स्वाइन फ्लू की दवा ने कोरोना में भी दिखाया असर, सफदरजंग अस्पताल से 6 मरीजों की छुट्टी

 
हाइलाइट्स
  • दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल से कोरोना के 6 मरीज ठीक होकर जा चुके हैं
  • डॉक्टरों का कहना है 14 दिन में वे ठीक हो गए। यह भी बताया गया है कि यहां ऐंटी एचआईवी दवा नहीं बल्कि टेमीफ्लू की दवा दी गई
  • इन मरीजों को 14 दिन तक घर में ही रहने की सलाह दी गई है

नई दिल्ली
कोरोना वायरस के खौफ के बीच शनिवार को दिल्ली से राहत पहुंचानेवाली खबर आई। यहां सफदरजंग अस्पताल में कोरोना वायरस के चलते भर्ती किए गए 6 मरीजों को इलाज के बाद छुट्टी दे दी गई। इसके साथ ही संक्रमण के बाद ठीक होने वाले मरीजों की संख्या 10 है। सभी मरीज अब ठीक हैं, लेकिन इन्हें अगले 14 दिन अपने घरों में ही आइसोलेशन में रखा जाएगा। ठीक होनेवाले मरीजों में वह पीड़ित भी हैं, जिनके इटली से लौटने के बाद राजधानी में इस वायरस का पहला केस सामने आया था।

14 दिन में ठीक हुए मरीज
सफदरजंग अस्पताल से जिन मरीजों को छुट्टी मिली है, उन्हें 14 दिनों तक आइसोलेशन में रखकर लक्षणों के आधार पर इलाज किया गया था। डॉक्टरों के मुताबिक, मरीज 14 दिन में ठीक हो गए। गुरुवार और शुक्रवार को लगातार दो दिनों तक जांच के बाद इनकी रिपोर्ट निगेटिव आई। इसके बाद 6 मरीजों को अगले 14 दिन घर में ही आइसोलेशन में रखने के निर्देश देते हुए उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। वहीं कोरोना वायरस से राजधानी में जिस महिला की मौत हुई है, उनके 46 वर्षीय बेटे को आरएमएल अस्पताल से सफदरजंग में शिफ्ट किया गया है। वह भी कोरोना से पीड़ित हैं।

डॉक्टरों ने उनकी हालत स्थिर बताई है। वह 23 मार्च को स्विटजरलैंड और इटली की यात्रा करके दिल्ली लौटे थे। उसके बाद ही उनमें कोरोना के लक्षण जैसे- बुखार, कफ की समस्या हुई। 7 मार्च को उन्हें आरएमएल अस्पताल में भर्ती किया गया था। उन्हीं के कारण उनकी 68 साल की मां में भी यह संक्रमण फैला था। जानकारी के मुताबिक, इस सफदरजंग में कोरोना से पीड़ित 10 मरीज भर्ती हैं। साथ ही 11 संदिग्ध मरीज हैं। संदिग्ध मरीजों में 3 की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। बाकी की रिपोर्ट का इंतजार है। अब तक सफदरजंग और राममनोहर लोहिया में 211 लोग ऐसे कोरोना वायरस को लेकर संदिग्ध मानते हुए लाए गए हैं।

टेमीफ्लू की दवा से मिला आराम
डॉक्टरों के मुताबिक, कोरोना वायरस के संक्रमण से जो मरीज ठीक हुए हैं, उन्हें उनके लक्षणों के आधार पर दवा दी गई। दूसरे अस्पतालों की तरह यहां मरीजों को ऐंटी एचआईवी दवाएं नहीं दी गईं। सफदरजंग में मरीजों को स्वाइन फ्लू के इलाज में इस्तेमाल होने वाली टेमीफ्लू दवा दी गई। अस्पताल से शनिवार को चार संदिग्ध मरीजों को भी छुट्टी दे दी गई, उनमें कोरोना की पुष्टि नहीं हुई थी।

 
 

Related posts

Top