कभी भी हिंसक हो सकता है देवबंद में चल रहा धरना, समझाने गए प्रतिनिधि मण्डल को दौड़ाया

 
हंगामा करती महिलाऐं

देवबंद [24 सिटी न्यूज़]: देवबंद में सीएए व एनआरसी को लेकर चल रहा धारना कभी भी हिंसक रूप ले सकता है। धरना दे रही महिलाओं और उनके आकाओं ने आज इसका ट्रेलर तब दिखा दिया जब उन्हें समझाने गए प्रतिनिधिमंडल को महिलाओ ने दौड़ा लिया।

दरअसल, धरना समाप्त कराने के लिए आलाधिकारीयों ने नगर के जिम्मेदार लोगो के साथ बैठक करने के बाद पूर्व विधायक माविया अली, चैयरमेन जियाउददीन अंसारी व बुद्धिजीवी लोगों के साथ-साथ सभासदो का एक प्रतिनिधि मण्डल को प्रोटेस्ट कर रही महिलाओं को समझाने के लिये भेजा।

प्रतिनिधि मंडल जैसे ही ईदगाह मैदान में पहुंचा तो ऐसा लगा कि महिलाओ को पहले से ही इसकी जानकरी दे दी गयी थी। महिलायें पहले से ही इसके लिए तैयार बैठी थी। प्रतिनिधिमंडल ने जैसे ही महिलाओं से बातचीत शुरू की महिलाओं का गुस्सा सांतवे आसमान पर पहुंच गया। महिलाओं ने गोबैक-गोबैक के नारे लगाने शुरू कर दिए। महिलाओं ने प्रतिनिधि मडंल को घेर लिया और उन पर चूडिंया फैकंनी शुरू कर दी। इतना ही नहीं महिलाओ ने प्रतिनिधि मडंल को मौके से दौडा लिया। ऐसा लगा जैसे उन्हें पहले से ही यह सब करने के लिए ट्रेंड किया गया था। किसी तरह प्रतिनिधिमंडल ने वंहा से भागकर अपनी जान बचाई।

विदित हो आजमगढ़ में विरोध कर रही महिलाओ ने उनको समझाने गए पुलिस अधिकारीयों पर पथराव कर दिया था। यही स्थिति देवबंद में होते-होते बची। महिलाओ के आक्रोशित व्यवहार को देखते हुए प्रशासन को सतर्क हो जाना चाहिए, क्योंकि यह धरना कभी भी हिंसक रूप ले सकता है।

 

यह भी पढ़े >> सीएए के विरोधियों को भेजा जाये जेल: स्वामी दर्शन भारतीय

 
 
Top