जगदानंद सिंह ही रहेंगे RJD प्रदेश अध्यक्ष, सिंगापुर जाने से पहले लालू ने कर दिया साफ

जगदानंद सिंह ही रहेंगे RJD प्रदेश अध्यक्ष, सिंगापुर जाने से पहले लालू ने कर दिया साफ
  • सत्ता में आने के बाद आरजेडी के नेता कार्यकर्ता का व्यवहार बदल गया है. ऐसे में जगदानंद सिंह सरीखे नेता ही उनपर लगाम लगा सकते हैं.

New Delhi : नीतीश मंत्रिमंडल से सुधाकर सिंह को मंत्री पद से हटाए जाने के बाद RJD से नाराज बताए जा रहे जगदानंद सिंह ने पार्टी से इस्तीफे की पेशकश की थी . इसके बाद से वह पार्टी के कार्यक्रम से लगातार दूरी बनाए हुए थे. यहां तक कि दिल्ली में आयोजित पार्टी की कार्यकारिणी में भी वह शामिल नहीं हुए थे. इसके बाद कहा जा रहा था कि आरजेडी ने भी उनका विकल्प चुन लिया है और जगदानंद सिंह की जगह अब्दुल बारी सिद्दीकी को पार्टी की कमान दी जा रही है. लेकिन अब जो बात सामने आ रही है उसके मुताबिक एकबार फिर लालू प्रसाद ने जगदानंद सिंह को मना लिया है और वह पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष पद पर बने रहेंगे.

पिछले दो महीने से पार्टी के लिए असहज स्थिति पैदा करने के बाद भी जगदानंद सिंह को प्रदेश अध्यक्ष बनाए रखने की वजह उनकी साफ सुथरी छवि के साथ उनका सख्त और अनुशासन प्रिय होना है. साथ ही वह ताउम्र पार्टी के वफादार रहे हैं.

अनुशासन प्रिय हैं जगदाबाबू

इधर सत्ता में आने के बाद आरजेडी के नेता कार्यकर्ता का व्यवहार बदल गया है. ऐसे में जगदानंद सिंह सरीखे नेता ही उनपर लगाम लगा सकते हैं. हाल के दिनों में पार्टी में दो ऐसी घटनाएं हुई, जिसके बाद लालू प्रसाद को यह निर्णय लेना पड़ा. दरअसल तेजस्वी यादव के जन्मदिन के मौके पर पार्टी कार्यालय में कार्यकर्ता अनियंत्रित हो गये थे तब उन्हें बड़ी मुश्किल से संभाला गया था. वहीं मंगलवार को आरजेडी ने जब जनता दरबार ‘सुनवाई’ कार्यक्रम की शुरूआत की तो यहां भी हंगामा हो गया तब आरजेडी कार्यकर्ताओं ने ही भेदभाव का आरोप लगाया.

सवर्ण विरोधी होने का लगता आरोप

इससे साथ ही लालू प्रसाद यह नहीं चाहते हैं कि जगदाबाबू के हटने से पार्टी पर फिर सवर्ण विरोधी होने का आरोप लगे. जबकि तेजस्वी यादव A टू Z राजनीति की बात कर रहे हैं. इधर जगदानंद सिंह के प्रदेश अध्यक्ष पद छोड़ने की चर्चा के बाद से ही बीजेपी हमलावर हो गई थी और लालू यादव को सवर्ण विरोधी बता रही थी.

लालू से नहीं नीतीश से नाराज हैं जगदाबाबू

जगदानंद सिंह की नाराजगी लालू प्रसाद या तेजस्वी यादव से नहीं बल्कि नीतीश कुमार से है. जगदानंद सिंह नीतीश मॉडल के विरोधी हैं. बताया जा रहा है कि मुलाकात के दौरान जगदानंद सिंह ने लालू को बताया कि नीतीश की नाकामयाबी का ठीकरा चुनाव में आरजेडी पर फूट सकता है. इसलिए पार्टी को अपने मुद्दे को सरकार पर हावी रहने देना चाहिए. लालू यादव ने भी जगदानंद सिंह से सहमत जताई है.


पत्रकार अप्लाई करे Apply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *