छठ पर्व हुआ संपन्न, उगते हुए सूर्य को श्रद्धालुओं ने दिया अर्घ्य

छठ पर्व हुआ संपन्न, उगते हुए सूर्य को श्रद्धालुओं ने दिया अर्घ्य
  • 10 नवंबर को डूबते हुए सूर्य को अर्ध्य दिया गया. छठ पर्व के अंतिम दिन उगते हुए सूर्य को अर्घ्य देकर महापर्व (Chhath mahaparv) का समापन हुआ.

नई दिल्ली: चार दिनों तक मनाई जाने वाली छठ पूजा का समापन आज यानी 11 नवंबर को उगते सूर्य भगवान को अर्घ्य (Arghya) देकर संपन्न हो गया. इस साल छठ की शुरुआत 8 नवंबर को नहाय खास से हुई. 9 नवंबर को खरना मनाया गया. 10 नवंबर को डूबते हुए सूर्य को अर्ध्य दिया गया. छठ पर्व के अंतिम दिन उगते हुए सूर्य को अर्घ्य देकर महापर्व का समापन हुआ.  ग्रंथों में सूर्य देव को हर दिन अर्घ्य देने की मान्यता हैं, मगर छठ पूजा में सूर्य देव को अर्घ्य देने का विशेष महत्व बताया गया है.

Chhath Puja 2021- महाभारत काल से शुरू हुई परंपरा

पौराणिक कथाओं के अनुसार छठ महापर्व की शुरुआत महाभारत काल से शुरू हुई. भगवान सूर्यदेव की कृपा से कुंती को कर्ण नाम के तेजस्वी पुत्र प्राप्ती हुई. कर्ण हर रोज जल में कमर तक खड़े होकर सूर्यदेव को अर्ध्य दिया करते थे. वे रोजाना सूर्यदेव की पूजा अर्चना करते थे. माना जाता है कि जल में कमर तक खड़े होकर सूर्य को अर्घ्य देने की परंपरा यहीं से शुरू हुई. छठ पूजा के दौरान षष्ठी और सप्तमी तिथि को व्रती जल में कमर तक खड़े होकर भगवान  सूर्यदेव को जल अर्पित करते हैं. एक अन्य मान्यता के अनुसार जब पांडव कौरवों से अपना सबकुछ गवां बैठे थे, तब द्रौपदी ने छठ व्रत रखा था. इस व्रत के प्रताप से उनका राजपाट दोबारा मिल गया.

Chhath Puja 2021- क्यों दिया जाता है अर्घ्य?

छठ पूजा (Chhath Puja) में अस्ताचल सूर्य यानी डूबते हुए सूर्य को अर्घ्य दिया जाता है. मान्यता के अनुसार सायंकाल में सूर्यदेव अपनी पत्नी देवी प्रत्युषा के साथ बीता रहे होते हैं. इस कारण शाम में डूबते हुए सूर्य को अर्घ्य देकर सूर्य के साथ-साथ देवी प्रत्युषा की उपासना की जाती है. ऐसा करने से व्रती की मनोकामना पूरी हो जाती है. ऐसा माना गया है कि सूर्य को अर्घ्य देने से कुंडली में सूर्य की स्थिति ताकतवर होती है. छठ पूजा के अंतिम दिन उगते हुए सूर्य को अर्घ्य देने का रिवाज है. इस दिन पूरा परिवार घाट पर जाता है और सूर्य देवता छठी मैया की अराधना करते हैं.

जल अर्पित करने के कई लाभ

अर्घ्य में सूर्य देवता को जल के साथ दूध अर्पित किया जाता है. सूर्य संपूर्ण ब्रह्मांड को ऊर्जा देते हैं. सूर्य को जल अर्पित करने के कई लाभ हैं. ऐसा कहा जाता है कि सूर्य को अर्घ्य देने से सौभाग्य में इजाफा होता है. सूर्य को निडर और निर्भीक ग्रह के रूप में माना जाता है. इसी आधार पर सूर्य को अर्घ्य देने से श्रद्धालुओं को भी यह गुण मिलता है. इससे कुंडली में सूर्य की स्थिति मजबूत हो जाती है. ऐसा कहा जाता है कि सूर्य देवता को अर्घ्य देने से बुद्धि के साथ  मान-सम्मान में इजाफा होता है.


पत्रकार अप्लाई करे Apply