हरियाणा विस चुनाव: अशोक तंवर का कांग्रेस से इस्तीफा, बोले- अन्याय हुआ, अत्याचार हुआ, शोषण हुआ

 

हरियाणा विधानसभा चुनाव 2019 से ठीक पहले कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है। अशोक तंवर ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है। अशोक तंवर हरियाणा कांग्रेस के पूर्व प्रधान थे और टिकट बंटवारे की वजह से नाराज चल रहे थे। उन्होंने पार्टी की नई प्रदेश प्रधान कुमारी सैलजा पर टिकट बेचने का आरोप लगाया था। इसके विरोध में उन्होंने पार्टी में मिले सभी पदों से इस्तीफा दे दिया था और बीते दिन ही उन्हें स्टार प्रचारक घोषित किया गया था। लेकिन शनिवार को बड़ा फैसला लेते हुए तंवर ने पार्टी ही छोड़ दी।

कांग्रेस भक्ति की जगह पार्टी में हुड्डा भक्ति चल रही

अशोक तंवर का कहना है कि क्या सिस्टम है इसका खुलासा होना चाहिए। मुझमें सही को सही कहने का जज्बा है। राहुल गांधी भी तो यही चाहते थे कि सब कुछ पारदर्शी हो, लेकिन कोई मान नहीं रहा है। कांग्रेस भक्ति की जगह पार्टी में हुड्डा भक्ति चल रही है।

अशोक तंवर ने ये भी साफ किया कि उन्हें सोनिया गांधी से कोई नाराजगी नहीं है। कौन मजबूत है ये समय बताएगा। पार्टी में मेरे साथी कहां जाएंगे, ये उनका अधिकार है। पार्टी में जमीनी नेताओं की बात नहीं सुनी जा रही है। जो कमेटी बनती है, उसमें भी अपनों को शामिल किया जाता है।

अशोक तंवर ने कहा कि सुनवाई के लिए पार्टी में सिस्टम बनाने की जरूरत है। अगर कांग्रेस हारती है तो वही लोग जिम्मेदारी लेंगे।

 
 

Related posts

Top