कांग्रेस में पायलट की वापसी मुश्किल, क्या होगा अगला कदम?

 

जयपुर: राजस्थान में कांग्रेस विधायको की बाडेबंदी के बीच उपमुख्यमंमंत्री पद से निष्कासित किए गए सचित पायलट के कांग्रेस में वापसी बहुत मुश्किल हैं। कांग्रेस विधायक दल ने पालयट को निष्कासित करने का प्रस्ताव सर्वसम्मति से किया था। पायलट के निष्कासन के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पायलट पर सरकार गिराने के लिए 20 करोड का सौदा करने का आरोप लगाया था। बाद मेंं पायलट ने लम्बी चुप्पी के बाद जब यह कहा कि वह भारतीय जनता पार्टी में नहीं जाएगें तो यह कयास लगाए जाने लगा है कि उनकी कांग्रेस में वापसी हो सकती है।

PunjabKesari

वहीं अब यह कयास लगने लगे कि सचिन पायलट का अगल कदम क्या होगा। सबसे अधिक संभावना इसी बात की है कि सचिन पायलट नई पार्टी बना सकते हैं, लेकिन यह मुश्किल है. राजस्थान के इतिहास में अब तक किसी भी तीसरे दल को सफलता नहीं मिली है, जिसके कारण माना जा रहा है कि पायलट इस फैसले से परहेज करेंगे।

PunjabKesari

पायलट के अभी नरम रूख रखते हुए कांग्रेस आलाकमान ने उन्हें जयपुर लौटने के लिए कहा था लेकिन वह नहीं आऐ। सरकार गिराने में पायलट की भूमिका सामने आने के बाद उनके खिलाफ कांग्रेस नेताओं में काफी नाराजगी है तथा वह नहीं चाहते कि पायलट वापस आए क्योकि उनके आने के बाद गुटबाजी फिर बढ सकतिी है।  पायलट सहित उनके समर्थक 19 विधायको को विधायक दल की बैठक में नहीं आने के कारण व्हीप का उल्लंघन करने का नोटिस जारी किया गया हैं।

PunjabKesari

इस मुद्दे पर कांग्रेस के कुछ नेताओं का मानना है कि व्हीप का उल्लंघन करने पर पायलट की सदस्यता जा सकती हैं। व्हीप का उल्लंघन करने के मामले में भाजपा नेता भी पायलट के पक्ष में आए है तथा कहा है कि बैठक विधानसभा के बाहर होने के कारण व्हीप का मामला नहीं बनता है। इधर सरकार गिराने के षडयंत्र की खबरो के बीच कांग्रेस विधायको का एक पांच सितारा होटल में जमावडा बना हुआ हैं तथा कुछ दिन और यह स्थिति रह सकती है। पायलट के समर्थक विधायको को हरियाणा के एक रिसोर्ट में ठराया गया बताया हैैं लेकिन उनकी जानकारी अभी तक सामने नहीं आई हैं। प

 
 

Related posts

Top