बसपा में अभी और गिरेंगे विकेट, निष्कासन और इस्तीफे के दौर में तमाम नेता पार्टी छोड़ने को तैयार

 

कानपुर के गोविंद नगर उपचुनाव में एकजुटता दिखाने के बजाय बहुजन समाज पार्टी के नेता भितरघात और आपसी फूट से जूझ रहे हैं। नेताओं के बीच एक दूसरे को पार्टी विरोधी साबित करने का दौर शुरू हो गया।

करीब दो सप्ताह पहले पार्टी से इस्तीफा देने वाले पूर्व जोनल इंचार्ज अनुभव चक और अब पार्टी से निकाले गए पूर्व विधायक आरपी कुशवाहा व पूर्व महानगर अध्यक्ष सुरेंद्र कुशवाहा खेमे के समर्थक इस्तीफा देने पर आमादा हैं।

20 दिन के भीतर महानगर में पार्टी से करीब 250 लोगों के इस्तीफे का दावा इन नेताओं ने किया है। इसी बीच शुक्रवार को पार्टी के वर्तमान मुख्य जोनल इंचार्ज जितेंद्र संखवार का एक ऑडियो वायरल हो गया। इसमें उनकी कथित आवाज में पार्टी के नेताओं को गालियां देते हुए सुनाया गया है।

हालांकि जितेंद्र संखवार का कहना है कि यह ऑडियो वर्ष 2014 में भी एक बार जारी हुआ था। जांच में उनकी आवाज नहीं पाई गई थी। पार्टी विरोधी लोगों ने एक बार फिर इसे हथकंडे के तौर पर इस्तेमाल किया है।

वे ऐसे हथकंडों से विचलित होने वाले नहीं हैं। बावजूद इसके राजनीति के जानकार मान रहे हैं कि पार्टी में इस तरह के दौर की यह शुरुआत है। पार्टी के बाहर और भीतर के खेमे सक्रिय हो गए हैं।

आने वाले दिनों में कुछ और बड़े नाम पार्टी से इस्तीफा देने को तैयार हैं। कुछ और लोग पार्टी से निकाले जाएंगे। बसपा जिलाध्यक्ष रामशंकर कुरील ने भी वायरल हुए ऑडियो को पार्टी विरोधी लोगों का हथकंडा बताया

 
 

Related posts

Top