जुलूस-जलसे पर रोक, ज्ञानवापी विवाद के चलते जुमे की नमाज पर पुलिस अलर्ट

जुलूस-जलसे पर रोक, ज्ञानवापी विवाद के चलते जुमे की नमाज पर पुलिस अलर्ट
  • काशी विश्वनाथ मंदिर-ज्ञानवापी मस्जिद परिसर का वीडियोग्राफिक सर्वेक्षण करने के लिए कोर्ट द्वारा गठित आयोग ने गुरुवार को अदालत को अपनी रिपोर्ट सौंप दी है, जिसमें कहा गया है कि सर्वे टीम के सदस्यों ने मस्जिद की इमारत में कमल, स्वस्तिक, त्रिशूल और घंटी के आकार जैसे हिंदू प्रतीक देखे.

नई दिल्ली: काशी विश्वनाथ मंदिर-ज्ञानवापी मस्जिद परिसर का वीडियोग्राफिक सर्वेक्षण करने के लिए कोर्ट द्वारा गठित आयोग ने गुरुवार को अदालत को अपनी रिपोर्ट सौंप दी है, जिसमें कहा गया है कि सर्वे टीम के सदस्यों ने मस्जिद की इमारत में कमल, स्वस्तिक, त्रिशूल और घंटी के आकार जैसे हिंदू प्रतीक देखे. रिपोर्ट में कहा गया है कि ज्ञानवापी मस्जिद के चार दरवाजे नई ईंटों से बंद कर दिए गए हैं. ज्ञानवापी मस्जिद विवाद के बीच शुक्रवार को जुमे की नमाज को लेकर पुलिस प्रशासन अलर्ट हो गया.

ज्ञानवापी मस्जिद विवाद के मद्देनजर शुक्रवार को जुमे की नमाज को देखते हुए प्रदेश भर में पुलिस को अलर्ट किया गया है. जुमे की नमाज को लेकर मुस्लिम इलाकों में ज्यादा सुरक्षा रहेगी. साथ ही जुलूस और जलसे पर रोक लगा दी गई है.

आपको बता दें कि ज्ञानवापी मस्जिद को लेकर इलाहाबाद हाईकोर्ट में शुक्रवार को दोपहर 12 बजे से सुनवाई होगी. इस दौरान स्वयंभू भगवान विशेश्वर यानी हिंदू पक्ष की ओर पेश दलीलें पेश की जाएंगी. पिछली सुनवाई पर हिंदू पक्ष की बहस पूरी नहीं हो सकी थी, सबसे पहले हिंदू पक्ष अपनी बची हुई बहस पूरी करेगा. उसके बाद दोनों मुस्लिम पक्षकार अपनी दलीलें पेश करेंगे.

अदालत को तय करना है कि 31 साल पहले 1991 में वाराणसी जिला कोर्ट में दायरवाद की सुनवाई हो सकती है या नहीं. मुस्लिम पक्ष का कहना है कि प्लेसेज आफ वरशिप एक्ट 1991 के तहत यह वाद नहीं चल सकता है. मस्जिद की इंतजामिया कमेटी और यूपी सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड इस केस में मुस्लिम पक्षकार है. दोनों पक्षकारों की ओर से कुल छह याचिकाएं दाखिल आगे की गई हैं. समय होने पर यूपी सरकार का पक्ष भी रखा जाएगा. जस्टिस प्रकाश पाडिया की सिंगल बेंच में मामले की सुनवाई होगी.


पत्रकार अप्लाई करे Apply