रैपिड रेल प्रोजेक्ट: अंडरग्राउंड स्टेशनों के लिए चीनी कंपनी ने लगाई बोली, प्रियंका गांधी ने पहले भी खड़े किए थे सवाल

 

दिल्ली से मेरठ 82 किमी के रैपिड रेल कॉरिडोर में काम पाने के लिए चीन की शंघाई टनल इंजीनियरिंग कॉरपोरेशन लगातार प्रयास कर रही है। इस बार कंपनी ने मेरठ में तीन स्टेशनों के लिए बनाई जाने वाली टनल के लिए बोली लगाई है। इससे पहले कॉरिडोर के न्यू अशोक नगर से साहिबाबाद तक बनाए जाने वाले अंडरग्राउंड पैकेज के लिए सबसे कम बोली लगाई थी। एनसीआरटीसी ने चीन की इस कंपनी को टेंडर अवार्ड करने की तैयारी कर ली थी, लेकिन देश में चीन के साथ बिगड़ते हालात को लेकर फिलहाल इसे रोक दिया गया था। इस पर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने भी सवाल खड़े किए थे। वहीं नेशनल कैपिटल रीजन ट्रांसपोर्ट कॉरपोरेशन तेज गति से टेंडर प्रक्रिया को पूरा कर रहा है। जिससे रैपिड रेल निर्माण की सभी बाधाओं को खत्म किया जा सके।

एनसीआरटीसी ने रैपिड रेल के पैकेज-8 के लिए टेंडर आमंत्रित किए हैं। इसमें पांच कंपनियों ने बोली लगा दी है। हालांकि, अभी टेंडर का तकनीकी परीक्षण किया जा रहा है। इसके बाद वित्तीय बोली लगाई जाएगी। फिर टेंडर अवार्ड होने के करीब साढ़े तीन वर्ष में निर्माण कार्य पूरा करना होगा। मेरठ क्षेत्र में 5.68 किमी के पैकेज-8 में मेरठ सेंट्रल, भैंसाली और बेगमपुल पर अंडरग्राउंड सेक्शन में कार्य किया जाना है।
शंघाई टनल इंजीनियरिंग की ही लग रही संभावना

एक तरफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चीन को जवाब देने के लिए आत्मनिर्भर भारत अभियान चला रहे हैं। दूसरी तरफ रैपिड रेल में चीन की कंपनी टेंडर प्रक्रिया में हिस्सा ले रही हैं। यहां के टेंडर शंघाई टनल इंजीनियरिंग कॉरपोरेशन को ही मिलने के आसार हैं। वजह न्यू अशोक नगर से साहिबाबाद अंडरग्राउंड सेक्शन में भी इस कंपनी ने सबसे कम बोली लगाकर बिड जीत ली थी। इस मामले में एनसीआरटीसी अधिकारियों का कहना है कि प्रोजेक्ट की फंडिंग वर्ल्ड बैंक से हो रही है। ग्लोबल टेंडर में किसी भी देश की कंपनी भाग ले सकती है।

इन कंपनियों ने लगाई बोली
शंघाई टनल इंजीनियरिंग कॉरपोरेशन, लार्सन एंड टर्बो, एफकॉन्स इन्फ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड, येपी मार्केजी इंसाट वी शंन्याई, ग्यूलरमाक आगिर।

 
 

Related posts

Top