लॉक डाउन के चलते शादी-विवाहों का रंग रहा फीका

 
सहारनपुर में बिना बारात के दुल्हन लेने जाता दूल्हा। सहारनपुर में बिना बारात के दुल्हन लेने जाता दूल्हा।

सहारनपुर। राज्य सरकार द्वारा जनपद में 25 मार्च तक लॉक डाउन करने के चलते शादी-विवाह के रंग में भी भंग पड़ गया। जिला प्रशासन की सख्ती के चलते सैंकड़ों की संख्या में जाने वाले बारातियों की संख्या में दर्जनों में सिमट कर रह गई। इस कारण लोगों को मायूसी का सामना करना पड़ा।

गौरतलब है कि देश में कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते राज्य सरकार द्वारा आगामी 25 मार्च तक जनपद सहारनपुर में लॉक डाउन किया गया है जिसका असर शादी-विवाह कार्यक्रमों पर भी दिखाई पड़ा। हालांकि अनेक लोगों द्वारा शादियों को धूमधाम से करने के लिए बैंडबाजा व डीजे आदि किए गए थे, वहीं दूसरी ओर वैंकट हॉल व धर्मशालाएं आदि की भी बुकिंग की गई थी, परंतु जिला प्रशासन द्वारा शादी विवाहों की पार्टियों पर रोक लगाने तथा एक कार्यक्रम में दोनों पक्षों के अधिक से अधिक 30 लोगों को शामिल होने की पाबंदी के चलते लोगों को मायूसी का सामना करना पड़ा तथा अनेक शादी विवाह सादगी के साथ सम्पन्न हुए।

जनपद में रहा अफवाहों का बाजार गरम
सहारनपुर। जनपद में लॉक डाउन के चलते अफवाहों का बाजार गरम रहा जिसका जानकारी मीडियाकर्मियों को मिलने पर उन्होंने तत्काल सोशल मीडिया पर सही स्थिति का प्रचार-प्रसार कर अफवाहों पर विराम लगा दिया।
गौरतलब है कि बीती रात्रि लगभग दो बजे लोगों में अफवाहों का बाजार गरम हो गया जिस कारण रातभर रिश्तेदारों के फोन रातभर घनघनाते रहे। किसी ने अफवाह फैलाई की पूरा गांव पलट गया है, कहीं पूरे ग्रामवासी सोते-सोते मर गए हैं तथा किसी गांव में सभी आदमी पत्थर के बन गए हैं। इस सम्बंध में रातभर अफवाहें परवान चढ़ती रही तथा लोग रिश्तेदारों को फोन करके सच्चाई जानने का प्रयास करते रहे। लेकिन जैसे ही मामले की खबर मीडियाकर्मियों को लगी तो उन्होंने तत्काल सोशल मीडिया के माध्यम से इन अफवाहों का जोरदार खंडन किया जिसकी लोगों ने तहेदिल से सराहना की। इस दौरान पत्रकारों द्वारा लोगों को अफवाहों के बारे में सच्चाई बताकर उनसे सावधान रहने की अपील भी की गई।

 
 
Top