रोहित शर्मा साउथ अफ्रीका के खिलाफ इस बेहद बुरे रिकॉर्ड के साथ टेस्ट में ओपनिंग करने उतरेंगे

 

नई दिल्ली। भारतीय वनडे और टी20 क्रिकेट टीम के ओपनर बल्लेबाज रोहित शर्मा (Rohit Sharma) टेस्ट मैचों में अब एक नए अवतार में दिखने वाले हैं। दरअसल रोहित का ये नया अवतार टीम इंडिया (Indian test team) की मजबूरी है क्योंकि इस वक्त टेस्ट मैचों के लिए भारतीय टीम में कोई भरोसेमंद ओपनर बल्लेबाज नहीं है। कईयों को आजमाने के बाद अब सेलेक्टर्स ने ये निर्णय ले लिया कि रोहित से ही ओपनिंग करवाकर देखते हैं क्या पता वो सिमित प्रारूप की तरह कोई कमाल कर जाएं।

वैसे तो रोहित वनडे और टी20 के बेहतरीन ओपनर बल्लेबाज हैं, लेकिन टेस्ट में वो खुद को एक बेहतरीन बल्लेबाज साबित करने के लिए अब भी जूझ रहे हैं। यहां पर रोहित के पास खुद का रिकॉर्ड सुधारने के साथ-साथ टेस्ट क्रिकेट में खुद को ओपनर बल्लेबाज के रूप में स्थापित करने का भी बेहतरीन मौका है। वैसे साउथ अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट क्रिकेट में रोहित का रिकॉर्ड निराश करने वाला रहा है।

साउथ अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट मैच में रोहित शर्मा

टेस्ट क्रिकेट में डेब्यू के बाद से अब तक रोहित शर्मा ने प्रोटियाज के खिलाफ कुल 6 टेस्ट मैच खेले हैं और इनकी 12 पारियों में उन्होंने 12.41 की बेहद साधारण औसत से सिर्फ 149 रन बनाए हैं। साउथ अफ्रीका के खिलाफ इनका बेस्ट स्कोर सिर्फ 47 रन है। रोहित 12 पारियों में दो बार शून्य पर आउट हो चुके हैं और इन मैचों में उन्होंने 14 चौके व 3 छक्के लगाए हैं।

भारत में प्रोटियाज के खिलाफ रोहित का टेस्ट में प्रदर्शन

वर्ष 2015 में जब साउथ अफ्रीका की टीम भारतीय दौरे पर आई थी तब रोहित शर्मा को दो टेस्ट मैच खेलने का मौका मिला था। रोहित को नागपुर और दिल्ली टेस्ट मैच के लिए अंतिम ग्यारह में शामिल किया गया था। नागपुर टेस्ट मैच की दो पारियों में उनके बल्ले से सिर्फ 2,23 रन निकले थे जबकि दिल्ली टेस्ट मैच में वो पहली पारी में एक रन पर और दूसरी पारी में बिना खाता खोले ही आउट हो गए। इन मैचों में उन्हें ओपनिंग करने का मौका नहीं मिला था। अब चार वर्ष के बाद हालात अलग हैं और रोहित की भूमिका भी इस बार बदल दी गई है। अब देखना ये है कि इस बदले हालात में वो अपने घरेलू माहौल का लाभ उठाकर रन बनाने में कामयाब हो पाते हैं या नहीं।

रोहित शर्मा का टेस्ट करियर

रोहित शर्मा का टेस्ट करियर जिस धमाकेदार अंदाज में शुरू हुआ था वो उस तरह से चल नहीं पाया। शुरुआती मैचों में रोहित ने खूब रन जुटाए, लेकिन बाद में क्रिकेट के सबसे लंबे प्रारूप में वो रन बनाने में कामयाब नहीं हो पाए। इसका अंदाजा इसी से लगता है कि साल 2013 में वेस्टइंडीज के खिलाफ अपने पहले दो टेस्ट में उन्होंने लगातार शतकीय पारी खेली और 177 और नाबाद 111 रन बनाए। इसके बाद उनके बल्ले से शतक वर्ष 2017 में यानी चार साल के बाद निकला। 19 टेस्ट के बाद वो श्रीलंका के खिलाफ नागपुर में अपने टेस्ट करियर का तीसरा शतक लगाने में कामयाब रहे। रोहित ने अब तक 27 टेस्ट मैचों में 39.62 की औसत से रन बनाए हैं और तीन शतक के साथ उनके नाम पर कुल 1585 रन है।

 

 
 
Top