ब्लड शुगर टेस्ट स्ट्रिप सस्ते में प्राप्त करे
Dr. Morepen BG-03 Blood Glucose Test Strips, 50 Strips (Black/White)

SP अजय कुमार का फरमान वायरल, लिखा- शिकायत मिली तो 72 घंटे के भीतर भ्रष्टाचारी जाएंगे जेल

 

मैनपुरी: उत्तर प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ प्रदेश में हो रहे भ्रष्टाचार के मामलों को लेकर बेहद सख्त है और वह लगातार कार्रवाई भी कर रहे हैं। इसी बीच जिलों में तैनात अफसर भी सख्त नजर आ रहे हैं। ताजा मामला मैनपुरी से सामने आया हैं। यहां एसपी के पद पर तैनात अजय कुमार पांडे का सोशल मीडिया पर एक मैसेज खूब वायरल हो रहा है। उन्होंने लिखा कि किसी भी कीमत पर भ्रष्टाचार की शिकायत मिली तो 72 घंटे के अंदर मुकदमा दर्ज किया जाएगा और आरोपी को जेल भेजा जाएगा।|

सरकार के जीरो टारलेंस की नीति पर कर रहा काम: SP
एसपी अजय कुमार ने मैसेज को वायरल कर जनता से सहयोग की अपील की है। मैसेज में उन्होंने लिखा कि पिछले करीब 10 माह के मेरे कार्यकाल में मुझे आप सभी की तरफ से तमाम सूचनाएं व भरपूर सहयोग व ह्रदय की गहराइयों से ढेर सारा आशीर्वाद प्राप्त हुआ। यही कारण है कि मैंने अपने स्वयं के सिद्धांत और वर्तमान सरकार के दृढ़ संकल्प अपराध व अपराधी तथा भ्रष्टाचार व भ्रष्टाचारी पर जीरो टॉलरेंस की नीति पर पुरजोर लगातार काम कर रहा हूं।

SP ने सूचना के लिए जारी किए 2 निजी नंबर
एसपी ने कहा कि बुरे कामों में लिप्त लोगों और उनके सहयोगियों को मेरी सख्ती की वजह से निश्चित रूप से तनिक या अधिक पीड़ा जरूर होगी लेकिन गलत काम करने वालों पर सख्ती के साथ कानूनी कार्यवाई करना ही तो पुलिस का असली काम है और वह पुलिस करती रहेगी। उन्होंने जनता के सहयोग के लिए दो निजी नंबर 8941001786, 7839865855 भी जारी किए है। साथ ही जनता से अपील की है कि भ्रष्टाचार से संबंधित या पुलिस के दुर्व्यवहार से संबंधित कोई भी वीडियो या शिकायत है तो उनके निजी मोबाइल नंबर पर भेज सकते हैं। शिकायत करने के 24 घंटे से लेकर 72 घंटे के अंदर कार्यवाई सुनिश्चित की जाएगी।

भ्रष्ट पुलिस कर्मचारी-अधिकारी के खिलाफ भी होगी कार्रवाई: SP
अजय कुमार वायरल मैसेज में लिखा कि पुलिस जनों को सख्त से सख्त लहजे में बता दिया गया है कि किसी भी तरह की भ्रष्टाचार की यदि शिकायत मिलती है तो वह किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। इसके बावजूद भी यदि कोई पुलिस कर्मचारी अधिकारी भ्रष्टाचार में लिप्त पाया जाता है तो उसके खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की सुनिश्चित की जाएगी। यदि लेनदेन का विश्वसनीय वीडियो संज्ञान में आता है तो भ्रष्ट पुलिस कर्मचारी अधिकारी के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत तत्काल मुकदमा दर्ज कर जेल भेजा जाएगा।

 
 

Related posts

Top