ब्लड शुगर टेस्ट स्ट्रिप सस्ते में प्राप्त करे
Dr. Morepen BG-03 Blood Glucose Test Strips, 50 Strips (Black/White)

CBI Team in Hathras :डॉक्टर से पूछताछ के बाद पीड़ित पक्ष के घर पहुंची CBI ,गांव के एक युवक को कैम्प ऑफिस बुलाया

 

हाथरस । बूलगढ़ी गांव की दलित युवती के साथ कथित सामूहिक दुष्कर्म के बाद मारपीट की जांच कर रही सीबीआइ की टीमें लगातार पांचवें दिन यहां बेहद सक्रिय हैं। बूलगढ़ी गांव में पीड़ित परिवार के घर पर पूछताछ के साथ ही अन्य टीमों ने कैम्प ऑफिस में मृत युवती का मेडिकल करने वाले डॉक्टर के साथ गांव के युवक से पूछताछ की।

सीबीआइ ने दिन में करीब 11 बजे बागला अस्पताल के डॉक्टर रमेश पाल को पूछताछ के लिए कैम्प आफिस बुलाया। कुछ अधिकारी करीब आधा घंटे पहले ऑफिस पर पांच मिनट रुके और चले गए थे। डाक्टर रमेश पाल ने 14 सितम्बर को मारपीट के दौरान घायल युवती का मेडिकल किया था। युवती का मेडिकल करने वाले डॉक्टर से सीबीआइ ने पूछताछ की। हाथरस जिला अस्पताल के डॉ. रमेश पाल ने ने ही बूलगढ़ी की युवती का यहां पर प्राथमिक उपचार किया था। उसके बाद उसको अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के कर जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज अलीगढ़ रेफर किया था।

सीबीआइ की एक टीम डीएसपी सीमा पाहुजा के साथ पीड़ित परिवार के घर पहुंची। यहां पर सीबीआइ की डीएसपी सीमा पाहुजा और दो अन्य सदस्य बंद घर में स्वजनों के बयान को दर्ज दिया। इसी दौरान एक टीम ने उस खेत का भी मुआयना किया, जहां पर कथित सामूहिक दुष्कर्म को अंजाम दिया गया था। एक टीम गांव के एक युवक को लेकर कैम्प ऑफिस पहुंची।

सीएम योगी आदित्यनाथ की छवि खराब करने पर पुलिस से शिकायत

अलीगढ़ पुलिस के आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर हाथरस कांड को लेकर प्रचारित किए जा रहे कार्टून को री ट्वीट करने पर अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के छात्र अजय सिंह ने शिकायत दर्ज कराई है। अजय सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की छवि खराब करने की कोशिश की जा रही है। इस मामले को पुलिस ने संज्ञान में लिया है। अलीगढ़ के बरौली विधानसभा क्षेत्र के भाजपा विधायक दलवीर सिंह के पोते व एएमयू छात्र अजय सिंह ने एक प्रार्थना पत्र पुलिस के अधिकारियों को दिया।

जिसमें बताया गया कि अलीगढ़ पुलिस के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से विभाग के कुछ लोगों ने एक कार्टून जो कि हाथरस की घटना को दर्शाता है, जिसमें मृतका का पुलिस अंतिम संस्कार करते हुए दिखाई जा रही है और उसमें यह संदेश देने का प्रयास किया गया कि मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार यह सब कुछ किया गया। अलीगढ़ पुलिस के ट्विटर हैंडल को देखने वाले लोगों ने इसको रिट्वीट कर दिया। इसको लेकर अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के छात्र अजय सिंह ने लिखित शिकायत अधिकारियों से की है। वहीं इस मामले की जांच क्षेत्राधिकारी सिविल लाइन को दी गई है। जांच के बाद जो भी दोषी पाए जाएंगे उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

 
 

Related posts

Top