 

 
 

Related posts

Top