आत्मनिर्भर अभियान से सवा करोड़ लोगों को रोजगार, PM बोले- ‘योगी ने आपदा को अवसर में बदला’

 

लखनऊः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को आत्मनिर्भर यूपी रोजगार अभियान की शुरुआत की। पीएम देश के सबसे बड़े रोजगार कार्यक्रम को वर्चुअल तरीके से सम्बोधित किया। इस दौरान मुख्यमंत्री सीएम योगी भी उनके साथ जुड़े रहे। पीएम लाभर्थियों के साथ वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिेए बात की।

‘हमें नहीं पता कि कोरोना से कब मुक्ति मिलेगी’
पीएम ने कहा कि जीवन में कठिनाइंया आती रहती हैं, पूरी मानव जाती संकट झेल रही है। उन्होंने कहा कि हमें नहीं पता कि कोरोना से कब मुक्ति मिलेगी, लेकिन गमछा मास्क ही इसकी दवा है। मुंह ढककर रखना ही बचाव है। कम से कम दो गज की दूरी बनाकर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना जरुरी है।

योगी की टीम ने उत्तम और सरहानिय काम किया-PM 
सीएम योगी और उनकी टीम की तारीफ करते हुए पीएम ने कहा कि योगी सरकार ने आपदा को अवसर में बदला गया है। दूसरे राज्यों को  इससे सीखने को मिलेगा। हर कोई इससे प्रेरना पाएगा। मोदी ने कहा कि योगी की टीम ने उत्तम और सरहानिय काम किया है। यूपी सरकार ने हालातों को जिस तरह संभाला उन प्रयासों को हर बच्चा, हर परिवार और आने वाली हर पीड़ियां याद रखेंगी।

मैं योगी को नमन करता हूं- मोदी
उन्होंने सीएम योगी की सराहना करते हुए कहा कि योगी अपने पिता के अंतीम संस्कार में नहीं गए, पिता के सर्वग्वास होने की खबर मिलने के बावजूद वह लगातार काम करते रहे। मैं योगी को नमन करता हूं। उन्होंने कहा कि योगी ने जिस तरह यूपी के प्रति संवेदनशीलता दिखाई है, वलो सराहनीय है। उन्होंने कहा कि सीएम योगी ने 85 हजार लोगों को जान बचाने का काम किया है।

‘4 बड़े देशों की आबादी यूपी के बराबर’
पीएम ने आगे कहा कि योगी ने कोरोना को गंभीरता से लिया है। 4 बड़े देशों की आबादी यूपी के बराबर है। अमेरिका कोरोना से मौतों को रोक नहीं पाया, लेकिन वहां 1.30 लाख लोगों की मौत हुई और यहां 600 मौतें हुईं। मोदी ने कहा कि अमेरिका की तुलना में भारत के हालात बेहतर हैं। कोरोना की रोकथाम के मामले में यूपी सर्वश्रेष्ठ है। संकाटकाल में यूपी के लोग मिसाल बने हैं। मोदी ने कहा कि योगी सरकार ने श्रमिकों को वापस बुलाने के लिए ट्रेने चलवाई, उससे कोरोना संक्रमण फैल सकता था, लेकिन यूपी सरकार ने स्थिति संभाली है।

पहले की सरकारें होती तो इसे चुनौती के बहाने से टाल देती-PM
विपक्ष पर निशाना साधते हुए मोदी ने कहा कि इन हालातों में पहले की सरकारें होती तो इसे चुनौती के बहाने से टाल देती। किसी सरकार ने इतने बड़े पैमाने पर मदद नहीं की है। मुश्किल वक्त में यूपी ने नए कीर्तिमान गढ़े हैं। 3 साल 3 लाख युवाओं को सरकारी नौकरी दी। सरकार ने 30 लाख से अधिक पक्के घर बनवाए। कुशीनगर एयरपोर्ट से भी विकास के रास्ते खुलेंगे।

‘श्रम की ताकत हम सभी ने महसूस की’
प्रधानमंत्री ने कहा, ”श्रम की ताकत हम सभी ने महसूस की है। श्रम की इसी शक्ति को आधार बनाकर भारत सरकार द्वारा प्रधानमंत्री गरीब कल्याण रोजगार अभियान शुरू किया गया।” उन्होंने कहा, ”आज इसी ने आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार अभियान को प्रेरणा दी यानी केन्द्र की योजना को प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने गुणात्मक एवं संख्यात्मक दोनों ही तरीकों से विस्तार दे दिया।”

1 करोड़ से ज्यादा नौकरी और रोजगार
बता दें कि इस रोजगार कार्यक्रम से उत्तर प्रदेश के 1 करोड़ से ज्यादा नौकरी और रोजगार पाने वाले लोग जुड़े। इसमें 3 प्रकार के रोजगार के कार्यक्रम जुड़े हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के प्रयासों से प्रदेश के 1 करोड़ से ज्यादा लोगों को नौकरी और रोजगार मिला। इसमें अन्य राज्यों से घर लौटे प्रवासी श्रमिक और कामगार के साथ साथ स्थानीय लोग लाभान्वित हैं।

तीन तरह के लाभार्थी
देश के सबसे बड़े इस रोजगार कार्यक्रम में तीन प्रकार के रोजगार को शामिल किया गया है। पहला भारत सरकार का आत्मनिर्भर भारत रोजगार कार्यक्रम है। इसे भारत सरकार ने प्रारंभ किया है। इसमें वे लोग शामिल हैं, जिन लोगों को इस कार्यक्रम के जरिये रोजगार दिया गया है। जबकि दूसरा एमएसएमई सेक्टर में जिन लोगों को नौकरी मिली है और सरकार ने जिन औद्योगिक संगठनों के साथ एमओयू किया है।तीसरा कार्यक्रम स्वतः रोजगार का है। इसमें वे लोग होंगे, जिन्‍हें उनके उद्यम के लिए बैंकों और सरकारी प्रयासों से कर्ज दिलाकर उनके रोजगार और उद्यम को शुरू करवाया गया है।

 
 

Related posts

Top