स्पीकर को गवर्नर की जवाबी चिट्ठी, टंडन ने प्रजापति को कहा- लगता है चिट्ठी गलती से मुझे भेज दी

 

हाइलाइट्स

  • मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन ने स्पीकर नर्मदा प्रसाद प्रजापति की चिट्ठी का जवाब दिया
  • गवर्नर ने जवाबी चिट्ठी में स्पीकर पर खूब तंज कसा और कहा कि लगता है गलती से चिट्ठी उन्हें भेज दी गई
  • टंडन ने स्पीकर से यह भी पूछा कि उन्होंने किस नियम के तहत उनसे सवाल किए
  • विधानसभा में बहुमत परीक्षण की मांग को लेकर आज सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होनी है

भोपाल
मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री कमलनाथ को कोरोना के बहाने बहुमत परीक्षण को एक दिन टालने में मिली सफलता के बीच लेटर पॉलिटिक्स जोर पकड़ चुका है। अब राज्यपाल लालजी टंडन ने विधानसभा अध्यक्ष नर्मदा प्रसाद प्रजापति को जवाबी चिट्ठी लिखकर इशारों-इशारों में खूब तंज कसा है। टंडन ने इशारों में ही प्रजापति से पूछ डाला कि उन्होंने खुद अनुपस्थित विधायकों का पता लगाने के लिए क्या किया? गवर्नर ने अपने पत्र में यह भी कहा कि बीते 8-10 के घटनाक्रम से विधानसभा अध्यक्ष को जो पीड़ा हो रही होगी, उसका भी उन्हें अंदाजा है।

लगता है गलती से चिट्ठी मुझे भेज दिया: गवर्नर
गवर्नर ने स्पीकर से यह भी पूछा कि आखिर उन्होंने किस नियम के तहत उनसे सवाल किए गए हैं? उन्होंने विधायकों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के आग्रह पर कहा कि यह जिम्मेदारी कार्यपालिका की है। टंडन ने लिखा, ‘प्रदेश के सभी नागरिकों की सुरक्षा का दायित्व कार्यपालिका का है और आप उससे ही सुरक्षा चाहते होंगे।’ उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि शायद इस मांग की चिट्ठी गलती से उनके पास भेज दी गई है। पढ़ें विधानसभाध्यक्ष के नाम राज्यपाल की पूरी चिट्ठी…

NBT
आज सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई
गौरतलब है कि विधानसभा अध्यक्ष नर्मदा प्रसाद प्रजापति ने मंगलवार को राज्यपाल लालजी टंडने को चिट्ठी लिखकर उन विधायकों की सुरक्षा सुनिश्चित करने का आग्रह किया जिनके बारे में कोई स्पष्ट जानकारी नहीं मिल रही है। उन्होंने राज्यपाल से अनुरोध किया है कि वो विधायकों को वापस लाने की कोशिश करें और ये भी जानकारी लें कि किसके दबाव में विधायक कहां गए हैं। स्वाभाविक है कि विधानसभा अध्यक्ष ने यह जताने की कोशिश की कि राज्यपाल को गुमशुदा विधायकों की सब जानकारी है। इसका जवाब तो आना ही था और अब आ भी गया है। मध्य प्रदेश में बहुमत परीक्षण की मांग पर सुप्रीम कोर्ट में आज 10:30 बजे सुनवाई होनी है।
 
 

Related posts

Top